Top
Home > राज्य > अन्य > नई दिल्ली > सामाजिक समरसता का अनुपम केंद्र बनेगा श्रीराम जन्मभूमि मंदिर : मिलिंद परांडे

सामाजिक समरसता का अनुपम केंद्र बनेगा श्रीराम जन्मभूमि मंदिर : मिलिंद परांडे

सामाजिक समरसता का अनुपम केंद्र बनेगा श्रीराम जन्मभूमि मंदिर : मिलिंद परांडे

नई दिल्ली। विश्व हिन्दू परिषद ने सभी लोगों से आह्वान किया है की आगामी 5 अगस्त को राम मंदिर के भूमिपूजन अवसर पर अपने-अपने घरों, प्रतिष्ठानों, मठ-मन्दिरों, आश्रमों इत्यादि स्थानों पर ही यथासम्भव सामूहिक बैठकर प्रातः 10.30 बजे से अपने-अपने आराध्य देव का भजन-पूजन कीर्तन स्मरण करें, पुष्प समर्पित करें, आरती करें तथा प्रसाद बाँटें। विहिप के केंद्रीय महामंत्री मिलिंद परांडे ने मीडिया से चर्चा करते हुए कहा की मर्यादा पुरषोत्तम भगवान श्री राम ने सामाजिक समरसता और सशक्तिकरण का संदेश स्वयं के जीवन से दिया। उनके मंदिर के पूजन में प्रयुक्त होने वाले, देश भर की हजारों पवित्र नदियों का जल व पावन तीर्थों की रज, सम्पूर्ण भारत को, एकाकार कर राष्ट्रीय एकात्मता का दर्शन कराएंगे।

उन्होंने कहा कि भगवान श्री राम द्वारा अहिल्या उद्धार, शबरी व निषादराज से प्रेम और मित्रता सामाजिक समरसता के अनुपम उदाहरण हैं। श्री राम जन्मभूमि का शिलान्यास 1989 में अनेक पूज्य संतों की उपस्थिति में अनुसूचित जाति के श्री कामेश्वर चौपाल के कर कमलों से ही संपन्न हुआ था जो, आज श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र न्यास के न्यासी भी हैं।हजारों पवित्र तीर्थ क्षेत्रों की पावन माटी एवम् पवित्र नदियों का जल, आनंद व हर्षोल्लास के वातावरण में, श्रीराम जन्मभूमि पूजन हेतु, देश भर से भेजा जा रहा है। बात चाहे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के उद्गम स्थल नागपुर की हो या संत रविदास जी के काशी स्थित जन्मस्थली की, सीतामढ़ी विहार से महर्षि वाल्मीकि आश्रम की हो या विदर्भ (महाराष्ट्र) के गोंदिया जिलान्तर्गत कचारगड की, झारखंड के रामरेखाधाम की हो या मध्यप्रदेश के टंट्या भील की पुण्य भूमि की, श्री हरमंदिर साहिब अमृतसर पंजाब की हो या डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर के जन्मस्थान महू की, दिल्ली के जैन लाल मंदिर की हो या उस वाल्मीकि मंदिर की जहां महात्मा गांधी 72 दिन रहे थे, ये सब सिर्फ उदाहरण ही हैं।

इसके साथ ही उन्होंने लोगों से आह्वान किया है इस दिन की सभी रामभक्त घरों में पूजन एवं भजन करें।घरों, मुहल्लों, ग्रामों, बाज़ारों, मठ-मन्दिरों, गुरुद्वारों, आश्रमों इत्यादि में साज-सज्जा कर सायंकाल में दीप जलायें। मंदिर निर्माण के लिए यथाशक्ति दान का संकल्प लें। प्रचार के सभी साधनों का उपयोग करते हुए समाज के अधिकाधिक लोगों तक इस भव्य कार्यक्रम को पहुँचायें।


Updated : 30 July 2020 10:32 AM GMT
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top