Home > स्वदेश विशेष > इतिहास के पन्नों में : इंग्लैंड से आई भारत की बेटी मेडेलीन स्लेड "मीरा बेन"

इतिहास के पन्नों में : इंग्लैंड से आई भारत की बेटी मेडेलीन स्लेड "मीरा बेन"

महात्मा गांधी की अनुयायी 'मेडेलीन स्लेड' को दुनिया 'मीरा बेन' के नाम से जानती है।

इतिहास के पन्नों में : इंग्लैंड से आई भारत की बेटी मेडेलीन स्लेड मीरा बेन
X

देश-दुनिया के इतिहास में 22 नवंबर की तारीख तमाम अहम वजह से दर्ज है। इस तारीख का संबंध ऐसी महिला से है जो है तो ब्रितानी पर उसका दिल भारत के लिए धड़कता था। उसका नाम मेडेलीन स्लेड है। महात्मा गांधी की अनुयायी मेडेलीन स्लेड को दुनिया मीरा बेन के नाम से जानती है।

ब्रिटिश सैन्य अफसर सर एडमंड स्लेड के घर पर इंग्लैंड में मेडेलीन स्लेड का जन्म 22 नवंबर, 1892 को हुआ था। एडमंड ब्रितानी राज के समय बंबई (मुंबई) में नौसेना के ईस्ट इंडीज स्क्वाड्रन में कमांडर इन चीफ रहे हैं। स्लेड प्रकृति से प्रेम करती थीं तथा अपने बचपन से ही सादा जीवन से उन्हें प्यार था। संगीत में उनकी गहरी रुचि थी तथा बीथोवेन का संगीत उन्हें बहुत भाता था। मेडेलीन स्लेड बचपन में एकाकी स्वभाव की थी, स्कूल जाना तो हरगिज पसंद नहीं था लेकिन अलग-अलग भाषा सीखने में रुचि थी। उन्होंने फ्रेंच, जर्मन और हिंदी समेत अन्य भाषाएं सीखीं।

बचपन में अपना ज्यादातर समय घर के फार्म पर बितातीं और घुड़सवारी और शिकार पर जाया करती थीं। इंग्लैंड से वे फ्रेंच सीखने पेरिस पहुंच जाती हैं। यहीं उनकी मुलाकात रोम्यां रोलां से होती है जो मेडेलीन में गहरी आध्यात्मिक भूख देखते हुए गांधी के बारे में पढ़ने को कहती हैं। वह पेरिस से वापस आकर गांधी पर लिखे हर साहित्य को पढ़ती हैं। इसके बाद वो सादा जीवन जीना शुरू कर देती है और अपने कमरे के सारे फर्नीचर निकाल कर फर्श पर सोने लगती हैं।

गांधी से मिलने के लिए मेडेलीन 25 अक्टूबर, 1925 को पी एंड ओ जहाज पर सवार होकर 06 नवंबर 1925 को भारत पहुंचती हैं। गांधी उनके स्वागत के लिए वल्लभभाई पटेल, महादेव देसाई और स्वामी आनंद को भेजते हैं। 07 नवंबर 1925 को मेडेलीन महात्मा गांधी से मिलती हैं। अपनी आत्मकथा द स्पिरिट्स पिलग्रिमेज में महात्मा गांधी से अपनी पहली मुलाकात के बारे में वे लिखती हैं - जब मैं गांधी जी से पहली बार मिली तो एक ज्योति के अतिरिक्त मुझे और किसी वस्तु की चेतना न थी। गांधी जी ने मुझसे कहा- तुम मेरी बेटी बनकर रहोगी।

मीरा बेन ने मानव विकास, गांधी के सिद्धांतों की उन्नति और स्वतंत्रता संग्राम के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया था। ऐसा करते देख ही गांधी ने उन्हें मीरा बेन नाम दिया। बुनियादी शिक्षा, अस्पृश्यता निवारण जैसे कार्यों में गांधी के साथ मीरा की अहम भूमिका रही है। उन्होंने गांधी के खादी के सिद्धांतों तथा सत्याग्रह आंदोलन को उन्नतशील बनाने के लिए देश के कई हिस्सों की यात्रा की। उन्होंने यंग इंडिया तथा हरिजन पत्रिका में अपने हजारों लेख लिखकर योगदान दिया। वर्धा के पास सेवा ग्राम आश्रम स्थापित करने में मीरा बेन में अहम भूमिका निभाई। साथ ही उत्तर प्रदेश के मुलदास पुर में किसान आश्रम की स्थापना की।

आजादी की लड़ाई में मीरा बेन अंत तक गांधी की सहयोगी रहीं। 1932 के द्वितीय गोलमेज सम्मेलन में वह महात्मा गांधी के साथ थीं। 09 अगस्त 1942 को गांधी के साथ उन्हें भी गिरफ्तार कर किया गया था और उन्हें आगा खां हिरासत केंद्र में मई, 1944 तक रखा गया। उन्होंने उत्तर प्रदेश में अधिकाधिक अनाज उत्पादन अभियान में अहम भूमिका निभाने के अलावा 1947 में ऋषिकेश के नजदीक आश्रम पशुलोक की शुरुआत की। इसका नाम बाद में बापू ग्राम रखा गया। 28 जनवरी, 1959 को भारत छोड़ने से पहले वे कुछ दिन राष्ट्रपति भवन में डॉ. राजेंद्र प्रसाद के साथ रहीं और फिर इंग्लैंड होती हुई वियना चली गईं। जंगलों के निकट, बिलकुल शांत-एकांत, प्राकृतिक सौंदर्य से भरी वह सुंदर सी जगह आखिरी दिनों तक उनका ठिकाना बनी रही। 1981 में भारत सरकार ने 'पद्म विभूषण' से उन्हें अलंकृत किया।

20 जुलाई, 1982 को वे उसी 'अनंत लौ' में विलीन हो गईं, जिससे छिटक कर उन्होंने बापू की राह धरी और आजादी की, सिद्धांतों की लड़ाई लड़ी और जीवन जीने की एक कला विकसित की | आस्ट्रिया में मृतक के दाह संस्कार का रिवाज नहीं है पर मीरा बेन की इच्छा के मुताबिक उनके अनन्य सेवक रामेश्वर दत्त ने उनकी चिता को मुखाग्नि दी। फिर उनकी भस्मी भारत लाई गई और उसी ऋषिकेश और उसी हिमालय में प्रवाहित कर दी गई, जिसमें उन्होंने खुद को पाया और खोया था।

महत्वपूर्ण घटनाचक्र

1963: डलास में अमेरिका के राष्ट्रपति जॉन एफ केनेडी की हत्या।

1968ः मद्रास का नाम बदलकर तमिलनाडु करने के प्रस्ताव को लोकसभा से स्वीकृति।

1975: जुआन कार्लोस स्पेन के राजा बने।

1971: भारत और पाकिस्तान के बीच हवाई संघर्ष शुरू।

1989: मंगल, शुक्र, शनि, यूरेनस, नेप्च्यून और चंद्रमा एक ही सीध में आए।

1990: ब्रिटिश प्रधानमंत्री मार्गरेट थैचर ने की त्यागपत्र देने की घोषणा।

1997: भारत की डायना हेडेन विश्व सुंदरी बनी।

1998: बांग्लादेश की लेखिका तस्लीमा नसरीन ने ढाका की अदालत में आत्मसमर्पण किया।

2002ः मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता के आयोजन के विरोध में नाइजीरिया में दंगे। सैंकड़ों लोग मारे गए।

2006ः भारत और वैश्विक कंसोर्टियन के छह अन्य देशों ने सूर्य की तरह ऊर्जा पैदा करने वाले प्राथमिक

फ्यूजन रिएक्टर की स्थापना के लिए पेरिस में ऐतिहासिक समझौता किया।

2007ः ब्रिटेन में अवैध प्रवासी समस्या पर नियंत्रण के लिए कड़े नियमों की घोषणा।

2008ः भारतीय क्रिकेट टीम के तत्कालीन कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने पद छोड़ने की धमकी दी।

जन्म

1808: मशहूर ट्रेवल कंपनी थॉमस कुक एंड संस के संस्थापक थॉमस कुक।

1830: रानी लक्ष्मीबाई की सेना की मुख्य सदस्य झलकारी बाई।

1864: भारत की प्रथम महिला चिकित्सक रुक्माबाई।

1892ः ब्रिटिश सैन्य अधिकारी सर एडमंड स्लेड की पुत्री मीरा बेन (वास्तविक नाम मेडेलीन स्लेड)। मीरा बेन ने गांधी के सिद्धांतों से प्रभावित होकर खादी का प्रचार किया।

1916ः भारतीय स्वतंत्रता सेनानी शांति घोष।

1939ः उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव।

1986: ब्लेड रनर ऑस्कर पिस्टोरियस।

निधन

1881ः भारत के स्वतंत्रता सेनानी अहमदुल्लाह। उनका वास्तविक नाम अहमद बख्श था।

1967ः प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ और कट्टर सिख नेता तारा सिंह।

2016ः उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री रामनरेश यादव।

2016ः हिन्दी और भोजपुरी भाषा के प्रसिद्ध साहित्यकार विवेकी राय।

Updated : 21 Nov 2022 11:20 AM GMT
Tags:    

Swadesh News

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top