Top
Home > खेल > क्रिकेट > 2017 में मोएसेस हेनरिक्स क्यूँ करना चाहते थे आत्महत्या

2017 में मोएसेस हेनरिक्स क्यूँ करना चाहते थे आत्महत्या

2017 में मोएसेस हेनरिक्स क्यूँ करना चाहते थे आत्महत्या

नई दिल्ली। ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर खिलाड़ी मोएसेस हेनरिक्स ने डिप्रेशन के खिलाफ अपनी जंग के बारे में बात की है। अपने डिप्रेशन के बारे में बताते हुए उन्होंने इस बात का खुलासा किया कि शेफील्ड शील्ड के एक मैच के दौरान उनके मन में आत्महत्या का ख्याल आया था। लेकिन अपने आसपास और चाहने वालों की वजह से वह इस ख्याल को मन से निकाल पाए। क्रिकेटर्स और डिप्रेशन का यह कोई पहला मामला नहीं है। कुछ वक्त पहले ऑस्ट्रेलियाई के ग्लेन मैक्सवैल और भारत के प्रवीण कुमार ने भी अपने डिप्रेशन पर बात की थी। प्रवीण कुमार ने भी कहा था कि वह इस कदर डिप्रेस हो गए थे कि अपने सिर पर बंदूक तक तान ली थी।

नेरौली मिडोस से पॉडकास्ट शो में बात करते हुए मोएसेस हेनरिक्स ने कहा, ''मैं हर उस लक्षण से गुजर रहा था, जो आप गूगल पर डिप्रेशन के बारे में देखते हैं। चार हफ्तों में मेरा 10 किलो वजन कम हो गया था। मैं 98 किलो से 88 किलो पर आ गया था।'' ऑस्ट्रेलिया के इस इंटरनेशनल खिलाड़ी ने आगे कहा कि मैं एक बहुत बुरे दौर से गुजर रहा था।

33 साल के इस खिलाड़ी ने उन दौर को याद करते हुए बताया कि शेफील्ड शील्ड के मैच के दौरान मैंने टॉस जीता था और पहले गेंदबाजी का फैसला लिया। बैंक्सटाउन ओवल में तस्मानिया के खिलाफ हमारा मैच था। हेनरिक्स के मुताबिक, उन्हें उम्मीद थी कि हरियाली होने पर गेंदबाजों को निश्चित रूप से ट्रैक से कुछ मदद मिलेगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। बल्लेबाजी पक्ष ने स्कोरबोर्ड पर 450 रन के कुल स्कोर को पोस्ट करने के बाद दूसरे दिन पर डिक्लेयर किया।

उन्होंने कहा, ''पहली पारी में उनका स्कोर पांच विकेट के नुकसान पर 90 रन था। इसके अलावा, वह उस मैच में बड़ा स्कोर बनाने में भी नाकाम रहे, क्योंकि वह अपनी पारी में सिर्फ 20 रन बनाकर आउट हो गए।'' हेनरिक्स ने बताया कि खेल के दूसरे दिन के अंत में घर वापस जाते समय वह फुल स्पीड में कार चला रहे थे। इस दौरान उनके मन में ख्याल आया कि वह अपनी गाड़ी को किसी खंभे में ठोंक दे, लेकिन इसके परिणाम को सोचकर मैंने इस ख्याल को मन से निकाल दिया।

इसके बाद वह कार में खूब रोए। उनके गालों पर आंसू बह रहे थे। उन्होंने बताया, ''जब मैंने सोचा कि अपनी कार को खंभे से टकरा दूं। इसके बाद क्या होगा? अगर ऐसा होता है तो इसका नतीजा क्या निकलेगा? मैं ऐसा नहीं कर सकता। यह मेरे भाइयों, मेरी पार्टनर और उन सब लोगों के साथ सही नहीं होगा, जो मुझे प्यार करते हैं।''

मोएसेस हेनरिक्स ने कहा, ''मैं अगले दो दिनों के लिए दस लोगों के साथ अपनी टीम नहीं छोड़ सकता। मैं इस सबसे वापस आने की कोशिश कर रहा था और बुरी तरह से रो रहा था। मैं कांप रहा था। मैंने खुद को संभाला और इसमें मुझे पांच मिनट लगे।''

Updated : 23 April 2020 8:28 AM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top