Top
Home > स्वदेश विशेष > सुन्दर थीम रोड पर लापरवाही के धब्बे, टूटी फूटी सड़क का दर्द नहीं समझता कोई

सुन्दर थीम रोड पर लापरवाही के धब्बे, टूटी फूटी सड़क का दर्द नहीं समझता कोई

ग्वालियर/स्वदेश वेब डेस्क। उत्तर भारत के प्रमुख शहरों में से एक ग्वालियर वैसे ही अपनी सुंदरता और विशेषताओं के लिए विश्व में पहचान रखता है। लेकिन इसकी सुंदरता को और बढ़ाने के लिए बीते कुछ वर्षों में कई काम हुए। यहाँ कटोराताल क्षेत्र में एक सुन्दर थीम रोड बनाई गई लेकिन मेंटेनेंस और नगर निगम अधिकारियों की लापरवाही के चलते इस रोड ने दम तोड़ दिया।

पूर्व महापौर समीक्षा गुप्ता के कार्यकाल में विश्व के दूसरे शहरों की तर्ज पर ग्वालियर में भी एक ऐसी सड़क बनाई गई जहाँ शहर के लोग सुबह शाम परिवार के साथ घूमने का आनंद ले सकें। इस रोड को धौलपुर के विशेष लाल पत्थर से बनाया गया। 2011 -12 में कटोराताल से जीवाजी क्लब तक लगभग 1200 मीटर सड़क को थीम रोड में बदला गया। इसपर लगभग 2 करोड़ रुपये का खर्च आया। दोनों तरफ फुटपाथ पर लाल पत्थर लगाए गए। बैठने के लिए सुन्दर नक्काशीदार बेंच लगाईं गईं । लाल पत्थर के ही डस्टबिन लगाए गए। यहाँ जालीदार लैंप पोस्ट भी लगाए गए उसमें बल्ब भी लगाए गए। इसके बीच में जगह जगह पत्थर के फब्बारे लगाए गए।डिवाइडर को भी आकर्षक लुक दिया गया। इसके अलावा सिंधिया छत्री के सामने एमएलबी कॉलेज की बाउंड्री से लगाकर एक फ्लेग पॉइंट ,फोटो पॉइंट बनाया गया। पूरी सड़क पर आकर्षक लाइटिंग की गई जिससे लोग विशेषकर रात के समय यहाँ आकर परिवार के साथ घूमने का आनंद ले सकें।

थीम रोड पूर्व महापौर समीक्षा गुप्ता का महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट था। उन्होंने इसमें व्यक्तिगत रुचि लेकर इसे बनवाया। लेकिन इसे मिस मैनेजमेंट कहें या अधिकारियों की लापरवाही या कुछ और कि थीम रोड बनने के के कुछ दिनों बाद ही टूटने लगी। कभी शरारती तत्वों ने जालीदार बेंच तोड़ दीं, तो कभी वाहन चालकों ने फुटपाथ और डिवाइडर तोड़ दिए। हालत ये हो गई कि डिवाइडर के पास लगे पिलर टूट गए, फब्बारे टूट कर गायब हो गए, लैंप पोस्ट उखड़ गए। कुछ साल तो थीम रोड का मेंटेनेंस होता रहा लेकिन समीक्षा गुप्ता का कार्यकाल समाप्त होते ही आदत से मजबूर और लापरवाही की चादर ओढ़े निगम अधिकारियों ने थीम रोड की तरफ देखना भी बंद कर दिया। जिसका परिणाम ये निकला कि सुन्दर थीम रोड पर बदसूरत हो गई। उल्लेखनीय है कि पूर्व महापौर समीक्षा गुप्ता के ही कार्यकाल में ही दो थीम रोड को और स्वीकृति प्रदान की गई। इसमें ग्वालियर के कैप्टन रूपसिंह स्टेडियम में वनडे में 200 रनों का विश्व रिकॉर्ड बनाने वाले विश्व विख्यात क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर के नाम पर सिटी सेंटर से हुरावली तिराहे तक और संगीत सम्राट तानसेन की याद में तानसेन रोड से तानसेन मकबरे तक थीम रोड के प्रस्ताव पर नगर निगम परिषद से स्वीकृति प्रदान की गई लेकिन अधिकारियों की लापरवाही या शहर को सुन्दर स्वरुप प्रदान करने के प्रति उनकी कमजोर इच्छाशक्ति के चलते ये सड़कें फाइलों में ही दबकर दम तोड़ गईं।

Updated : 2018-09-18T22:03:54+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top