Top
Home > खेल > क्रिकेट > टीम इंडिया के बॉलिंग कोच भरत अरुण ने कहा - हेड कोच ने बुमराह के टेस्ट डेब्यू में निभाई अहम भूमिका

टीम इंडिया के बॉलिंग कोच भरत अरुण ने कहा - हेड कोच ने बुमराह के टेस्ट डेब्यू में निभाई अहम भूमिका

टीम इंडिया के बॉलिंग कोच भरत अरुण ने कहा - हेड कोच ने बुमराह के टेस्ट डेब्यू में निभाई अहम भूमिका

नई दिल्ली। टीम इंडिया के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को भी जाता है। बुमराह तीनों फॉर्मैट में टीम इंडिया के सबसे सफल तेज गेंदबाजों में शुमार हैं। 2016 में ऑस्ट्रेलिया दौरे पर वनडे इंटरनैशनल और टी20 इंटरनैशनल में डेब्यू करने वाले बुमराह को टेस्ट डेब्यू के लिए दो साल इंतजार करना पड़ा था। उनके टेस्ट टीम में चुने जाने के पीछे एक रोचक किस्सा भी है। टीम इंडिया के बॉलिंग कोच भरत अरुण ने बताया कि किस तरह हेड कोच रवि शास्त्री ने बुमराह के टेस्ट डेब्यू में अहम भूमिका निभाई थी।

जनवरी 2018 में भारतीय टीम दक्षिण अफ्रीका के दौरे पर थी। भरत अरुण ने बताया कि कैसे बुमराह टेस्ट फॉर्मैट में भी टीम इंडिया के सबसे अहम तेज गेंदबाज बन गए। उन्होंने बताया कि बुमराह को टेस्ट टीम में शामिल करना आसान बात नहीं थी, हालांकि लिमिटेड ओवर फॉर्मैट में उनके प्रदर्शन से सभी काफी प्रभावित थे। स्पोर्ट्सकीड़ा के साथ फेसबुक लाइव सेशन के दौरान अरुण ने बताया, 'यह कहना गलत होगा कि मैं था जिसने टेस्ट क्रिकेट के लिए बुमराह को टीम में चुना था। दरअसल वो रवि शास्त्री थे, जो टेस्ट टीम में बुमराह को चाहते थे।'

उन्होंने कहा, 'मुझे लगता है कि दक्षिण अफ्रीका दौरे से पहले कोलकाता के मैच के बाद रवि शास्त्री को लगा था कि बुमहार काफी कारगर साबित हो सकते हैं। वो बुमराह से काफी प्रभावित थे। वो चाहते थे कि मैं बुमराह को बुलाऊं और उनसे यह बात कहूं। यह दक्षिण अफ्रीका दौरे से करीब दो महीने पहले की बात है। वो चाहते थे कि मैं बुमराह को बुलाऊं और उनसे कहूं कि वो संभवत: टेस्ट टीम में शामिल होकर दक्षिण अफ्रीका जाएंगे।'

जब बुमराह को बताया गया तो उन्होंने कहा कि वो मौका मिलने पर खुद को साबित करेंगे क्योंकि ज्यादातर लोगों का मानना था कि वो लिमिटेड ओवर क्रिकेट के लिए सही गेंदबाज हैं। वो खुद को टेस्ट क्रिकेट में साबित करना चाहते थे। उन्होंने कहा, 'तो, उन्होंने कहा कि मैं टेस्ट मैच गेंदबाज बनने के लिए कुछ भी करूंगा और मैं इसके लिए कड़ी मेहनत भी करूंगा। सच कहूं तो यह रवि शास्त्री का आइडिया था कि बुमराह इस चैलेंज के लिए तैयार हैं।' बुमराह को टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू कराने के फैसला सही साबित हुआ। बुमराह अभी तक 14 टेस्ट मैच खेल चुके हैं और इस दौरान उन्होंने 68 विकेट लिए हैं। वो पांच बार एक मैच में पांच विकेट ले चुके हैं।

Updated : 25 Jun 2020 8:52 AM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top