Top
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > लखनऊ > मुख्यमंत्री योगी ने मिशन रोजगार के तहत 3,209 नलकूप चालकों को दिए नियुक्ति पत्र

मुख्यमंत्री योगी ने मिशन रोजगार के तहत 3,209 नलकूप चालकों को दिए नियुक्ति पत्र

मुख्यमंत्री योगी ने मिशन रोजगार के तहत 3,209 नलकूप चालकों को दिए नियुक्ति पत्र
X

लखनऊ। प्रदेश में 'मिशन रोजगार' की दिशा में एक और अहम कदम बढ़ाते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग के नवचयनित 3,209 नलकूप चालकों को नियुक्ति पत्र वितरित किए।

इस मौके पर उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार में भर्ती प्रक्रिया पर कोई उंगली नहीं उठा सकता है। किसी भी अन्य सरकार की तुलना में इस दिशा में हमारी एक नई पहचान बन रही है। हम भेदभाव किसी के साथ नहीं करेंगे। अन्याय किसी के साथ नहीं होने देंगे। शोषण किसी का नहीं होने देंगे और पूरे पारदर्शी तरीके से चयन की प्रक्रिया को आगे बढ़ाने का कार्य करेंगे।मुख्यमंत्री ने कहा कि इसी का परिणाम है कि हमने पुलिस विभाग में 1.37 लाख से अधिक भर्तियां की और वह सभी प्रदेश की जनता को सुरक्षित माहौल देने का कार्य कर रहे हैं। इसी तरह लगभग एक लाख बेसिक शिक्षा विभाग में शिक्षकों के चयन की प्रक्रिया को पूरा किया और उन्हें नियुक्ति पत्र देकर प्रदेश के अंदर शिक्षा की गुणवत्ता को बनाए रखने का कार्य किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा इसी तरह माध्यमिक शिक्षा, उच्च शिक्षा, स्वास्थ्य विभाग और अन्य सभी विभागों में भी नियुक्ति की प्रक्रिया इसी शानदार तरीके से आगे बढ़ाया जा रहा है।

निजी सेक्टर में 15 लाख लोगों को रोजगार से जोड़ने का हुआ काम

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम कुछ ही दिनों में 04 लाख से अधिक अधिक सरकारी नियुक्ति की प्रक्रिया को पूरा कर देंगे। उन्होंने कहा यह कार्य हमारा केवल सरकारी विभागों तक सीमित नहीं है। पिछले तीन साढ़े तीन वर्षों में हम लोगों ने 15 लाख से अधिक लोगों को निजी क्षेत्र में भी नौकरियों, रोजगार से जोड़ा है। डेढ़ करोड़ से अधिक नौजवानों को स्वरोजगार के साथ जुड़ा है। बैंकों के साथ जोड़कर उन्हें ऋण उपलब्ध कराया जा रहा है, जिससे वह स्वाबलम्बन की ओर अग्रसर हो कर उत्तर प्रदेश के विकास में अपना योगदान दे सकें।

कोरोना संक्रमण काल में भी जारी रही भर्ती प्र​क्रिया -

प्रदेश सरकार के मुताबिक चार सालों के भीतर ही चार लाख नौकरियां देने के रिकार्ड की तरफ योगी सरकार बढ़ रही है। मख्यमंत्री ने भर्ती प्रक्रियाओं में पूरी शुचिता और पारदर्शिता बरतने के आदेश दिया है। अदालत ने भी उत्तर प्रदेश की भर्ती प्रक्रिया की सराहना की है। हाल ही में सहायक शिक्षक भर्ती मामले अदालत ने सरकार के पक्ष को सही ठहराते हुए इसे जल्द पूर्ण करने का आदेश दिया था। खास बात है कि कोरोना संक्रमण काल में जब सारी गतिविधियां ठप हो गई थी, तब भी प्रदेश में भर्ती प्रक्रिया नहीं थमी और इस दिशा में तेजी से कार्य चलता रहा। उत्तर प्रदेश कोरोना संक्रमण काल में सबसे ज्यादा नौकरी और रोजगार देने वाला प्रदेश बना। नियुक्ति के नाम पर अब कहीं किसी को सिफारिश कराने की आवश्यकता नहीं है। किसी के साथ कोई भेदभाव नहीं हो रहा है।

पुलिस विभाग में सबसे ज्यादा 1.37 लाख युवाओं को​ मिली नौकरी

प्रदेश में सरकारी महकमों में प्रमुख रूप से हुई भर्तियों पर नजर डालें तो अब तक 3,31,803 पदों पर युवा नौकरी हासिल कर चुके हैं। इनमें पुलिस विभाग में 1,37,253, बेसिक शिक्षा विभाग में 85,983, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन में 28,622, यूपी लोक सेवा आयोग में 26,103, अधीनस्थ सेवा में 16,708, माध्यमिक शिक्षा में 14,000, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण में 8,556, यूपी पावर कारपोरेशन में 6,446 पदों पर भर्तियां की गई हैं।इसके अलावा अन्य महकमों में 8,132 भर्तियां हो चुकी हैं। इनमें उच्च शिक्षा में 4,615, चिकित्सा शिक्षा में 1,112 सहकारिता में 726, नगर विकास में 700, वित्त विभाग में 614 और तकनीकी शिक्षा में 365 भर्तियों के जरिए युवाओं को नौकरी मिली है।

Updated : 9 Dec 2020 8:29 AM GMT
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top