Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > लखनऊ > कोविड संक्रमण पर रोक लगाने को फील्ड पर नोडल अधिकारी

कोविड संक्रमण पर रोक लगाने को फील्ड पर नोडल अधिकारी

नोडल अधिकारी डॉ. रौशन जैकब ने बुधवार को सीएचसी गोसाईंगंज एवं मोहनलालगंज का निरीक्षण किया।

कोविड संक्रमण पर रोक लगाने को फील्ड पर नोडल अधिकारी
X

लखनऊ: नोडल अधिकारी डॉ. रौशन जैकब ने बुधवार को सीएचसी गोसाईंगंज एवं मोहनलालगंज का निरीक्षण किया। उन्होंने ग्राम पंचायत रहमतनगर एवं पंचायत भवन खुजौली में कोविड संबंधी कार्यों का मुआयना किया। इस दौरान सीडीओ/प्रभारी आईसीसीसी, सीएमओ, एसडीएम मोहनलालगंज, बीडीओ गोसाईगंज, बीडीओ मोहनलालगंज एवं सीएचसी अधीक्षक गोसाईंगंज एवं सीएचसी अधीक्षक मोहनलालगंज उपस्थित रहे।




सीएचसी गोसाईंगंज के अधीक्षक डॉ. हेमंत कुमार ने बताया गया कि क्षेत्र में 3 आरआरटी टीमें एवं 2 चेतक टीमें टेस्टिंग का कार्य कर रही हैं। इनके द्वारा 14 मई से वर्तमान तक कुल 2,107 जांचें की गयी हैं। इसमें से 8 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए हैं। सीएमओ ने सीएचसी को 218 आरटीपीसीआर टेस्ट प्रतिदिन का लक्ष्य दिया है। सीएचसी में कुल 8 एलटी हैं। नोडल अधिकारी ने निर्देश दिए कि लैब टेक्नीशियन के सापेक्ष आरआरटी टीम की संख्या कम हैं। अतः घर-घर टेस्टिंग कराने एवं संख्या बढ़ाने हेतु आरआरटी एवं चेतक टीमों की संख्या बढ़ाई जाए। प्रत्येक आरआरटी टीम में एक एलटी ही रहे तथा दूसरे सदस्य, स्टाफ नर्स, आंगनबाड़ी, आशा बहू हों। नोडल अधिकारी ने कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग पर विशेष ध्यान दिए जाने के भी निर्देश दिए।

सीएचसी अधीक्षक डॉ. हेमंत कुमार बताया कि 45 मरीज होम आईसोलेशन में रह रहे हैं, जिन्हें समय से मेडिकल किट उपलब्ध कराई गई है। सीएचसी सामुदायिक पर दवा की कोई कमी नहीं है। मेडिकल किट में बी-कॉम्प्लेक्स, जिन्क, विटामिन डी3, विटामिन सी, एजिथ्रोमाइसीन, आइवरमेक्टिन आदि दवा उपलब्ध कराई जाती है। कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग एवं टेस्टिंग का कार्य भी हो रहा है। सीएचसी में नवनिर्मित अस्पताल की बिल्डिंग का नोडल अधिकारी ने निरीक्षण किया। इस दौरान सीएमओ नर बताया कि अस्पताल का निर्माण कार्य मार्च में पूर्ण हुआ है। अस्पताल की बेड क्षमता 50 है। भवन में वैक्सीनेशन का कार्य किया जा रहा था। अधीक्षक ने बताया कि कुल 8,969 वैक्सीन लगाई जा चुकी हैं। नोडल अधिकारी ने भवन निर्माण कार्य की गुणवत्ता पर संतोष व्यक्त कर ऑक्सीजन पाइपलाइन कनेक्शन कराए जाने एवं भवन में कोविड-19 के लिए आवश्यक व्यवस्था जल्द कराने के निर्देश दिए।

सीएचसी पर समीक्षा बैठक के नोडल अधिकारी ने ग्राम रहमतनगर में पंचायत भवन का कोविड-19 से संबंधित कार्यों का निरीक्षण किया। पंचायत भवन में 4 आशा बहू मिलीं। उन्होंने बताया कि ग्राम पंचायत में 4 टीमें कार्य कर रही हैं, जिनके द्वारा घर-घर जाकर सर्वे किया जाता है एवं एवं अधिक लक्ष्ण वाले व्यक्तियों को मेडिकल किट उपलब्ध कराई जाती है। इस पर नोडल अधिकारी ने निर्देश दिया कि मेडिकल किट एवं दवाइयों की कोई कमी नहीं है। अतः हल्के लक्ष्ण वाले व्यक्तियों को भी मेडिकल किट उपलब्ध कराई जाए एवं घर-घर जाकर सर्वे का कार्य कराया जाए। लोगों को टेस्ट कराने हेतु प्रेरित किया जाए।



इसके बाद नोडल अधिकारी ने कोविड पॉजिटिव धनात्मक संग्राम सिंह से बातचीत की। उन्होंने अवगत कराया कि 15 मई को टेस्ट कराया था। जिसकी रिपोर्ट 16 मई को आई, जिसमें वे और उनकी पत्नी उर्मिला सिंह पॉजिटिव पाए गए। इसके बाद उन्हें समय से मेडिकल किट प्राप्त हुई है। ग्राम प्रधान ने बताया कि कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग हेतु संग्राम सिंह के परिवार व घर के आस-पास के 26 लोगों की जांच कराई गई। बीडीओ ने बताया कि रहमतनगर में 2 बार सेनेटाईजेशन कराया गया है। अन्य ग्राम पंचायतों में सेनेटाइजेशन एवं साफ-सफाई कराई जा रही है। नोडल अधिकारी ने निर्देश दिए कि नालियों की साफ-सफाई कराई जाए। यदि कहीं कूड़ा हो तो हटवाया जाए, जलभराव का निस्तारण कराकर सेनेटाइजेशन का कार्य कराया जाए।

नोडल अधिकारी ने पंचायत भवन खुजौली का निरीक्षण किया। इस दौरान पंचायत भवन में आरआरटी टीम टेस्टिंग कर रही थी। मौके पर 3 आशा बहू एवं 2 एएनएम उपस्थित थीं। आशा बहू ने बताया कि खुजौली में 3 टीमें गठित हैं, जिनके द्वारा घर-घर जाकर सर्वे किया जा रहा है। लक्ष्णात्मक व्यक्तियों को मेडिकल किट उपलब्ध कराई जा रही है। आशा बहुओं के पास 2-3 मेडिकल किट मिलीं। इस पर नोडल अधिकारी ने निर्देश दिए कि बीमार व्यक्तियों की जांच घर पर ही की जाए। जांच के लिए व्यक्तियों को लक्षण के अनुसार मेडिकल किट उपलब्ध कराई जाए। आशा बहुओं को कम से कम 10-10 मेडिकल किट उपलब्ध कराई जाएं, जिससे अधिक से अधिक लक्षणात्मक व्यक्तियों को दवा का वितरण किया जा सके।

इसके बाद नोडल अधिकारी ने सीएचसी मोहनलालगंज का निरीक्षण किया। अधीक्षिका डॉ. ज्योती कामले ने बताया कि यहां 7 एलटी हैं। 7 आरआरटी टीमें ब्लॉक में कार्य कर रही हैं। जिसमें 2 चेतक, 1 स्टेटिक एवं 4 मोबाइल टीमें गठित हैं। इनके जरिए 228 एन्टीजेन एवं 202 आरटीपीसीआर टेस्ट रोजाना किए जा रहे हैं। अभी कोई धनात्मक नहीं पाया गया। सीएमओ ने बताया कि सीएचसी के लिए 400 एन्टीजेन एवं 300 आरटीपीसीआर का लक्ष्य है। नोडल अधिकारी नर निर्देश दिए कि प्रति टीम टेस्टिंग की संख्या बहुत कम है, इसे बढ़ाया जाए। आरटीपीसीआर टेस्ट अधिक मात्रा में किए जाएं। कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग हेतु धनात्मक व्यक्तियों के परिवार एवं आस-पास के कम से कम 20-25 लोगों की टेस्टिंग की जाए। यह सुनिश्चित हो कि कहीं भी कोविड केसेज की क्लस्टरिंग न हो।

मेडिकल किट के वितरण के लिए नोडल अधिकारी ने निर्देश दिए कि प्रति आशा बहू को कम से कम 10 मेडिकल किट उपलब्ध कराई जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि अधिक से अधिक लक्षणात्मक व्यक्तियों को मेडिकल किट प्राप्त हो। मेडिकल किट का दुरुपयोग न हो। मेडिकल किट का उपयोग जरूरतमंद द्वारा ही किया जाए, जिसमें लेखपाल व सचिव की भूमिका आवश्यक है। एसडीएम को निर्देश दिए कि जिन व्यक्तियों को मेडिकल किट वितरित की गई है उनकी सूची प्राप्त कर उन्हें मेडिकल किट प्राप्ति की पुष्टि की जाए।बीडीओ को निर्देशित किया गया कि ग्रामों में साफ-सफाई का अभियान चलाकर सेनेटाइजेशन का कार्य भी कराया जाए ताकि कोविड के साथ ही अन्य बीमारियों से भी बचाव हो सके।

सीएचसी बिल्डिंग का नोडल अधिकारी ने निरीक्षण किया। भवन में वैक्सीनेशन का कार्य किया जा रहा था। अधीक्षक ने बताया कि 200 लक्ष्य के सापेक्ष 179 व्यक्तियों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। रोजाना 180-190 व्यक्तियों को वैक्सीन लगाई जाती है। नोडल अधिकारी ने अस्पताल के प्रथम एवं द्वितीय तल पर स्थित कक्षों का निरीक्षण किया, जिसमें ऑक्सीजन पाइपलाइन कनेक्शन, कंसन्ट्रेटर एवं उपकरणों की व्यवस्था करवाकर 10 बेड का कोविड-19 वार्ड तैयार कराने के निर्देश दिए गए।

Updated : 19 May 2021 3:54 PM GMT
Tags:    

Swadesh Lucknow

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top