Top
Home > स्वदेश विशेष > कभी थूकने वाले तब्लीगियों पर प्राइम टाइम कीजिए

कभी थूकने वाले तब्लीगियों पर प्राइम टाइम कीजिए

फिनलैंड से क्षीरज तैलंग का रवीश कुमार को खुला पत्र

कभी थूकने वाले तब्लीगियों पर प्राइम टाइम कीजिए
X

आदरणीय रवीश जी,

आदरणीय इसलिए लिख रहा हूं क्योंकि आपको गालियां देते हुए इतने पत्र आते होंगे कि आपने आगे का पत्र पढऩा बंद ही कर दिया होगा। पर मेरे इस पत्र पर आपका ध्यान खींचना आवश्यक था, इसीलिए ऐसे प्रार भ किया। वैसे आज से कुछ समय पहले तक हमेशा आपका आदर ही किया। अन्य न्यूज चैनलों को छोड़ कर, हमेशा आपका चैनल ही देखा। प्राइम टाइम के समय का अलार्म भी लगा कर रखा, और जिस दिन स्क्रीन पर आपकी जगह किसी और को पाया, तो उदास भी हुआ।

आपकी राजनीतिक विचारधारा से सहमत नहीं हूं, फिर भी सदा प्रयासरत रहता हूं कि आपका दृष्टिकोण समझूं, आपके चश्मे से हालातों को जानूं। मदमस्त होकर अंधे समर्थन की जगह, कहां कमियां रह गईं, कहां ध्यान नहीं गया, इत्यादि से परिचित रहूं। यही कारण था कि अभी तक आपको सुनता-पढ़ता रहा।

आपकी शिकायतों को ऐसे नोट किया, जैसे मैं ही प्रधानमंत्री हूँ, और मुझे ही समाधान करना है। इसी क्रम के चलते आपके कोरोना वायरस पर कवरेज देखे। समस्त राजनीतिक विषयों पर आपके एक तरफा झुकाव के पश्चात भी इस महामारी और राष्ट्रीय संकट के समय पर आपको सुनने का साहस किया, इस भरोसे से कि आप इस कठिन समय में देश के साथ खड़े होंगे, और सरकारों के प्रयत्नों को जन-जन तक पहुंचाएंगे।

निष्पक्ष बनकर त्रुटियों को ढूंढ़ेंगे भी एवं जो प्रयास सराहनीय हैं, उनकी प्रशंसा भी करेंगे। अन्य कुछ करें ना करें, जो कोई इस समय राष्ट्रहित में व्यवहार नहीं कर रहा है, उसकी निंदा तो करेंगे। परंतु आपने वही किया जिसके लिए आप जग प्रचलित हैं। केंद्र और राज्य सरकारों के तत्पर एवं कठोर कदमों की रत्ती भर प्रशंसा किए बिना आप चल पड़े त्रुटियाँ गिनाने, विदेशों से तुलना करने।

मैं अपना परिचय देना भूल गया। मैं यूरोप के फिनलैंड देश में रहता हूं। कई वर्षों तक स्पेन में भी रहा। मेरे कई मित्र हैं, जो अन्य महामारी प्रभावित देशों में रहते हैं। यहां के आंखों देखी अनुभवों के आधार पर आपको आश्वस्त करना चाहता हूं कि हमारे भारत की रोकथाम को लेकर तैयारियां, इतने कम समय में जुटाई गई व्यवस्थाएं एवं चिकित्सा कौशल, अन्य विकसित एवं प्रभावित राष्ट्रों से किसी प्रकार से कम नहीं है। अपितु कई मायनों में भारत द्वारा उठाए गए कदम, अद्वितीय हैं, और कई अन्य देशों की कल्पना के बाहर के हैं।

आप अपने कार्यक्रम के द्वारा जानकारी दे रहे हैं कि कैसे अन्य देशों की तुलना में, भारत में इतने कम टेस्ट किए जा रहे हैं। और इस आधार से भारत में यह सं या सरकारी आंकड़ों से कहीं अधिक होगी। बिल्कुल होगी, लेकिन यह एक मात्र हमारे देश में नहीं है। आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि जहां मैं रहता हूं, वहां सिर्फ और सिर्फ बिलकुल साँस ना आने जैसी ग भीर स्थिति में ही अस्पताल को स पर्क करने के निर्देश हैं। इसके अलावा यदि आपको कोरोना वायरस संक्रमण स बंधित अन्य लक्षण जैसे तेज बुखार, जुकाम इत्यादि होता है, तो चुपचाप घर में बैठे रहने के निर्देश हैं, एवं ऐसी स्थिति में भी संक्रमण की पुष्टि करने वाले टेस्ट करने से डॉक्टर मना कर रहे हैं। भारत में तो जिस मकान या सामुदायिक मिलन समारोह में किसी एक-दो संक्रमित लोगों की जानकारी मिल रही है, तो पूरे प्रतिभागियों की जांच या उन पर नजर रखी जा रही है। एक मित्र से मुझे जानकारी मिली कि उसके सहकर्मी को आवश्यक जांच के लिए बुलाया गया क्योंकि उसका फोन नेटवर्क पिछले कुछ दिनों में निजामुद्दीन के इलाके में था, जिससे उसके वहां होने एवं उसके और उसके निकटतम लोगों के स्वास्थ्य के स भावित खतरे की पुष्टि होती है। ऐसा युद्धस्तरीय प्रबंध अन्य किसी देश की कल्पना के बाहर की बात है, जबकि उन देशों में तो जनसं या घनत्व अत्यंत कम है, और व्यवस्था बनाना कई गुना आसान।

आप दिखा रहे हैं कि कैसे जर्मनी इत्यादि में पब्लिक ट्रांसपोर्ट यथावत चल रहा है और वहां की सरकार मात्र इस निर्देश से कि कोई दो लोग एक दूसरे के पास ना आएं,

से संकट का सामना कर रही है। क्या आपको लगता है कि भारत देश में भी यही व्यवस्था हो जानी चाहिए? जहां लोग चिकित्सा सेवक पर थूक रहे हैं। क्वारांटीन वार्ड में आपत्तिजनक एवं अश्लील व्यवहार कर रहे हैं, वहाँ सुगम रूप से सुविधाएं चला देनी चाहिए?

भारत में जाँच किए जाने वाली सं या से भारत की कुल जनसं या का भाग करके कम प्रतिशत निकाल अन्य देशों से तुलना करना न्यायोचित नहीं है। इन देशों का क्षेत्रफल एवं जनसं या हमारे एक राज्य से भी कम है। रही भगदड़ की बात, वह हर जगह होती है। जब अमेरिका ने घोषित किया कि उनके निवासियों को छोड़ किसी अन्य व्यक्ति को यूरोप से आने की अनुमति नहीं है, तब भी भगदड़ मची, यूरोप आए अमेरिकी पर्यटक दस-दस हजार डॉलर के विमान टिकट लिए वापस दौड़े। जबकि यह नियम यूरोप के लोगों के लिए था। उनमें और हम में अंतर मात्र गरीबी का है, भारत की चिंतापूर्ण जनसं या का है। जिसके लिए वर्तमान सरकार नहीं, आज तक की सभी सरकारें एवं नागरिक जि मेदार हैं। अशिक्षा भी स बंधित है, पर इसका वर्तमान आपातकाल से स बंध नहीं है। इसके प्रति कई वर्षों से प्रयास होना चाहिए था। रही बात चिकित्सा सामथ्र्य की, तो आपको बता दूं कि मैं लगभग आधे वर्ष तक स्पेन के कई अस्पतालों में लगातार दाखिल रहा और गलत निदान के चलते व्यर्थ की कई शल्य चिकित्साओं से गुजरा। अंतत: हार मान, और अपने परिवार से अंतिम बार मिल पाने की इच्छा के चलते भारत आया, और वहां के चिकित्सक के कौशल के सहारे स्वस्थ होकर नया जीवन पा सका। आपका नकारात्मक व्यवहार भारतीयों के मनोबल को तोड़ रहा है। ऐसे समय पर अपेक्षित है कि आप अपने माध्यम से हर सिक्के के दोनों पहलू दिखाएं। अंतत: सनम्र निवेदन है कि कृपया जहां यथोचित हो, सराहना भी कीजिए, और राष्ट्र के प्रयासों में बाधा डालते मूर्खों को शिक्षित भी।

बाकी, प्राइम टाइम देखना फिर भी जारी रखूंगा , क्योंकि मुझे गर्व है आप पर कि आप लोगों की भलाई सोचते हैं। बीच में किसी दिन थूकने वालों और वार्ड में अभद्र व्यवहार करने वालों पर भी प्राइम टाइम कीजिएगा। और हां! इस काम के लिए निधि कुलपति जी या नगमा जी को मत भेज दीजिएगा। आप आएंगे तो आपका देशप्रेम सामने आएगा, और उसे दिखाने में झिझक क्यूं? अंत में, इन कठिन क्षणों में जोखिम उठाकर अपना कार्य करते रहने के लिए आभार।

(साभार ऑप इंडिया)

Updated : 10 April 2020 2:42 PM GMT
Tags:    

Swadesh News

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top