Latest News
Home > धर्म > महाशिवरात्रि पर कई दशकों बाद गजकेसरी और पंचग्रही योग का अद्भुत संयोग

महाशिवरात्रि पर कई दशकों बाद गजकेसरी और पंचग्रही योग का अद्भुत संयोग

डॉ. मृत्युञ्जय तिवारी

महाशिवरात्रि पर कई दशकों बाद गजकेसरी और पंचग्रही योग का अद्भुत संयोग
X

वेबडेस्क। इस विशेष संयोग मे भोलेनाथ का अभिषेक करने से मिलेगा विशेष फल,फाल्गुन मास में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को शिवरात्रि मनाई जाती है जो इस बार एक मार्च को मनाई जाएगी। चतुर्दशी, मंगलवार, धनिष्ठा नक्षत्र और शिव योग के साथ गजकेसरी नामक दुर्लभ संयोग होने से इसे विशेष फलदायी बता रहे हैं। शिवरात्रि को निराकार रूप को साकार करके शिवलिंग के रूप में प्राकाट्य होने का दिन भी माना जाता है। शिवरात्रि के दिन भगवान शिव प्रसन्न मुद्रा में नंदी पर वास करते हैं। अत: इस दिन जलाभिषेक, रुद्राभिषेक, पूजन आदि से भगवान शिव जल्द प्रसन्न होते हैं।

भक्तों की सभी प्रकार की अभिष्ट मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। श्री कल्लाजी वैदिक विश्वविद्यालय के ज्योतिष विभागाध्यक्ष डॉ मृत्युञ्जय तिवारी के अनुसार इस वर्ष कई दशकों बाद महाशिवरात्रि विशेष योग-संयोग लेकर आ रही है। इस बार महाशिवरात्रि धनिष्ठा नक्षत्र में कुमार योग, परिघ योग, सिद्धि योग व शिव के साथ गजकेसरी योग में मनाई जाएगी। ज्योतिषाचार्य डॉ तिवारी के अनुसार वर्षों बाद इस तरह के योग निर्मित हुए हैं। इसलिए इस शिवरात्रि पर भोलेनाथ की अराधना का महत्व कई गुणा अधिक बढ़ गया है। इस शिवरात्रि पर पूजा-अर्चना करने एवं व्रत रखने वाले भक्तों पर भोले बाबा असीम कृपा बरसाएंगे। भक्त शिवजी का गन्ने का रस, दूध, गंगाजल सहित पंचामृत से अभिषेक कर बील्व पत्र, बेर, मोगरी, गाजर, आंक-धतुरा, भांग इत्यादि अर्पित कर सुख-समृद्धि की कामना करेंगे।

ये है विशेष समय -

सोमवार को त्रयोदशी तिथि रात 3.15 बजे तक है। इसके बाद चतुर्दशी तिथि प्रारंभ होगी जो मंगलवार रात एक बजे तक रहेगी। इस लिए महाशिवरात्रि का पर्व शिव की तिथि फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी धनिष्ठा नक्षत्र में कुमार योग, परिघ योग, सिद्धि योग व शिव के साथ गजकेसरी योग में मंगलवार को मनाई जाएगी। इस दिन सूर्योदय कालीन परिघ योग सुबह 11.18 बजे तक रहेगा। इसके बाद शिव योग प्रारंभ होगा। वहीं शाम 4. 31 के बाद गजकेसरी महायोग भी बन रहा है जो महाशिवरात्रि को खास बना रहा हैं। इस योग में की गई पूजा का साधक को कई गुणा अधिक फल मिलेगा। इस दिन भोलेनाथ का अभिषेक करने से कालसर्प योग के दोष का प्रभाव कम होगा।

मान्यता है कि इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती का विवाह हुआ था और भोलेनाथ ने वैराग्य जीवन त्याग कर गृहस्थ जीवन अपनाया था। इस दिन व्रत रखने से सौभाग्य में वृद्धि होती है। सबसे खास बात यह रहेगी कि कोरोना संक्रमण थमने से मंदिरों और शिवालयों में श्रद्धालु दर्शन-पूजन कर सकेंगे। पर्व को लेकर विशेष आयोजनों की तैयारियां भी शुरू हो गई हैं।

चार प्रहर की पूजा का समय इस प्रकार है

चार प्रहर की पूजा मुहूर्त -

यदि शिवरात्रि को चार प्रहर में चार बार पूजा करें तो इसका विशेष फल मिलता है। मंगलवार की रात्रि में निशीथ काल में 50 मिनट तक सर्वश्रेष्ठ शुभ समय है। निशीथ काल की पूजा रात्रि 12.14 से लेकर एक बजकर चार मिनट तक है।

  • प्रथम प्रहर-शाम 6.24 से रात्रि 9.29 बजे तक
  • द्वितीय प्रहर रात्रि 9.29 से 12.35 बजे तक
  • तृतीय प्रहर- 12.35 से 3.37 बजे तक
  • चतुर्थ प्रहर -3.37 से सुबह 6.54 बजे तक

Updated : 2022-03-02T16:12:42+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top