Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > लखनऊ > कोरोना के प्रति लापरवाही बर्दाश्त नहीं, मरीजों से न होने पाए दुर्व्यवहार: CM योगी

कोरोना के प्रति लापरवाही बर्दाश्त नहीं, मरीजों से न होने पाए दुर्व्यवहार: CM योगी

सीएम ने अधिकारियों से कहा कि कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए अन्‍य अस्पतालों को भी रिजर्व करें। कोरोना के मरीजों को बेहतर इलाज मुहैया कराएं। जांच का भी दायरा बढ़ाएं।

कोरोना के प्रति लापरवाही बर्दाश्त नहीं, मरीजों से न होने पाए दुर्व्यवहार: CM योगी
X

लखनऊ/प्रयागराज: कोविड-19 को लेकर उच्च न्यायालय इलाहाबाद की तरफ से मिले दिशा-निर्देश के बाद सूबे की सरकार की ओर से सक्रियता बढ़ा दी गई है। कमान अपने हाथों में लेते हुए प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ अपनी टीम के साथ शुक्रवार दोपहर 12 बजे प्रयागराज पहुंचे। राजकीय हेलीकाप्टर से पुलिस लाइन पहुंचने के बाद उन्‍होंने आईआईआईटी सभागार में कोरोना से बचाव के लिए हो रहे प्रयासों की समीक्षा की।

इस दौरान सीएम ने अधिकारियों से कहा कि कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए अन्‍य अस्पतालों को भी रिजर्व करें। कोरोना के मरीजों को बेहतर इलाज मुहैया कराएं। जांच का भी दायरा बढ़ाएं। जो सुविधाएं चाहिए, उसकी मांग करें उसे पूरा किया जाएगा। मरीजों के इलाज में किसी तरह की कमी नहीं होनी चाहिए।

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि मास्क पहनने, फिजिकल डिस्टेंस का पालन करने और सैनिटाइज करने के लिए लोगों को प्रेरित करें लेकिन उनके साथ कोई दुर्व्‍यवहार न किया जाए। कंटेक्ट ट्रेसिंग का भी दायरा बढ़ाया जाए। उन्होंने कहा कि बचाव और इलाज के लिए जो भी संभव हो, सभी तरह के प्रयास करें। इसमें किसी भी तरह की लापरवाही नहीं होनी चाहिए।

जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी ने जिले में कोविड 19 की स्थिति से अवगत कराया। जिलाधिकारी ने मुख्यमंत्री को बताता कि पिछले तीन दिन से कोरोना के मामले एक हजार के पार चल रहे हैं। कोरोना की दूसरी से ज्यादा लोग संक्रमित हो रहे हैं। लेकिन मौत का आकड़ा कम है। कोशिश है कि इससे लोगों की मौत न हो। इसके लिए अस्पतालों की व्यवस्थाएं बढ़ाई जा रही है। लोगों को कोरोना से बचाव के तरीके अपनाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। रात का कर्फ्यू भी लगा दिया गया है।

योगी आदित्‍यनाथ ने स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल (एसआरएन) के कोविड वार्ड का निरीक्षण भी किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि कोरोना के मरीजों के साथ डाक्टर और स्वास्थ्यकर्मी शालीनता से पेश आए। ऐसा कोई काम नहीं करें जिससे मरीज को परेशानी हो। जो भी गंभीर मरीज हैं, उनको भर्ती करें और गम्भीरता के साथ इलाज करें।

Updated : 2021-04-09T18:29:24+05:30
Tags:    

Swadesh Lucknow

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top