Top
Home > विशेष आलेख > कारपेंटर से विकिपीडिया एडिटर बनकर राजू जांगिड़ ने कायम की मिसाल

कारपेंटर से विकिपीडिया एडिटर बनकर राजू जांगिड़ ने कायम की मिसाल

कारपेंटर से विकिपीडिया एडिटर बनकर राजू जांगिड़ ने कायम की मिसाल
X

स्वदेश वेबडेस्क।विकिपीडिया पर हर कोई अपने बारे में देखना चाहते है लेकिन यह हर किसी के लिए मुमकिन नहीं है क्योंकि दुनिया के इस सबसे बड़े ज्ञानकोष पर उल्लेखनीय लोगों और अन्य चीजों पर ही जानकारी मिलती है जिन्हें कोई और नहीं बल्कि राजू जांगिड़ जैसे वोलुन्टियर लिखते है जिन्होंने कारपेंटरी के काम के साथ विकिपीडिया पर अपना योगदान देना उपयोगी माना।

राजस्थान के जोधपुर जिले के रहने वाले 22 वर्षीय राजू जांगिड़ जिन्होंने 2015 में कारपेंटरी का काम करते हुए एक सादे वेनिला मोबाइल फोन का उपयोग करके हिंदी विकिपीडिया पर एडिट करना शुरू किया था, जो अब तक 45 हजार के आसपास एडिट और 1800 से ज्यादा लेख बना चुके है।विकिपीडिया एक स्वयंसेवक से तैयार की गई विश्वकोश है, और इस कार्य को चलाने वाले एडिटर इस ज्ञानकोष को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। मुख्य रूप से अंग्रेज़ी और अन्य बेहतर भाषा संस्करणों के कारण विकिपीडिया, दुनिया की आठवीं सबसे अधिक देखी जाने वाली वेबसाइट है।

"मैं जब आठवीं कक्षा में था तब मुझे विकिपीडिया के बारे में पता चला था। मैंने देखा कि गूगल में हमेशा कुछ भी सर्च करने पर सबसे ऊपर विकिपीडिया के पेज आते है।" उन्होंने कहा। राजू जांगिड़ राजस्थान में जोधपुर जिले के ठाडिया गांव के रहने वाले हैं। उन्होंने जनवरी 2015 में विकिपीडिया पर लाखों वोलुन्टियर में से एक बनने के लिए साइन अप किया था जब वह कारपेंटरी का काम और साथ में डिस्टेंस एजुकेशन कर रहे है। हिंदी विकिपीडिया पर आज लगभग 1,41,000 से ज्यादा पेज है जबकि कुल 5,85,000 से ज्यादा लोगों ने रजिस्टर किया है।

उन्होंने बताया कि कैसे उन्होंने अपने जावा सैमसंग फोन का उपयोग करते हुए विकिपीडिया पर अपने पसंदीदा विषय - क्रिकेट के बारे में लिखना शुरू किया जब उनके पास सिर्फ एक पुराना कीपैड वाला मोबाइल ही था। "हिंदी विकिपीडिया में क्रिकेट पर ज्यादा लेख नहीं थे; इसलिए मैंने 'विकी प्रोजेक्ट क्रिकेट' की शुरुआत की और अब तक हमने लगभग 650 से ज्यादा लेख बनाये है।" - उन्होंने कहा। जांगिड़ के पसंदीदा क्रिकेटर एम.एस. धोनी है जिनका "हेलीकॉप्टर शॉट्स" वह खूब पसन्द करते हैं। जांगिड़ का कहना है कि वह खुद भी क्रिकेटर बनना चाहते थे और खेलते हैं। लेकिन घर की खराब आर्थिक स्थिति के कारण क्रिकेटर बनने का सपना अधूरा ही रह गया।

"विकिपीडिया पर आजकल कई चैलेंज भी चलते है और एक बार मैंने भी 100WikiWomensDay चैलेन्ज किया पूरा किया है। इसमें मैंने 100 दिन तक रोज एक महिला के बारे में पेज बनाया है।" - उन्होंने इंटरव्यू के दौरान बताया।

Updated : 19 Sep 2020 12:48 PM GMT
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top