Top
Home > विशेष आलेख > मानव जीवन के प्रति वैज्ञानिक दृष्टिकोण रखता योग आयुर्वेद की गौरवशाली परंपरा

मानव जीवन के प्रति वैज्ञानिक दृष्टिकोण रखता योग आयुर्वेद की गौरवशाली परंपरा

मानव जीवन के प्रति वैज्ञानिक दृष्टिकोण रखता योग आयुर्वेद की गौरवशाली परंपरा
X

वेबडेस्क। वैश्विक महामारी का सामना कर रहा विश्व आज बड़ी आतुरता से भारतीय योग-वेदांत तथा आयुर्वेद पर आधारित जीवन पद्धति की चर्चा कर रहा है। आज विश्व यह स्वीकार करने की स्थिति में है की योग आयुर्वेद में स्वास्थ्य के साथ आर्ट ऑफ़ लिविंग (जीने की कला) के बारे समग्रता से चिंतन समाहित है। बात सन 2020 की है जब उच्च सदन राज्यसभा में मेडिसिन बिल पर चर्चा के दौरान सांसद डॉ सुधांशु त्रिवेदी ने आयुर्वेद के सन्दर्भ में अतिशोध परक बात कही की "आयुर्वेद आयु का विज्ञान है, यह भारतीय ऋषियों के चिंतन तथा शोध का प्रतिफल है। हमारे वेदों की महिमा ही है जिसमें जीवन के प्रत्येक आयाम की बड़ी गहनता से वर्णन किया गया है।"

वास्तव में यह गौरवानुभूती की बात है की हिन्दू धर्मग्रंथो (रिलीजियस टेस्ट बुक्स) में एडवांस चिकित्सा पद्धति, जीवन प्रबंधन और मैथमेटिक्स का जिक्र बड़े विस्तार से किया गया है। दुनिया के किसी अन्य धर्मग्रंथो में ऐसा नहीं मिलता। आयुर्वेद अथर्वेद का हिस्सा है। प्रकृति के नियमों पर आधारित आयुर्वेद मनुष्य को संतुलित आहार, उत्तम दिनचर्या एवं ऋतुचर्या वाला संतुलित विहार और इन्द्रिय विजय के साथ विकार समाप्ति हेतु सद्वृत्त का आचरण करना सिखाता है। जो कि सदाचार पर आधारित होता है। जीवन के इन सभी सैद्वान्तिक मूल्यों को योग के माध्यम से सहजतापूर्वक प्राप्त किया जा सकता है। योग हमारे रक्त में सुरक्षा-तन्त्र की कोषिकाओं के बल में अपार वृद्धि करता है और प्रतिकूल वातावरण से भी हमारे शरीर की सुरक्षा करता है। योग के माध्यम से मानसिक स्थिरता प्राप्त की जा सकती है और स्थिर मन से ही जीवन को सात्विक मार्ग पर ले जाया जा सकता है। यह कहना अतिष्योक्ति नहीं होगा कि यदि आयुर्वेद एक जीवन प्रणाली है तो योग जीवन प्रबन्धन है। योग को जीवन का विज्ञान भी कहा जा सकता है। आयुर्वेद प्रकृति का तंत्र है तो योग आत्मसाक्षात्कार का आध्यात्मिक दर्शन है।

आचार्य सुश्रुत को सर्जरी का जनक -

पश्चिम की सबसे बड़ी उपलब्धि शल्यक्रिया (सर्जरी) को मन जाता है, परन्तु अमेरिकन कॉउंसिल ऑफ सर्जन में आचार्य सुश्रुत को सर्जरी का जनक माना जाता है। और सर्जरी का सम्पूर्ण वर्णन 'सुश्रुत संहिता' में मिलता है। सुश्रुतसंहिता आयुर्वेद के तीन मूलभूत ग्रन्थों में से एक है। आठवीं शताब्दी के इस ग्रन्थ में 184 अध्याय हैं, जिनमें 1120 रोगों, 700 औषधीय पौधों (मेडिसिन), 300 ऑपरेशन प्रक्रियाओं (प्रोसीजर), 125 तरह के उपकरणों का उल्लेख है। और इस बात की पुष्टि ब्रिटिश समय के भारतीय पुरातत्व विभाग के प्रमुख सर जॉन मार्शल ने हड़पा संस्कृति के ऊपर अपने शोध पत्र के पेज नंबर 210 पर लिखते हैं की यहाँ सर्जिकल इंस्ट्रूमेंट द्वितीय शताब्दी से उपलब्ध है। लंदन से प्रकाशित होने वाली पत्रिका 'द जेन्टल मैन' ने 1794 में दो डॉक्टर जेम्स पेंडिल और थॉमस के हवाले से एक रिसर्च छापी की कटे हुए अंगों को जोड़ने की विधि अर्थात प्लास्टिक सर्जरी आयुर्वेदिक सिस्टम से सीखी। प्राप्त दस्तावेजों के अनुसार ऑपरेशन में बेलाडोना पट्टी, मछली का तेल, चौक पावडर तथा पिपरमेंट के उपयोग का उल्लेख मिलता है। साथ ही जो मरीज उन दिनों ऑपरेशन के लिए राजी हो जाते थे, उन्हें ठीक होने के बाद प्रोत्साहन राशि एवं ईनाम के रूप में दो रूपए भी दिए जाते थे, जो उन दिनों भारी भरकम राशि मानी जाती थी।

टर्मिनलिआ अर्जुना -

इसी क्रम में कुछ आयुर्वेदिक औषधियों की वैज्ञानिकता पर बात करते हैं, हृदय के लिए अर्जुनरिष्ठ लेते है जिसका अंग्रेजी साइंटिफिक नाम 'टर्मिनलिआ अर्जुना' है, तुलसी को अंगेजी में 'होली बेसिल' कहा जाता है। यह स्वीकारोक्ति 'होली' अर्थात पवित्र शब्द हमने नहीं दिया यह उनके द्वारा दिया हुआ है, इसका मतलब धार्मिक दृष्टि से महत्पूर्ण इस औषधि में कुछ विशेष वैज्ञानिक गुण निहित है। हमारे यहाँ स्वास्थ्य हेतू प्राणवायु और पूजा के दृष्टि से जिनको महत्पूर्ण माना गया वह है 'पीपल वृक्ष', जिसे अंग्रेजी में फिकस रेलिजिओसा कहते हैं। अर्थात हमारे यहाँ धार्मिक दृष्टि से पाए जाने वाले वृक्षों में चिकित्सीय गुण है जिसे विश्व भी मान्यता देता है। इससे एक बात पूर्णतः स्पष्ट हो जाती है की हिन्दू रिलीजियस टेस्ट बुक आधुनिक विज्ञान को भी समाहित किये हुए है।

"मराठा साम्राज्य", और "विजयनगर साम्राज्य" -

कहने का तात्पर्य यह है कि भारतीय इतिहास और संस्कृति में ऐसा बहुत कुछ छिपा हुआ है बल्कि जानबूझकर छिपाया गया है, जिसे जानने-समझने और जनता तक पहुँचाने की जरूरत है। वामपंथी इतिहासकारों द्वारा भारतीयों को हीनभावना से ग्रसित रखे जाने का जो षडयंत्र रचा गया है उसे छिन्न-भिन्न कैसे किया जाएगा। आजकल के बच्चों को तो यह भी नहीं मालूम कि "मराठा साम्राज्य", और "विजयनगर साम्राज्य" नाम का एक विशाल शौर्यपूर्ण इतिहास मौजूद है। दुर्भाग्य से हमारी नई पीढ़ी तो सिर्फ मुग़ल साम्राज्य के बारे में जानती हैं।

गो बैक टू हर्बल मेडिसिन -

पिछले चार -पांच दशकों से नई नई मेडिसिन को खाने का प्रचलन बढ़ा है परन्तु आज परिस्थितिवस विश्व 'गो बैक टू हर्बल मेडिसिन' जाने पर विवास हो रहा है। अब प्रश्न यह उठता है की पश्चिम का विज्ञान तब सही था या अब? क्या हमरी पद्धति अकाट्य नहीं थी? हमें इस बदलाव को मिलकर विश्व को स्वीकार कराने का समय आ गया है सियावे अब उन से सर्टिफाइड होने की आवश्यकता नहीं है। प्रायः जब हम भारत के किसी प्राचीन ज्ञान अथवा इतिहास के बारे में बताते हैं तो सहसा विश्वास ही नहीं होता। क्योंकि भारतीय संस्कृति और इतिहास की तरफ देखने का हमारा दृष्टिकोण ऐसा बना दिया गया है। मानो हम कुछ हैं ही नहीं, जो भी हमें मिला है वह सिर्फ और सिर्फ पश्चिम और अंग्रेज विद्वानों की देन है। जबकि वास्तविकता इसके ठीक विपरीत है। आज जरूरत इस बात की है की हम अपने इस एडवांस सोर्स ऑफ सिस्टम को जाने और उस पर गौरव करें तथा मजबूती से विश्व को बतायें।मेरे वेदों का ज्ञान अमर, मेरे वेदों की ज्योति प्रखर।मानव के मन का अंधकार, क्या कभी सामने सका ठहर?


Updated : 21 Jun 2021 11:13 AM GMT
Tags:    

Birendra Pandey

लेखक शिक्षाविद हैं, अभियांत्रिकी शोधार्थी के साथ आप समसामयिक मामलों के जानकर हैं। आप लोक संस्कृति विज्ञानी हैं। आपके अनेकों आलेख देश के अलग अलग समाचर पत्रों तथा जर्नल्स-मैगजीन में प्रकाशित होते रहते हैं।  Birendra pandey is a educationist. He is Socio economical and political analyst. He is author of multiple books, research papers and articles.


Next Story
Share it
Top