Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > लखनऊ > प्रदेश में स्कूल चलो अभियान के तहत अब तक 1.90 करोड़ बच्चों का नामांकन

प्रदेश में स्कूल चलो अभियान के तहत अब तक 1.90 करोड़ बच्चों का नामांकन

प्रदेश में स्कूल चलो अभियान के तहत अब तक 1.90 करोड़ बच्चों का नामांकन
X

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में बेसिक शिक्षा विभाग को शैक्षिक सत्र 2022-23 में 2.0 करोड़ बच्चों के नामांकन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। अब तक स्कूल चलो अभियान के अन्तर्गत जनपदों द्वारा नामांकन बढ़ाये जाने की दिशा में सराहनीय प्रयास किया गया है और अब तक दो करोड लक्ष्य के सापेक्ष लगभग 1.90 करोड़ बच्चों का नामांकन किया जा चुका है। यह जानकारी प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा दीपक कुमार ने दी।

प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा ने बताया कि जनपदों में संचालित ईंट-भट्ठों पर कार्यरत श्रमिकों के बच्चे प्रायः शिक्षा के अवसर से वंचित रह जाते हैं। इसलिए समस्त जिलाधिकारियों द्वारा जनपद में संचालित ईंट-भट्ठों के मालिकों की एक बैठक बुलाकर उनके भट्ठों पर कार्यरत श्रमिकों के 06 से 14 आयु वर्ग के बच्चों को अनिवार्य रूप से समीप के प्राथमिक या उच्च प्राथमिक विद्यालयो में नामांकित कराए जाने हेतु प्रेरित किया जाये। इसके अलावा असेवित बस्तियों, बाजारों, रेलवे स्टेशनों पर एवं रेल पटरियों के किनारे बसने वाले परिवारों, झुग्गी-झोपडी, बस स्टैंड ओवरब्रिज के नीचे रहने वाले परिवारों आदि को विशेष रूप से फोकस करते हुए डीएलएड प्रशिक्षुओं की टीम लगाकर सर्वे कराया जाय एवं 06-14 आयुवर्ग के शत-प्रतिशत बच्चों का नामांकन कराया जाय।

उन्होंने बताया कि पूर्वांचल के जनपदों में पाये जाने वाले मुसहर समुदाय, गोरखपुर मंडल के जनपदों में पाये जाने वाले बनटांगिया समुदाय, तराई क्षेत्र के जनपदों में पाये जाने वाले थारू समुदाय तथा बुन्देलखंड क्षेत्र के जनपदों में सहरिया एवं कंज़र समुदाय के लोग निवास करते है। इन समुदाय के परिवारों में शिक्षा के प्रति जागरुकता बहुत कम है तथा इन समुदाय के परिवार के बच्चों में विद्यालय न जाने की प्रवृत्ति होती हैं।

प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा ने सभी जनपदों के जिलाधिकारियों को आवश्यक निर्देश देते हुए कहा है कि 06-14 वर्ष की आयु वर्ग के शत-प्रतिशत बच्चों का विद्यालयों में नामांकन तथा नामांकित बच्चों का प्रेरणा पोर्टल पर पंजीकरण एव उनका आधार प्रमाणीकरण कराया जाना सुनिश्चित करायें।प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा ने बताया कि जिन जनपदों में क्लस्टर के रूप में परम्परागत कुटीर एवं लद्यु उद्योग/सूक्ष्म उद्योग स्थापित हैं। उन जनपदों में क्लस्टरों को चिह्नित कराते हुए वहां हाउस होल्ड सर्वे के माध्यम से 06-14 आयु वर्ग के बालक-बालिकाओं का चिह्नांकन एवं नामांकन कराया जाय।

Updated : 2022-07-14T12:52:23+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top