Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > बेनी प्रसाद की मूर्ति का अनावरण के मौके पर सपा का शक्ति प्रदर्शन, बोले अखिलेश-लाल टोपी से घबरा रही बीजेपी

बेनी प्रसाद की मूर्ति का अनावरण के मौके पर सपा का शक्ति प्रदर्शन, बोले अखिलेश-लाल टोपी से घबरा रही बीजेपी

लाल टोपी से भजपा सरकार डरती है। इससे इस लिये घबरा रही है क्योंकि 2022 में लाल टोपी की सरकार बनने जा रही है।

बेनी प्रसाद की मूर्ति का अनावरण के मौके पर सपा का शक्ति प्रदर्शन, बोले अखिलेश-लाल टोपी से घबरा रही बीजेपी
X

बाराबंकी/दिनेश चंद्र श्रीवास्तव: भाजपा सरकार लाल टोपी से घबरा रही है, क्यूंकि लाल टोपी की सरकार बनने जा रही है। नोटबंदी से क्या बेईमानी खत्म हो गयी, वैश्विक महामारी कोरोना के नाम पर आप सभी को अपमानित किया गया। इतने बुरे दिन दिखा दिये, लोगो का कारोबार छूट गया, नौकरी चली गयी। वर्दी वालो का वेतन काट लिया गया। बंगाल चुनाव में वैश्विक बीमारी से कोई फर्क नहीं है। उत्तर प्रदेश में पंचायती चुनाव हारने का भाजपा को खतरा है तो, यहां कोरोना महामारी के नाम पर खेल खेला जा रहा है। यह बाते स्व. बेनीप्रसाद वर्मा के प्रथम श्रद्धांजलि सभा के साथ आयोजित मूर्ति अनावरण कार्यक्रम में मुख्य अतिथि रहे सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपने भाषण में कही।

जिला प्रशासन के लिए चुनौती बनी बड़ी भीड़

शहर स्थित मोहनलाल स्नातक विद्यालय मे शनिवार को भूतपूर्व सांसद स्व. बेनीप्रसाद वर्मा की प्रथम पुण्यतिथि पर मूर्ति अनावरण व श्रद्धांजलि कार्यक्रम में स्व. बेनीप्रसाद की प्रतिमा का अनावरण सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव के हाथों उदघाटन किया जाना कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य था। जिसमे प्रदेश के अनेक जनपदों से पहुँचे हज़ारों कार्यकर्ताओ की भीड़ एकत्रित से जिला प्रशासन भी हतप्रभ रह गया। पूरा क्षेत्र समाजवादियो के के अखिलेश यादव जिंदाबाद समाजवादी पार्टी जिंदाबाद के नारो से गूंज रहा। सपा सुप्रीमो अखिलेश ने दोपहर डेढ़ बजे पहुंच कर स्व. बेनीप्रसाद वर्मा की समाधि पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि देने के साथ उनकी प्रतिमा का अनावरण किया। जिसके पश्चात मंच पर सपा नेताओ के साथ पूर्व कारागार मंत्री राकेश वर्मा ने सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष माला पहना कर प्रतीक चिन्ह भेंट करते हुऐ उनका स्वागत किया। जिसके बाद कार्यक्रम अपने असली रंग में दिखा, जिसने भी माइक संभाला वह प्रदेश में होने वाले 2022 और आगामी त्रिस्तरीय पंचायती चुनाव के मुद्दे की बात करता नज़र आया। जिससे स्पष्ट हो गया की स्व. बेनीबाबू का मूर्ति अनावरण कार्यक्रम के बहाने 2022 की रणनीति की नींव रखना और सपा से किसको उम्मीदवार बनाया जायेगा कोलाहल का विषय बन गया।

लालटोपी की सरकार बनने जा रही है - अखिलेश

लाल टोपी से भजपा सरकार डरती है। इससे इस लिये घबरा रही है क्योंकि 2022 में लाल टोपी की सरकार बनने जा रही है। सड़को तक फैली करीब 20-30 हज़ार लोगों की भीड़ देख कर सपा सुप्रीमो ने कार्यक्रम की दशा दिशा ही बदल दी थी, मंच पर लगातार भाजपा की केन्द्र और प्रदेश की सरकार पर निशाना साधते हुऐ नोटबंदी से, कोरोना के नाम पर अपमान देश के सरकारी विभागो का निजीकरण किये जाने पर, तीखे व्यंग कसते हुऐ लोगो की भीड़ की तालियां बटोरी। उपस्थित जनसमूह को किसान समझ कर कृषि कानूनो को काला क़ानून बताते हुऐ तीनो बिलो को किसान विरोधी बताया। अखिलेश यादव ने 2022 के चुनाव के मद्देनज़र रखते हुऐ बाराबंकी का नाम लेकर कहा की यहां से जितने वाली पार्टी की सरकार प्रदेश मे बनती है। समाजवादी गढ़ के रूप में जनपद को दर्ज़ा देते हुऐ लोहिया की याद दिला कर उन्होंने उपस्थित समूह को स्व. बेनीबाबू के सपने को पूरा करने के नाम पर 2022 में स्वयं को मुख्यमंत्री बनाने की बार-बार अपील की। उन्होंने केन्द्र सरकार की तुलना ईष्ट इंडिया कंपनी से करते हुऐ देश में फैली बेरोजगारी और लोकतंत्र को समाप्त करने के आरोपो की झड़ी लगा दी। अखिलेश ने गैस, डीज़ल और पेट्रोल की बढ़ी हुई कीमतो का मुद्दा उठा कर भाजपा सरकार पर महंगाई बढ़ाने और इन्ही मुद्दो पर सरकार बनाने का ठीकरा फोड़ते हुऐ जनता के साथ धोखा बताया। कार्यक्रम में उमड़ी भीड़ में मौजूद गैर जनपद से आये लोगो तक अपनी सरकार की उपलब्धियो का बखान भी किया।

बाबू जी को होगी, अंतिम श्रद्धांजलि - राकेश

स्व. बेनीप्रसाद वर्मा के पुत्र पूर्व कारागार मंत्री राकेश वर्मा ने अपने पिता की मूर्ति अनावरण कार्यक्रम पर कहा इतने बड़े पैमाने पर नहीं करना चाहता था। लेकिन राष्ट्रीय अध्यक्ष के कहने पर किया। मुख्य अतिथि समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव का स्वागत करने के बाद राकेश वर्मा ने अपने भाषण में कहा की बेनी बाबू/नेता जी का सपना पूरा करके 2022 में अखिलेश को मुख्यमंत्री बनायेगे, सपा की सरकार बनना बाबू जी को अंतिम श्रद्धांजलि होगी। राकेश वर्मा ने यह भी कहा की, कि मै कोई राजनीतिक बात नहीं करना चाहता, लेकिन राजनीति के बिना कुछ हो भी नहीं सकता।

महिला आरक्षी हुई अचेत

मूर्ति अनावरण कार्यक्रम कि सुरक्षा के पुलिस ने पुख्ता इंतिज़ाम किये हुऐ थे। अनुमान से अधिक भीड़ जो सड़क तक थी, पुलिस नियंत्रण करने में जुटी रही। घनी धूप के चलते एक महिला आरक्षी अखिलेश यादव के भाषण के दौरान अचेत हो गयी। जिसे तत्काल साथी आरक्षियो ने उपचार के लिये वहां से अस्पताल ले गये।

मीडिया के बीच नारेबाजी

सपा के बेकाबू कार्यकर्ता मीडियाकर्मियो के बीच घुस आये और वही से अखिलेश यादव जिंदाबाद के नारे लगाकर मीडिया के लोगो द्वारा किये जा रहे कवरेज में व्यवधान उत्पन्न किया। मना करने पर बहस करने पर आमादा हो गये। हाल ही में सहारनपुर में मीडिया और सपा सुप्रीमो के बीच हुऐ विवाद को मीडिया के बीच घुसे सपा कार्यकर्ताओ ने ताज़ा कर दिया।

मौजूद रहे बड़े सपाई नेता और कार्यकर्त्ता

समाजवादी पार्टी के प्रदेश स्तर से लेकर जनपद और ब्लॉक स्तर के बड़े से लेकर स्थानीय नेता और कार्यकर्ता मौजूद रहे। जिनमे पूर्व प्रदेश महासचिव अरविन्द सिंह गोप, पूर्व मंत्री फरीद महफूज किदवई, एमएलसी राजेश यादव हो सदर विधायक सुरेश यादव, जैदपुर विधायक गौरव रावत और जिलाध्यक्ष हाफ़िज़ अयाज़ एवं पूर्व जिलाध्यक्ष डॉ. कुलदीप सिंह यह सभी मंच पर उपस्थित रहे। इसके अतिरिक्त एक अन्य मंच भी बनाया गया था जिस पर अन्य सपा नेताओ की भारी संख्या में मौजूदगी रही।

Updated : 27 March 2021 1:27 PM GMT
Tags:    

Swadesh Lucknow

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top