Top
Home > राज्य > अन्य > नई दिल्ली > उत्तर भारत में सर्दी का सितम, दिल्ली में न्यूनतम तापमान 4.2 डिग्री पहुंचा

उत्तर भारत में सर्दी का सितम, दिल्ली में न्यूनतम तापमान 4.2 डिग्री पहुंचा

- पिछले 118 साल में दूसरा सबसे ठंडा दिसम्बर

नई दिल्ली। दिल्ली में शीतलहर का प्रकोप जारी है। हाड़ कंपा देने वाली ठंड पड़ रही है। शुक्रवार की सुबह न्यूनतम तापमान 4.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। दिसम्बर 2019 पिछले 118 सालों के दौरान दूसरा सबसे ठंडा दिसम्बर बनने जा रहा है। 1901 से 2018 तक सिर्फ चार मौकों पर दिसम्बर का अधिकतम औसत तापमान 20 डिग्री से नीचे गया है। इस साल यह 26 दिसम्बर तक 19.85 डिग्री है जबकि 31 दिसम्बर तक यह महज 19.15 डिग्री ही रह सकता है। शीत लहर का यह प्रकोप अभी 30 दिसम्बर तक बना रहेगा।

प्रादेशिक मौसम विज्ञान केंद्र के डिप्टी डायरेक्टर डॉ कुलदीप श्रीवास्तव के मुताबिक उत्तर-पश्चिमी हवाएं लगातार राजधानी की ओर आ रही हैं। ऊपरी सतह पर बादल छाए हुए हैं, जिसकी वजह से चटक धूप धरती तक नहीं पहुंच पा रही है। इसी वजह से दिन के समय ठंड कम नहीं हो रही है। उन्होंने कहा कि 31 दिसम्बर से तापमान में कुछ सुधार हो सकता है। हाड़ कंपा देने वाली ठंड और घने कोहरे को देखते हुए मौसम विभाग ने 29 दिसम्बर तक दिल्ली में ऑरेंज अलर्ट जारी कर रखा है। इस शीतलहर के 11वें दिन सफदरजंग अस्पताल के पास अधिकतम तापमान 13.4डिग्री, पालम में 11.8 डिग्री और दिल्ली यूनिवर्सिटी में 12.6 डिग्री रिकॉर्ड किया गया। दिल्ली में घने कोहरे के चलते दृश्यता सुबह 8:30 बजे के आसपास 700 मीटर थी। दृश्यता में कमी की वजह से ट्रेनों का आवागमन और विमानों के संचालन पर प्रभाव पड़ा है। इससे पहले 1997 में दिसम्बर इस सदी में सबसे ठंडा रहा था, जब औसत अधिकतम तापमान महज 17.3 डिग्री दर्ज हुआ था।

ठंड और कोहरे की वजह से दिल्ली-एनसीआर की हवा हुई खराब

शनिवार से दिल्ली-एनसीआर की हवा और अधिक खराब होना शुरू हो जाएगी। हवाएं कमजोर पड़ेंगीं और प्रदूषण के स्तर में इजाफा होने लगेगा। पिछले एक हफ्ते से अधिक समय से दिल्ली की हवा बेहद खराब स्तर पर ही बनी हुई है। खासकर सुबह व शाम के समय लोगों को सांस लेने में परेशानियां होती हैं। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के एयर बुलेटिन के अनुसार दिल्ली का एयर क्वॉलिटी इंडेक्स शुक्रवार को 349 रहा।

दिल्ली के अलावा इसके पड़ोसी फरीदाबाद का एक्यूआई स्तर 360, गाजियाबाद का 359, ग्रेटर नोएडा का 370, गुरुग्राम का 290 और नोएडा का 370 रिकॉर्ड किया गया। सफर के अनुसार बेहद खराब स्तर पर प्रदूषण बना हुआ है। 28 दिसम्बर से इसमें इजाफा शुरू हो जाएगा और यह गंभीर स्थिति में पहुंच जाएगा। 29 दिसम्बर को भी यह गंभीर स्थिति में ही बना रहेगा।

Updated : 27 Dec 2019 6:44 AM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top