Home > स्वदेश विशेष > PFI : 24 राज्यों में जिहाद..सिर तन से अलग और मिशन 'गजवा ए हिन्द'

PFI : 24 राज्यों में जिहाद..सिर तन से अलग और मिशन 'गजवा ए हिन्द'

PFI : 24 राज्यों में जिहाद..सिर तन से अलग और मिशन गजवा ए हिन्द
X

वेबडेस्क। ऐसा शायद ही कोई मौका हो जब देश में माहौल खराब करने के मामले में पीएफआइ का नाम सामने न आए। चाहे बाबरी मस्जिद गिराए जाने के समय की बात हो या सीएए और एनआरसी को लेकर माहौल खराब करने का मामला हो, हिजाब विवाद ,करोली, मन्दसौर,कानपुर,हाथरस,लखनऊ,आजाद मैदान मुंबई की घटनाएं पीएफआइ इन सभी के लिए जिम्मेदार ठहराई जाती रही है। आज के रविवारीय में इस संगठन की गतिविधियों और मंसूबों को समझने की कोशिश है।

ईशनिंदा पर प्रोफेसर का हाथ काटा

ऐसे सबूत मिले हैं कि कम से कम साल 2011 के बाद, पीएफआई कैडर हिंसा में शामिल रहे हैं. इसी साल ईशनिंदा वाली लघु कहानी पढ़ाने के आरोप में पीएफआई के सदस्यों ने इडुक्की कॉलेज के प्रोफेसर टीजे जोसेफ का हाथ काट दिया।इसके बाद, साल 2013 में केरल की पुलिस ने कन्नूर के नारथ में एक कैंप का पता लगाया. राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने दावा किया कि इस कैंप में पीएफआई के सदस्यों को बम बनाने और तलवार चलाने की ट्रेनिंग दी जा रही थी।

इस्लामिक स्टेट से संबंध -

साल 2014 में, केरल सरकार ने एक हलफनामा दायर किया, जिसमें दावा किया गया कि संगठन इस्लामिक एजेंडे पर गुप्त रूप से काम कर रही है. सरकार ने दावा किया कि पीएफआई के सदस्य, सांप्रदायिक वजहों से की गई 27 हत्याओं में शामिल थे. साथ ही, 86 हत्या के प्रयास के ऐसे मामले थे जिसमें राज्य के कम्युनिस्ट, हिन्दू राष्ट्रवादी और इस्लामिस्ट शामिल थे। इराक और सीरिया में तथाकथित खलीफा की घोषणा के कुछ महीनों बाद ही, खुफिया सेवाओं से जुड़ी एजेंसियों ने दावा किया कि पीएफआई के सदस्यों और इस्लामिक स्टेट के बीच संबंधों के संकेत मिल रहे हैं।

अल जरुल खलीफा का गठन

साल 2016 में, एनआईए ने कुछ गिरफ्तारियां की. एनआईए ने दावा किया कि पीएफआई के सदस्य, इस्लामिक स्टेट के तर्ज पर अल-ज़रूल-खलीफा के गठन की योजना बना रहे थे. एनआईए ने कहा कि इस समूह का उद्देश्य पूरे भारत में आतंकी घटनाओं का अंजाम देना था। इससे पहले, केरल के 22 लोग धर्मांतरण से संबंधित संगठन से जुड़ने के बाद, इस्लामिक स्टेट में शामिल होने के लिए अफगानिस्तान चले गए थे. इनमें पीएफआई के पूर्व सदस्य भी शामिल थे. इन सदस्यों पर जिहादी समूह के लिए फंड इकट्ठा करने और उसके लिए प्रचार करने का आरोप है।

Updated : 2022-08-07T19:51:07+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top