Top
Home > स्वदेश विशेष > हिंदी भाषियों के लिए है गर्व का दिन "हिंदी दिवस"

हिंदी भाषियों के लिए है गर्व का दिन "हिंदी दिवस"

हिंदी भाषियों के लिए है गर्व का दिन हिंदी दिवस
X

विश्व में हिंदी भाषी किसी भी कोने में रहे लेकिन 14 सितम्बर को नहीं भूलते है क्योंकि यह हमारे गर्व का दिन है यह हिन्दी दिवस प्रत्येक वर्ष 14 सितम्बर को मनाया जाता है। पहली बार 1953 में हिन्दी दिवस मनाया गया था। 14 सितंबर 1949 में सबसे पहले हिंदी को राजभाषा का दर्जा मिला था। तब से हर साल इस दिन हिंदी दिवस के तौर पर मनाया जाता है। साल 1947 में जब अंग्रेजी हुकूमत से भारत आजाद हुआ तो देश के सामने भाषा को लेकर सबसे बड़ा सवाल खड़ा था।

हम आपको बता दें कि छह दिसम्बर 1946 में आजाद भारत का संविधान तैयार करने के लिए संविधान का गठन हुआ। लेकिन भारत की कौन सी राष्ट्रभाषा चुनी जाएगी ये मुद्दा खड़ा था तब हिंदी और अंग्रेजी को नए राष्ट्र की भाषा चुना गया।

संविधान सभा ने देवनागरी लिपी में लिखी हिंदी को अंग्रजों के साथ राष्ट्र की आधिकारिक भाषा के तौर पर स्वीकार किया था। 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एक मत से निर्णय लिया कि हिंदी ही भारत की राजभाषा होगी। साल 1918 में महात्मा गांधी ने हिन्दी साहित्य सम्मेलन में हिन्दी भाषा को राष्ट्रभाषा बनाने को कहा था। इसे गांधी जी ने जनमानस की भाषा भी कहा था।

Updated : 2018-09-14T20:39:20+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top