Top
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग से विकास की मिशाल पेश कर रहे महराजगंज के वनटांगिया किसान: योगी आदित्यनाथ

कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग से विकास की मिशाल पेश कर रहे महराजगंज के वनटांगिया किसान: योगी आदित्यनाथ

गुमराह हुए बिना महराजगंज के किसानों ने खुद को आंदोलन से दूर रखा, उन्नत खेती कर खुशहाली लाने में जुटे रहे, इसके लिए बधाई।

कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग से विकास की मिशाल पेश कर रहे महराजगंज के वनटांगिया किसान: योगी आदित्यनाथ
X

लखनऊ/महराजगंज। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जो लोग किसानों के कंधों पर बंदूक रखकर उन्हें गुमराह कर रहे हैं उन्हें महराजगंज के वनटांगिया गांवों में आकर विकास की नई तस्वीर देखनी चाहिए। आजादी के बाद यूपी के 100 वनटांगिया गांवों में कोई सुविधा नहीं मिली थी। हमारी सरकार ने महराजगंज के 18 वनटांगिया गांवों समेत प्रदेश के ऐसे गांवों को राजस्व ग्राम घोषित किया। राजस्व ग्राम घोषित होने के बाद कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग और सामुदायिक खेती के जरिये महराजगंज के वनटांगिया किसान प्रगति की मिशाल पेश कर रहे हैं।

279.30 करोड़ की परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास

मुख्यमंत्री शनिवार को महराजगंज जिले में 279.30 करोड़ रुपये की लागत वाली 114 परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। उन्होंने नवसृजित नगर पंचायत चौक के कार्यालय का उद्घाटन करने के बाद आयोजित समारोह में कहा कि किसानों को गुमराह करने वाले कहते हैं कि कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग में किसानों की जमीन ले ली जाएगी, इससे बड़ी बेवकूफी क्या हो सकती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहले ही साफ कर रखा है कि कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग किसान के लिए एक विकल्प है, बाध्यता नहीं। कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग से मैकेनाइज्ड खेती को बढ़ावा मिलेगा। नए तरीके से कम लागत पर अधिक उत्पादन संभव होगा और इससे किसानों की आय कई गुना बढ़ जाएगी। किसान के जीवन में नया परिवर्तन आएगा और यह परिवर्तन उसकी खुशहाली का माध्यम बनेगा। उन्होंने कहा कि महराजगंज में गन्ने की खेती 100 साल से पहले से होती रही है। यहां घुघली, आनंदनगर, सिसवा की चीनी मिलें 1905 से 1920-30 के बीच स्थापित हुई थीं। गन्ने की खेती से अधिक मुनाफा कमाने का काम यहां के किसान पहले से करते रहे हैं, सरकार अब उनके लिए और मौके उपलब्ध करा रही है। सीएम योगी ने कहा कि जिन्हें विकास अच्छा नहीं लगता, वही लोग किसानों को गुमराह कर रहे हैं। इस दौरान उन्होंने गोरखपुर के पिपराइच ब्लॉक के उनौला निवासी उस किसान का उल्लेख भी किया जिसने दो बीघा खेत में स्ट्राबेरी की खेती कर मात्र छह माह में आठ लाख रुपये का शुद्ध मुनाफा कमाया है।

महराजगंज के किसानों ने खुद को आंदोलन से दूर रखा, उन्हें बधाई

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि गुमराह हुए बिना महराजगंज के किसानों ने खुद को किसान आंदोलन से दूर रखा, उन्नत खेती कर जीवन में खुशहाली लाने में जुटे रहे, इसके लिए उन्हें बधाई। उन्होंने कहा कि पिछले साल राज्य सरकार ने 52 लाख मीट्रिक टन धान की खरीद की और इस बार एमएसपी पर 16 मीट्रिक टन अधिक यानी 68 लाख मीट्रिक टन। रकम सीधे किसानों के खातों में पहुंची। उन्होंने मंडियों को बंद किए जाने का दुष्प्रचार करने वालों को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि एक भी मंडी बन्द नहीं हुई, बल्कि आज ही एक नई मंडी का शिलान्यास किया गया। सीएम योगी ने कहा कि सरकार एमएसपी की गारंटी दे रही है। 1 अप्रैल से प्रदेश में 6000 सरकारी गेहूं क्रय केंद्र खोल दिए जाएंगे और रकम 72 घण्टे में किसानों के खातों में पहुंच जाएगी। उन्होनें कहा कि बाजार में यदि एमएसपी से अधिक मिले तो किसान वहां भी अपनी उपज बेचने को स्वतंत्र होगा। सीएम योगी ने लोगों को यह भी याद दिलाया कि उनकी सरकार किसानों के हितों की रक्षा के लिए संकल्पित है और मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्होंने पहला कार्य किसानों की कर्जमाफी का किया जिसका लाभ महराजगंज के एक लाख किसानों को भी मिला।

अब इंसेफेलाइटिस से मौत नहीं होने पाएगी :मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने संबोधन में पूर्वी उत्तर प्रदेश में एक समय तक लाइलाज हो चुकी इंसेफेलाइटिस (मस्तिष्क ज्वर) पर भी चर्चा की। उन्होंने कहा कि गोराखपु, महराजगंज, कुशीनगर, देवरिया, बस्ती, संतकबीरनगर और सिद्धार्थनगर में 15 जुलाई से मध्य नवंबर तक मस्तिष्क ज्वर से हजारों बच्चों की मौत हो जाती थी। एक से पंद्रह वर्ष तक के बच्चों की मौत यह सिलसिला 1977 से 2016 तक चलता रहा। जो लोग जाति, मत और मजहब के नाम पर समाज को बांटते थे, उन्होंने कभी इन मौतों पर संवेदना नहीं दिखाई। हमारी सरकार ने स्वास्थ्य सुविधाओं में बेहतरी, शौचालय व शुध्द पेयजल की व्यवस्था कर मस्तिष्क ज्वर पर नियंत्रण पाया। स्वच्छ भारत मिशन के तहत घर-घर शौचालय बनवाकर तथा लोगों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराकर हमने इंसेफेलाइटिस पर 80 फीसद व इससे होने वाली मौतों पर 95 फीसद तक नियंत्रण पा लिया है। सीएम ने कहा कि अब इंसेफेलाइटिस से कोई मौत नहीं होने पाएगी। इंसेफेलाइटिस पर नियंत्रण का प्रदेश सरकार ने सफलतम मॉडल पेश किया है।

कोरोना पर काबू पाने में भी सफल रहा उत्तर प्रदेश

मुख्यमंत्री ने कहा कि इंसेफलाइटिस की तरह वैश्विक महामारी कोरोना पर काबू पाने में भी उत्तर प्रदेश पूरी तरह सफल रहा। उन्होंने कहा कि अमेरिका जैसे बड़े देश में जहां 33 करोड़ की आबादी में पांच लाख से अधिक मौतें हुईं, वही उत्तर प्रदेश में सामूहिक प्रयासों से हमने इससे काबू में रखा। सीएम ने कहा कि उत्तर प्रदेश में कोविड काल के दौरान 40 लाख से अधिक लोग बाहर के राज्यों से वापस आए। यह लोग उन राज्यों से आए थे जहां कोरोनावायरस कहर सर्वाधिक था।

चौक को मिलेगा नगरपालिका का दर्जा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नगर पंचायत चौक में शामिल क्षेत्रों के निवासियों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि इससे इन लोगों को शहरी क्षेत्र की सुविधाओं का लाभ मिलेगा। सीएम ने कहा कि चौक नगर पंचायत का विकास अच्छी दिशा में हुआ तो इसे नगरपालिका का भी दर्जा दिया जाएगा। पांच लाख से अधिक आबादी होने पर नगर निगम भी बनाया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि विकास की नई सोच से रोजगार की संभावनाएं भी बढेंगी, पर्यटन केंद्रों का भी निर्माण होगा। यहां गोरखनाथ मंदिर और सुनाड़ी माता मंदिर पर्यटन के साथ विकास और रोजगार की संभावनाओं को बढ़ावा देंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार जहां भी सड़क, बिजली, जलनिकासी, शुद्ध पेयजल, स्वास्थ्य आदि सुविधाओं की आवश्यकता है, उपलब्ध कराने को प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि जीवन की सुगमता पर पीएम मोदी का खासा जोर है और प्रदेश सरकार इस पथ पर तेजी से कार्य कर रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास और रोजगार हर चेहरे पर खुशहाली लाने का माध्यम बन रहे हैं।

चार सालों में महराजगंज में आया व्यापक परिवर्तन

मुख्यमंत्री ने कहा कि चार सालों में महाराजगंज जिले की दशा में व्यापक परिवर्तन आया है। इस सीमावर्ती क्षेत्र में सुरक्षा और अन्य समस्याओं पर हमें आना पड़ता था, आंदोलन करना पड़ता था। किसान परेशान और नौजवान बदनाम होता था, बहन-बेटियां सुरक्षित नहीं थीं। पिछले चार सालों में प्रदेश मे बनाए गए 100 नगर निकायों में से चार महराजगंज जिले में हैं। इससे विकास में तेजी आ रही है। हर प्रकार की बुनियादी सुविधाओं का लाभ मिल रहा है। उन्होंने कहा कि आज जिन परियोजनाओं की सौगात मिली है उनमें नेपाल बॉर्डर के साथ ठूठीबारी से प्रारंभ होकर पीलीभीत उत्तराखंड तक जाने वाली सड़क की सुविधा का लाभ भी शामिल है। इससे उत्तर प्रदेश पुलिस और सशस्त्र सीमा बल के जवानों को भी सुरक्षा ड्यूटी में सुविधा होगी। जल जीवन मिशन समेत तमाम योजनाओं का लाभ महराजगंज को मिलेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि अब तो महराजगंज में पीपीपी मॉडल पर मेडिकल कॉलेज भी खुलने जा रहा है, इससे यहां कब लोगों को और बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मिलने लगेंगी।

पहले चेहरा देख मिलती थी बिजली, अब बिना भेदभाव

मुख्यमंत्री ने कहा आज से चार साल पहले तक लोग बिजली कनेक्शन तो दूर विद्युतीकरण को तरसते थे। 19 साल सांसद रहने के दौरान इस समस्या को महसूस किया। चार साल अवधि में 1.33करोड़ लोगों को निशुल्क बिजली कनेक्शन दिया गया है। पहले चेहरा और क्षेत्र देखकर बिजली दी जाती थी, आज बिना भेदभाव निर्बाध बिजली दी जा रही है। जिला मुख्यालय को 24 और ग्रामीण क्षेत्रों में 16 से 18 घण्टे तक बिजली मिल रही है।


होली पर उमंग के साथ सतर्कता पर भी हो ध्यान

लोकार्पण व शिलान्यास समारोह में उपस्थित लोगों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने होली की शुभकामनाएं भी दीं। साथ ही उन्होंने कोरोना के मद्देनजर सतर्क रहने को भी नसीहत दी। उन्होंने कहा कि कोरोना से लड़ाई अभी जारी है इसलिए होली पर उमंग के साथ सतर्कता भी बहुत जरूरी है। नया स्ट्रेन जिन राज्यों महाराष्ट्र, पंजाब, कर्नाटक, केरल आदि राज्यों में मिला है वहां की स्थिति बेहद खराब है। होली और पंचायत चुनाव में काफी लोग बाहर के राज्यों से आ रहे होंगे, लोग उनकी सूचना जिला प्रशासन को अवश्य दें, उनकी आइटीपीसीआर जांच कराई जाए। कोई दिक्कत होने पर ऐसे लोग सुविधा हो तो घरों में एकांतवास में रहें या घर पर सुविधा न होने पर अस्पताल लाया जाए। एम्बुलेंस से लेकर अस्पताल में इलाज, भोजन तक सब निशुल्क है। उन्होंने अपील की 60 वर्ष से अधिक के लोग वैक्सीन जरूर लगवा लें। 1 अप्रैल से 45 वर्ष से अधिक लोगों को भी वैक्सीन की सुविधा मिलेगी। सीएम ने कहा कि होलिकादहन बुराइयों को छोड़ने का दिन है, हमें इस दिन खुले में शौच, छुआछूत, भेदभाव, कुरीतियों को दूर करने का संकल्प लेना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने तमाम उपलब्धियां भी गिनाईं

अपने संबोधन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनहितकारी तमाम उपलब्धियों का भी उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार की मंशा हर व्यक्ति को आवास, शौचालय, पेयजल और स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ देने की है। बताया कि प्रधानमंत्री आवास योजना में प्रदेश में 40 लाख लोगों को मकान दिया गया है। वनटांगिया गांवों के लोगों को मुख्यमंत्री आवास योजना से आच्छादित किया गया है। 2.61 करोड़ घरों में शौचालय बनवाए गए हैं। अब तो गांवों में सामुदायिक शौचालय भी बनवाए गए हैं जहाँ गांव की महिला ही देखरेख कर हर माह छह हजार रुपए का रोजगार भी प्राप्त करेगी। इससे 58 हजार महिलाओं को रोजगार मिलेगा।

14 परियोजना का सीएम योगी ने किया लोकार्पण

  • 388.67 लाख की बने ठूठीबारी-महेशपुर इंडो-नेपाल बॉर्डर सड़क मार्ग
  • 255.57 लाख की एनएच 730एस से ठूठीबारी मार्ग का चौड़ीकरण
  • 1877.98 लाख की समेकित विशेष माध्यमिक विद्यालय भवन
  • 120 लाख की लागत से कोट कम्हरिया में वृहद गोसंरक्षण केंद्र निर्माण
  • 449.44 लाख के सीएचसी घुघली का भवन निर्माण
  • 602.87 लाख की लागत से गोपाला के सीएचसी भवन का निर्माण
  • 553.77 लाख से राजकीय इंटर कालेज फरेंदा भवन निर्माण
  • 172.69 लाख रुपये की लागत से महामाया पालीटेक्निक छात्रावास
  • 140.55 लाख की लागत वाली बड़हरा मीर पाइपलाइन पेयजल
  • 280.80 लाख की लागत वाली बांसपार बेजौली पाइपलाइन पेयजल
  • 288.39 लाख की लागत वाली गोनहा की पाइपलाइन पेयजल
  • 356.59 लाख की लागत वाली फुलमनहां की पाइपलाइन पेयजल
  • 215.84 लाख की लागत वाली केशौली की पाइपलाइन पेयजल
  • 250.02 लाख की लागत वाली नरायनपुर की पाइपलाइन पेयजल

100 सड़कों का किया शिलान्यास

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 220 लाख रुपये से अधिक धनराशि से लोक निर्माण विभाग द्वारा कराए जाने वाले 100 से अधिक सड़क निर्माण व अन्य कार्यों का शिलान्यास भी किया।

Updated : 27 March 2021 4:13 PM GMT
Tags:    

Swadesh Lucknow

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top