Top
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > आगरा > मिस्त्री चला रहा था स्कूल बस, पलटने पर 11 बच्चे घायल

मिस्त्री चला रहा था स्कूल बस, पलटने पर 11 बच्चे घायल

मिस्त्री चला रहा था स्कूल बस, पलटने पर 11 बच्चे घायल
X

सामने आई कार को देखकर कांपे हाथ चार बच्चों की हालत बेहद गंभीर

आगरा। बरहन में चालक की जगह मिस्त्री स्कूल बस में बच्चों को लेकर जा रहा था। सामने से आ रही वैगनआर कार के बराबर में आते ही मिस्त्री के हाथ कांप गए और बस अनियंत्रित होकर पलट गई। दर्दनाक हादसे में 11 बच्चे घायल हो गए। इनमें से चार की हालत गंभीर है।

मिली जानकारी के अनुसार बरहन के जमाल नगर भैंस स्थित डीएस पब्लिक स्कूल के सीबीएसई दसवीं के छात्रों की कुबेरपुर स्थित सेंट माक्र्स स्कूल में परीक्षा चल रही है। शनिवार को अंग्रेजी का पेपर था। जमाल नगर भैंस, नगला बिरजी, गोयला और खांडा से छात्र-छात्राओं को बस में लेकर स्कूली बस सुबह कुबेरपुर को निकली थी। बस को चालक की जगह मिस्त्री चला रहा था। सुबह 9.10 बजे बस बरहन-एत्मादपुर रोड पर जा रही थी। तभी नगला गोल के पास एत्मादपुर की ओर से वैगनआर कार आ गई। सडक़ खराब थी। उसे बचाने में बस चला रहे मिस्त्री के हाथ कांप गए और बस अनियंत्रित होकर पलट गई। इसके बाद वहां चीख पुकार मच गई। खेतों में काम कर रहे लोग वहां पहुंच गए। ग्रामीण भी मदद को आ गए। बस को हाथों से सीधी कर ग्रामीणों ने शीशे तोड़कर बस से बाहर निकाला। पुलिस भी मौके पर पहुंच गए। हादसे में 11 बच्चे घायल हो गए। इनको टेंपो से अस्पताल ले जाया गया। चार बच्चों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जबकि अन्य को प्राथमिक उपचार के बाद स्कूल भेज दिया। हादसे के बाद अभिभावक वहां पहुंच गए। आक्रोशित लोगों ने हंगामा किया। पुलिस ने उन्हें समझाकर शांत कराया। घायलों में जयप्रभा मिश्र पुत्री रवि मिश्र निवासी भिआऊ, कविता पुत्री पोप सिंह निवासी नगला बिरजी, वर्षा धाकरे पुत्री बलवीर सिंह, पूजा वर्मा निवासी विपिन वर्मा निवासी ऊंचा गांव, कामिनी यादव पुत्री सुरेश चंद्र निवासी कुंजनपुर, श्रेया गुप्ता पुत्री अवधेश गुप्ता निवासी ऊंचा, दीपक वर्मा, श्रुति पुत्री राजीव वर्मा निवासी ऊंचा, दिव्यांशी पुत्री विनय सिसौदिया निवासी बिचपुरी, भावना निवासी महरारा शामिल हैं।

चालक के न आने पर बस चलाता है मिस्त्री

बस में सवार स्कूली बच्चों ने बताया कि बस चालक जिस दिन नहीं आता है। उस दिन जमाल नगर भैंस निवासी मिस्त्री बस को लेकर जाता है। वह गलत तरीके से बस चलाता है। कई बार बच्चों ने उसे टोका, लेकिन उसकी आदतों में सुधार नहीं हुआ था।

पूर्व में भी हो चुके हैं लापरवाही से हादसे

अक्टूबर 2018 में रुनकता के लोहकरेरा स्थित सनलॉर्ड पब्लिक स्कूल की तीसरी कक्षा की छात्रा जानवी पुत्री भी चालक की लापरवाही की शिकार हो चुकी है। छात्रा को स्कूल बस ने घर के दरवाजे पर उतारा था। छात्रा आगे बढ़ भी न पाई थी कि चालक ने बस आगे बढ़ा दी और छात्रा को कुचल दिया था। मामले में स्कूल संचालक ने परिजनों को चार लाख रुपए मुआवजे में देकर राजीनामा कर लिया था। वहीं इससे पूर्व खेरागढ़ क्षेत्र के स्कूल प्रशासन की लापरवाही से बस के टूटे फर्श से गिरकर दस साल के बच्चे की मौत हो गई थी। जांच में लापरवाही के लिए स्कूल कमेटी को जिम्मेदार ठहराया गया था।

Updated : 2019-03-23T23:42:32+05:30

Naveen

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Next Story
Share it
Top