Top
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > लखनऊ > मायावती ने कांशीराम को दी श्रद्धांजलि, कहा- उप्र में अकेले चुनाव लड़ेंगे

मायावती ने कांशीराम को दी श्रद्धांजलि, कहा- उप्र में अकेले चुनाव लड़ेंगे

मायावती ने कांशीराम को दी श्रद्धांजलि, कहा- उप्र में अकेले चुनाव लड़ेंगे
X

लखनऊ। उप्र में आगामी वर्ष में होने वाले विधानसभा चुनाव में विपक्षी दलों ने तैयारियां शुरू कर दी है। समाजवादी पार्टी के बाद अब बहुजन समाज पार्टी ने भी आगामी चुनाव में किसी भी दल से गठबंधन नहीं करने की बात कही हैं। पूर्व सीएम और बसपा प्रमुख मायावती ने कहा की आगामी चुनाव हम अकेले लड़ेंगे।

मायावती यहां पार्टी संस्थापक कांशीराम की 87वीं जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद मीडिया को सम्बोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि हम चुनाव को लेकर अंदर ही अंदर काम कर रहे हैं। हम किसी से ज्यादा रणनीति का खुलासा नहीं करते। बसपा प्रदेश की सभी 403 विधानसभा सीटों पर पूरे दम के साथ चुनाव लड़ेगी और अच्छे परिणाम देगी।मायावती ने कहा कि हमारी पार्टी के नेता, कार्यकर्ता और हमारा वोटर बेहद अनुशासित है। देश की अन्य पार्टियों के साथ ऐसा नहीं है। उन्होंने कहा कि किसी दल के साथ भी गठबंधन में हमारा वोट तो उसे ट्रांसफर हो जाता है, जबकि दूसरी पार्टी का वोट बसपा को नहीं मिल पाता है। यह बेहद ही खराब तथा कड़वा अनुभव है। इसलिए हमने गठबंधन नहीं करने का निर्णय किया है।

उन्होंने कहा कि देश के कई राज्यों में विधानसभा के चुनाव हो रहे हैं। हमारी पार्टी केरल, पश्चिम बंगाल, पुडुचेरी और तमिलनाडु में भी चुनाव अकेले अपने बलबूते पर लड़ रही है। हमारी पार्टी इन चार राज्यों में किसी भी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं करेगी। मायावती ने अपने समर्थकों से कहा कि विरोधी दलों के साम, दाम, दंड और भेद के हथकंडे से सावधान रहें और पार्टी को चुनाव में अच्छी सफलता दिलाकर बसपा मूवमेंट को सफल बनाएं। यही पार्टी संस्थापक कांशीराम को सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

बसपा अध्यक्ष ने केन्द्र सरकार से कृषि से जुड़े तीनों कानून वापस लेने की मांग एक बार फिर दोहराई। उन्होंने कहा कि जब देश के किसान केन्द्र सरकार के कृषि कानूनों से सहमत नहीं हैं तो केन्द्र सरकार को कानूनों को वापस लेना चाहिए। जिन किसानों की इस आन्दोलन में मृत्यु हुई है, उनके परिवारों को केन्द्र और राज्य सरकारों को उचित आर्थिक सहायता और परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देनी चाहिए।

बसपा राज में चीनी मिलों के बिकने के प्रश्न पर मायावती ने कहा कि किस संस्था के साथ क्या किया जाना है, यह निर्णय सत्ता में रहने वाली सरकार करती है। चीनी मिलों को बेचने का फैसला कैबिनेट ने किया था। यह सरकार का सामूहिक फैसला था, यह किसी एक मंत्री की जिम्मेदारी नहीं। यह मंत्रालय भी दूसरे मंत्री के पास था। मायावती ने दावा किया कि बसपा ने अपने काम को लगातार आगे बढ़ाने के लिए समाज को अपना सब कुछ दिया है। जिससे कि दलितों, शोषितों, आदिवासियों, पिछड़े वर्गों, मुस्लिमों और अन्य धाॢमक अल्पसंख्यकों का सम्मान हो सके। मायावती ने कहा कि बसपा उनको मजबूत करने में लगी है। पार्टी का हर कार्यकर्ता इस काम में बड़ी तथा कड़ी मेहनत कर रहा है।

Updated : 15 March 2021 8:39 AM GMT
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top