Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > लखनऊ > संविधान दिवस पर मुख्यमंत्री की वकीलों को सौगात, डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में बनेंगे चैम्बर

संविधान दिवस पर मुख्यमंत्री की वकीलों को सौगात, डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में बनेंगे चैम्बर

संविधान दिवस पर मुख्यमंत्री की वकीलों को सौगात, डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में बनेंगे चैम्बर
X

लखनऊ। देश के 71वें संविधान दिवस पर प्रदेश के लोगों को बधाई देते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वकीलों और न्यायालय आने वाले वादियों को बड़ी सौगात दी है। उन्होंने हाई कोर्ट से डिस्ट्रिक्ट कोर्ट तक सभी जिलों में वकीलों के लिए चैम्बर बनाए जाने और न्यायालय आने वाले वादियों के लिए भी उचित व्यवस्थाएं किए जाने की घोषणा की है।

उन्होंने कहा कि संविधान ने हम सभी को समान मताधिकार और अधिकार प्रदान किए हैं। इसलिए हमें संविधान के ग्रंथ को भी अपने घरों मे वैसे ही रखना चाहिये हम जैसे धार्मिक ग्रंथ को रखते हैं, जिससे हर एक भारतीय के मन में संविधान के प्रति सम्मान जागृत हो सके। उन्होंने कहा कि सभी के लिए अपने धर्म के साथ राष्ट्र का भी एक धर्म है।मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि अधिवक्ताओं के हितों की रक्षा के लिए भी हमने कार्य किया। प्रदेश में अधिवक्ता कल्याण निधि को डेढ़ से 5 लाख किया गया। उन्होंने कहा कि यूपी विधानसभा ने संविधान के मूल्यों पर विशेष सत्र भी आयोजित किये।

सीएम योगी ने कहा कि भारत के संविधान की मूल प्रति को देख कर लगता है कि संविधान निर्माता कितना दूरदर्शी रहे होंगे। अगर इसे भारत की आत्मा कहा जाये तो गलत नहीं होगा। सीएम योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने बाबा साहेब की स्मृति में स्मारक की आधारशिला रखी। 26 नवम्बर 2015 को देश मे पहली बार संविधान दिवस पूरे धूमधाम से मनाया गया। भारत के संविधान का संरक्षक भारत की जनता को माना गया।

योगी ने कहा कि आजादी के समय कुछ लोग ऐसे भी थे जो अंग्रेजों के पिट्ठू बनकर भारत को एक नहीं रखना चाहते थे। ऐसे समय एक बड़ा तबका भारत को एक भारत के रूप में रखने का काम कर रहा था। उन्होंने कहा कि भारत का वर्तमान स्वरूप बनाना बड़ा कठिन कार्य रहा होगा। 9 दिसम्बर 1946 को संविधान की बैठक हुई थी। जहां पर बाबा साहब को संविधान की प्रारूप समिति का अध्यक्ष बनाया गया, तब जाकर संविधान अपना रूप लेता है

आज यूपी की कानून व्यवस्था नजीर बन गई -

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि कुछ लोग देश को एक भारत श्रेष्ठ भारत के रूप में आगे नहीं बढ़ने देना चाहते। उन्होंने कहा कि 2017 से पहले यूपी के नागरिकों को संदेह की नजर से देखा जाता था। यूपी को बीमारू प्रदेश समझा जाता था लेकिन लेकिन अब स्थितियां बदल गयी हैं। हमने प्रदेश में रूल ऑफ लॉं लागू किया। आज यूपी की कानून व्यवस्था नजीर बन गई है। उत्तर प्रदेश पहले जहां अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग पायदान पर पाया जाता था वहीं अब वो देश की 44 योजनाओं में नम्बर एक पर है। आम जन में देश और प्रदेश के प्रति सम्मान बढ़ा है। यूपी निवेश की भारी संभावनाओं से भरा है। उत्तर प्रदेश आज निवेशकों की पसंद है। आज उत्तर प्रदेश 44 योजनाओं में देश में नम्बर 1 है। डीजी कॉन्फ्रेंस में यूपी के मॉडल को भी सराहा गया है।

Updated : 2021-11-29T13:40:22+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top