Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > लखनऊ > राजधानी में गरीबों-असहायों के लिए वरदान बना अटल भोजनालय

राजधानी में गरीबों-असहायों के लिए वरदान बना अटल भोजनालय

मंगलवार सुबह भोजनालय में सबसे पहले सुंदरकाण्ड का पाठ किया गया। इसके बाद गरीबों को भोजन का वितरण हुआ। सुंदरकाण्ड में बतौर मुख्य अतिथि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह मौजूद रहे। इसके बाद न्याय मंत्री ब्रजेश पाठक और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने गरीबों और असहायों को अपने हाथों से भोजन परोसा।

राजधानी में गरीबों-असहायों के लिए वरदान बना अटल भोजनालय
X

लखनऊ: कोरोना की दूसरी लहर में राजधानी लखनऊ के गांधी भवन में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई के नाम पर शुरू हुई 'अटल भेाजनालय' की पहल गरीबों और असहायों के लिये वरदान साबित हो रही है। उनको सुबह से शाम तक यहां ताजा और पौष्टिक भोजन मिल रहा है।


पंडित अटल बिहारी वाजपेई मेमोरियल फाउण्डेशन के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश सरकार के न्याय मंत्री ब्रजेश पाठक ने इस पहल की शुरुआत लखनऊ में की है। 21 मई से आज तक पांच दिनों में हजारों लोग यहां भरपेट भोजन कर चुके हैं। मंगलवार सुबह भोजनालय में सबसे पहले सुंदरकाण्ड का पाठ किया गया। इसके बाद गरीबों को भोजन का वितरण हुआ।


सुंदरकाण्ड में बतौर मुख्य अतिथि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह मौजूद रहे। इसके बाद न्याय मंत्री ब्रजेश पाठक और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने गरीबों और असहायों को अपने हाथों से भोजन परोसा।

प्रदेश की राजधानी में इस भोजनालय की शुरुआत गरीबों के लिए बड़ा सहारा बनी है। भोजनालय में स्वच्छता के साथ ही कोरोना प्रोटोकाल का भी पूरा ध्यान रखा जा रहा है। केंद्र और राज्य सरकार द्वारा पहले ही लगातार गांव, गरीब और मजदूरों के हित में काम किए जा रहे हैं।


गौरतलब है कि कानून मंत्री ब्रजेश पाठक ने सबसे पहले अपनी विधायक निधि कोरोना के इलाज के लिए देने का ऐलान किया था। डाक्टरों द्वारा अनुमोदित कोरोना की दवाइयां व भाप की मशीनें भी घर-घर भेज कर लोगों की मदद का उनकी ओर से बड़ा अभियान चलाया गया। जिसके बहुत सार्थक परिणाम सामने आए। राजधानी में गरीबों के सबसे बड़े भोजनालय की शुरुआत को जन सेवा की दिशा में एक और बड़ा कदम माना जा रहा है।

दिन प्रतिदिन बढ़ रही अटल भोजनालय में भोजन करने वालों की संख्या

राजधानी में न्याय मंत्री ब्रजेश पाठक की ओर से शुरू किये गये अटल भोजनालय में दिन-प्रतिदिन भोजन करने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है। अटल भोजनालय में दिहाड़ी मजदूरों, श्रमिकों, रिक्शा चालकों, रेहड़ी, ठेला, खोमचे लगाने वालों के साथ टैक्सी ड्राइवरों को भी भरपेट भोजन मिल रहा है।


पंडित अटल बिहारी वाजपेई मेमोरियल फाउण्डेशन के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश सरकार के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक ने कहा कि हम सबका लक्ष्य इस मुश्किल घड़ी में लोगों की अधिक से अधिक मदद करना है।


अटल भोजनालय के माध्यम से सबको प्रतिदिन सुबह से शाम तक ताजा और पौष्टिक भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है और भोजनालय की पूरी व्यवस्था अटल फाउण्डेशन की तरफ से संचालित की जाएगी।

Updated : 2021-05-25T23:17:19+05:30
Tags:    

Swadesh Lucknow

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top