Top
Home > स्वदेश विशेष > एक प्रचारक की अपने स्वंयसेवक के लिए संवेदना

एक प्रचारक की अपने स्वंयसेवक के लिए संवेदना

...और अपना एक स्वयंसेवक चला गया!

एक प्रचारक की अपने स्वंयसेवक के लिए संवेदना
X

बहुत हिम्मत करके आज शाम 7:00 बजे रतन जी से (रोहित सरदाना के पिताजी) से फोन कर पाया। फोन क्या? बस इतना ही बोल पाया मैं सतीश बोल रहा हूं....उधर से रतन जी कहते रहे, हां! हां! सतीश जी बोलो? ...पर मेरे मुंह से आवाज नहीं, आंखों से आंसू ही निकल रहे थे। 1993-94 में जिस रोहित को प्राथमिक वर्ग कराया, उसको मुख्य शिक्षक कुरुक्षेत्र की गीता स्कूल की शाखा का बनाया, जिसे अक्सर सरदाना जी भेजते थे कार्यालय पर, जा वहां सतीश जी, विभाग प्रचारक ने भोजन नहीं किया होगा, उन्हें बुला ला और वह मुझे आग्रह पूर्वक ले जाता था। आज उसी रोहित को श्रद्धा सुमन अर्पित करने का विचार ही मुझे रुला व कंपा दे रहा था। पिताजी विभाग के बौद्धिक प्रमुख थे, गीता विद्यालय में प्रधानाचार्य थे। तीन भाई, एक बहन चारों स्वयंसेवक और जिन्होंने स्वयंसेवक तत्व को चरितार्थ किया.... ऐसे अपने रोहित चले गए।

दत्तोपंत ठेंगड़ी जी ने अपने एक भाषण में कहा था "Not the longivity but the quality of life, decides his/her greatness" कोई 84 साल जी कर भी कुछ खास नहीं कर पाते और यहां हमारा रोहित 42 वर्ष की आयु में ही सारे देश में राष्ट्रवादी, निर्भीक पत्रकारिता का प्रेरक पुंज बन गया। लाखों को प्रेरणा दे गया, लाखों को रुला गया....बस रोहित! इससे ऊपर और नहीं लिखा जा रहा। हम सबको तुझ पर नाज है, और रहेगा! सतीश अखिल भारतीय सह संगठन मंत्री स्वदेशी जागरण एक

Updated : 3 May 2021 9:57 AM GMT
Tags:    

Swadesh News

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top