Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > लखनऊ > कांग्रेस के युवराज याद रखें आपकी सरकार में सिखों का नरसंहार हुआ था : सिद्धार्थ नाथ

कांग्रेस के युवराज याद रखें आपकी सरकार में सिखों का नरसंहार हुआ था : सिद्धार्थ नाथ

कांग्रेस के युवराज याद रखें आपकी सरकार में सिखों का नरसंहार हुआ था : सिद्धार्थ नाथ
X

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार के मंत्री व प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ ने राहुल गांधी को 1984 के सिख दंगों को याद दिलाते हुए कहा कि नरसंहार तो कांग्रेस की इंदिरागांधी सरकार में सिख भाइयों बहनों पर हुआ था।

इशारों में ही भाई बहन के बीच राजनीतिक प्रतियोगिता के संकेत देते हुए मंत्री सिंह ने कहा कि प्रियंका गांधी के बाद राहुल गांधी ने मैं भी हूं न के साथ लखीमपुर पर्यटन के लिए जाने की जिद कर रहे हैं। राहुल गांधी के मैं भी हूं न के अभियान में अन्य नेता भी घटना स्थल पर जाने की कोशिश कर रहे हैं। उन्हें यह पता होना चाहिए कि उत्तर प्रदेश में भाजपा गठबंधन की योगी अदित्यनाथ सरकार है। योगी सरकार में इस पूरी घटना की तह तक जांच की जाएगी और दोषियों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इसलिए किसी भी वहां जाने की इजाजत नहीं दी जाएगी। जिन लोगों को किसान परिवारों के प्रति सहानुभूति है, वह कुछ दिन बाद जा सकते हैं।

घटना दुर्भाग्यपूर्ण -

योगी सरकार के मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने बुधवार को अपने सरकारी आवास पर पत्रकारों के बातचीत करते हुए लखीमपुर घटना को लेकर सरकार का पूरा पक्ष रखा। उन्होंने कहा कि घटना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। ऐसा नहीं होना चाहिए था। भाजपा गठबंधन की योगी आदित्यनाथ सरकार बेहद संवेदनशील सरकार है। घटना घटते ही तुरंत वहां उच्चाधिकारियों की टीम भेजी गयी। उन लोगों के माध्यम से वहां की स्थिति को सामान्य की गई। घटना से जुड़े तथ्य एकत्रित करो, तथ्य सामने लाने और फिर जांच की प्रक्रिया शुरू है। योगी सरकार सच को सामने लाने के लिए प्रतिबद्ध है। हम सच सामने लेकर आएंगे। जो भी दोषी हैं, उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। चाहे वह राजा हो या रंक। उसके साथ कानून के हिसाब से ही सलूक किया जाएगा।

माहौल को बिगाड़ने की किसी को इजाजत नहीं -

मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि विपक्ष नकारात्मक रवैया दिखा रहा है। संवेदनशील माहौल में संवेदनशील मुद्दे के ऊपर उनको घर बैठकर ट्विटर पर राजनीति करने का मौका मिलता है। वहां फोटो सेशन करवाने और फोटो सोशल मीडिया पर चलाने का ही उनका मकसद रह जाता है। कोई बाधा न पड़े इसलिए कानून के तहत सरकार ने कुछ कदम उठाए हैं। विपक्ष से प्रार्थना भी की है कि आप लोग मत जाइए। इससे कानून-व्यवस्था बिगड़ेगी। लखीमपुर अगर आपको जाना है, तो बाद में चले जाइएगा। आप कुछ दिन बाद उनके परिवार से मिल सकते हैं। उनके प्रति संवेदना व्यक्त कर सकते हैं लेकिन अभी जाने की स्थिति नहीं है। माहौल को बिगाड़ने के लिए किसी को इजाजत नहीं दी जाएगी।

राहुल गांधी पर कटाक्ष -

सिद्धार्थ नाथ सिंह ने राहुल गांधी पर हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस के नंबर एक परिवार के युवराज को जोश आया है। उन्होंने सोचा कि बहन तो है ही, मैं कहां हूं। इसलिए मैं भी हूं न के साथ वह भी पर्यटन करने के लिए निकल रहे हैं। एक डेलिगेशन लेकर निकले जब इजाजत नहीं मिली तो उन्होंने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की और तथ्यहीन बातें की।

कांग्रेस के युवराज उस वक्त बहुत छोटे रहे होंगे। उन्हें याद करना चाहिए। वह भूल जाते हैं लेकिन इतिहास गवाह है कि आजाद देश में कांग्रेस के कार्यकाल में ही सिखों पर नरसंहार हुआ था। वह नरसंहार आपातकाल लगाकर किया गया है। आपातकाल एक तानाशाही फैसला था। इंदिरा गांधी की जब हत्या हुई तो सिखों पर नरसंहार किया गया था। भारतीय जनता पार्टी उस समय सिख समुदाय के साथ खड़ी थी। उन्हें बचाने के लिए लड़ रही थी। आज जब प्रधानमंत्री सीएए बिल लाते हैं तो कांग्रेस एंटी सीएए अभियान चलाती है। सीएए के तहत अफगानिस्तान और पाकिस्तान से कहीं किसी को लाभ मिलता है तो वह ज्यादातर सिख समुदाय के लोगों को मिलता है। सिख भाइयों बहनों को मिलता है। उसका विरोध आप लोगों ने किया। युवराज को नहीं भूलना चाहिए कि सिखों पर नरसंहार उन्हीं की सरकार नहीं हुआ था।

Updated : 2021-10-12T15:36:22+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top