Home > स्वदेश विशेष > सर्वार्थ सिद्धि योग में देवउठनी एकादशी 14 और 15 को मनेगी, ये है शुभ मुहूर्त

सर्वार्थ सिद्धि योग में देवउठनी एकादशी 14 और 15 को मनेगी, ये है शुभ मुहूर्त

इस दिन से मांगलिक कार्य की शुरुआत हो जाती है। देवउठनी एकादशी पर तुलसी शालिग्राम के विवाह की भी परंपरा है।

सर्वार्थ सिद्धि योग में देवउठनी एकादशी 14 और 15 को मनेगी, ये है शुभ मुहूर्त
X

ग्वालियर/वेब डेस्क। इस बार देवउठनी एकादशी 2 दिन 14 और 15 नवंबर को मनाई जाएगी। देवउठनी ग्यारस पर देवों के उठने के साथ ही समस्त मांगलिक कार्यक्रमों की शुरुआत भी होगी। वही चतुर्मास की समाप्ति होगी। साथ ही 15 नवंबर से लेकर 13 दिसंबर तक 16 शादी के शुभ मुहुर्त रहेंगे।

ज्योतिषाचार्य सतीश सोनी के अनुसार जगत के पालनहार भगवान विष्णु आषाढ़ मास की एकादशी 20 जुलाई से कार्तिक मास की एकादशी तक योग निद्रा में रहे। इस अवधी को चतुर्मास कहा जाता है। जब भगवान विष्णु नींद से जागते हैं, तो उसे देवउठनी एकादशी कहा जाता है। इस दिन से मांगलिक कार्य की शुरुआत हो जाती है। देवउठनी एकादशी पर तुलसी शालिग्राम के विवाह की भी परंपरा है। एकादशी को अबूझ मुहूर्त की श्रेणी में रखा जाता है। अत: इस दिन बिना पूछे विवाह, नूतन गृह प्रवेश, गृह निर्माण, विवाह एवं नामांकरण आदि जैसे मांगलिक कार्य प्रारंभ हो जाते हैं। देवउठनी एकादशी के बाद इस सीजन की पहली लगन 19 नवंबर से प्रारंभ होगी। एकादशी का पदम पुराण में विस्तृत वर्णन मिलता है। कि देव प्रमोदिनी एकादशी का व्रत करने वाले व्यक्ति को अश्वमेध यज्ञ के राजस्व पूर्ण रूप से प्राप्त होते हैं।

ज्योतिषाचार्य का कहना है कि 14 नवंबर को अबूझ मुहूर्त के साथ सर्वार्थसिद्धि योग व हर्षण योग रहेगा। 14 नवंबर रविवार को एकादशी तिथि का प्रारंभ सुबह 5.48 से शुरू होकर दूसरे दिन यानी 15 नवंबर को सुबह 6.39 तक यह तिथि रहेगी। ग्वालियर में इस दिन सूर्योदय का समय सुबह 6.39 पर है। इसलिए दोनों ही दिन 14 व 15 को एकादशी तिथि सूर्योदय व्यापिनी होने से 14 नवंबर को स्मार्त समुदाय व गृहस्थ लोग एकादशी का व्रत करेंगे। वही 15 नवंबर, सोमवार को द्वादशी वेधी एकादशी होने के कारण देवउठनी एकादशी व्रत वैष्णव समुदाय के लोगों के लिए होगा। 14 नवंबर की शाम 4.30 बजे से दूसरे दिन सुबह 7 बजे तक सर्वार्थ सिद्धि योग भी रहेगा। वही इस दिन तुलसी विवाह भी होगा।

देव उठाने के लिए यह रहेगा शुभ मुहूर्त

14 नवंबर 15 नवंबर को देव पूजन का शुभ मुहूर्त शाम 7.27 से रात 9.37 तक होगा।

आगामी दो महीने के शुभ विवाह मुहूर्त

नवंबर माह में 15, 16, 19, 20, 21, 28, 29, 30

दिसंबर माह में 1,2,7,8,9, 11, 12, 13

Updated : 2021-11-13T06:31:07+05:30
Tags:    

Swadesh News

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top