Top
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > अयोध्या > अवध विश्वविद्यालय का भवन हो महायोगी गुरु गोरक्षनाथ के नाम, BJP ने भेजा पत्र

अवध विश्वविद्यालय का भवन हो महायोगी गुरु गोरक्षनाथ के नाम, BJP ने भेजा पत्र

अयोध्या जनपद के बीजेपी जिला मीडिया प्रभारी डाक्टर रजनीश सिंह ने राज्यपाल को पत्र भेजकर भवन का नामकरण महायोगी गुरु गोरक्षनाथ के नाम पर करने की मांग की है.

अवध विश्वविद्यालय का भवन हो महायोगी गुरु गोरक्षनाथ के नाम, BJP ने भेजा पत्र
X

अयोध्या/ओम प्रकाश सिंह: डाक्टर राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के पृथ्वी एवं पर्यावरण विज्ञान संस्थान भवन के नामकरण का मामला तूल पकड़ गया है. अयोध्या बीजेपी के जिला मीडिया प्रभारी डाक्टर रजनीश सिंह ने राज्यपाल को पत्र भेजकर भवन का नामकरण महायोगी गुरु गोरक्षनाथ के नाम पर करने की मांग किया है.

लोकार्पण के शिलापट पर नहीं था कोई नाम

अवध विश्वविद्यालय के न्यू कैंपस में करोड़ों रुपए की लागत से बने, खूबसूरत पृथ्वी एवं पर्यावरण विज्ञान संस्थान भवन का लोकार्पण गत 12 मार्च को राज्यपाल श्रीमती आनंदी बेन पटेल ने दीक्षांत समारोह के अवसर पर किया था. लोकार्पण के शिलापट पर विश्वविद्यालय का नाम भी गलत लिखा गया था और भवन का नामकरण भी नहीं प्रदर्शित किया गया था.

5 जून को दिया गया था गोरखनाथ भवन का नाम

मालूम हो पर्यावरण दिवस 5 जून 2020 को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के जन्मदिन पर पूर्व कुलपति आचार्य मनोज दीक्षित ने पृथ्वी एवं पर्यावरण भवन विज्ञान भवन के पूजन अवसर पर इसे महायोगी गुरु गोरखनाथ भवन का नाम दिया था. उसी दिन परिसर में मुख्यमंत्री की आयु के बराबर 48 पौधे रोपित किए गए थे, यह पौधे भी अब लापता हैं. अयोध्या जनपद के बीजेपी जिला मीडिया प्रभारी डाक्टर रजनीश सिंह ने राज्यपाल को पत्र भेजकर भवन का नामकरण महायोगी गुरु गोरक्षनाथ के नाम पर करने की मांग की है.

नामकरण के लिए बनी थी समिति

भवन नामकरण समिति के एक सदस्य ने बताया कि पूर्व कुलपति आचार्य मनोज दीक्षित के समय में विश्वविद्यालय के भवनों का नामकरण किया गया था. इसके लिए भवन नामकरण समिति बनाई गई थी. समिति भवनों का नाम प्रस्तावित करती थी और कार्यपरिषद उसका अनुमोदन करती थी. पृथ्वी एवं पर्यावरण विज्ञान संस्थान भवन का कार्यपरिषद में नामकरण इसलिए नहीं हो पाया था कि कोबिड काल चल रहा था और जुलाई में आचार्य मनोज दीक्षित का कार्यकाल समाप्त हो गया. वर्तमान कुलपति प्रोफ़ेसर रविशंकर सिंह से इस संबंध में अग्रिम कार्रवाई की मांग की गई है.

Updated : 2021-03-17T19:29:36+05:30
Tags:    

Swadesh Lucknow

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top