Top
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > आगरा > इंतजार करते रहे कांग्रेसी, नहीं पहुंचीं प्रत्याशी

इंतजार करते रहे कांग्रेसी, नहीं पहुंचीं प्रत्याशी

इंतजार करते रहे कांग्रेसी, नहीं पहुंचीं प्रत्याशी
X

मायूस होकर लौट गए कार्यकर्ता

आगरा। शहर से कांग्रेस की लोकसभा प्रत्याशी प्रीता हरित रविवार को शहर कांग्रेस कमेटी कार्यालय पर कार्यकर्ताओं से मुलाकात करने के बाद मीडिया से बात करने आ रही थीं। वह आगरा तो आईं, लेकिन शहर कांग्रेस कमेटी कार्यालय नहीं पहुंची। वह कार्यवाहक अध्यक्ष से मुलाकात करने पहुंच गई। वहीं कार्यकर्ता मायूस होकर चले गए।

बता दें कि एक दिन पूर्व शहर अध्यक्ष हाजी अबरार हुसैन के पास फोन किया गया कि वह रविवार को 11 बजे आ रही हैं। इस दौरान वह कार्यकर्ताओं से मुलाकात करने के बाद मीडिया से भी बात करेंगी। सूचना मिलते ही शहर अध्यक्ष से कार्यकर्ताओं के साथ मीडिया को भी सूचना दे दी। समय के अनुसार भारी तादाद में कार्यकर्ता और मीडिया कर्मी पहुंच गए। उनको लेने के लिए कमेटी के पदाधिकारी कुबेरपुर पहुंच और उनका स्वागत किया। वहां से वह उनके साथ चली, लेकिन रामबाग से गायब हो गईं। शाम तक इंतजार होता रहा, लेकिन वह नहीं पहुंचीं। मामूल किया तो पता चला कि वह कार्यवाहक अध्यक्ष हाजी जीमल उद्दीन के पास चली गई हैं। इससे मायूस होकर कार्यकर्ता और मीडियाकर्मी वापस चले गए। उनके इंतजार में पूर्व जिलाध्यक्ष दिनेश बाबू शर्मा, चौ. बच्चू सिंह, परवाज अंजुम शाह, राघवेन्द्र उपाध्याय, कपिल गौतम, अरविन्द दौनेरिया, गीता सिंह, अजय सरपाल, सतेन्द्र कैम, एसके नारंग, हबीब कुरेसी, अमित सिंह, लक्ष्मी नरायन, सुनहरी लाल गोला, किशबर जहां सहित सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद रहे।

भारी पकड़ सकती है शहर अध्यक्ष की अनदेखी

लोकसभा प्रत्याशी प्रीता हरित शहर अध्यक्ष हाजी अबरार हुसैन की अनदेखी कर कार्यवाहक अध्यक्ष को तबज्जो दे रही हैं। यह अनदेखी उनको भारी पड़ सकती हैं, क्योंकि शहर के सैकड़ों कार्यकर्ता उनकी कमेटी में हैं। रविवार को उनके शहर कांग्रेस कमेटी कार्यालय पर आने से सभी कार्यकर्ता मायूस हो गए हैं। उनका कहना है कि जब उनको उनकी जरूरत नहीं है तो उनको भी उनकी जरूरत नहीं है। वह चुनाव जीते या हारें, इससे उनको कोई सरोकार नहीं है। बता दें कि इससे पहले भी लोकसभा, विधान सभा और नगर निगम के चुनाव में प्रत्याशियों ने शहर अध्यक्ष को अनदेखा किया था, जिसका खामिजया उनको हार से चुकाना पड़ा था।

Updated : 2019-03-24T22:44:55+05:30

Naveen

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Next Story
Share it
Top