Top
Home > राज्य > अन्य > नई दिल्ली > प्रदूषण : दिल्ली-एनसीआर में 5 नवंबर तक बंद रहेंगे स्कूल, पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित

प्रदूषण : दिल्ली-एनसीआर में 5 नवंबर तक बंद रहेंगे स्कूल, पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित

प्रदूषण : दिल्ली-एनसीआर में 5 नवंबर तक बंद रहेंगे स्कूल, पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के एक पैनल ने शुक्रवार को दिल्ली-एनसीआर में पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी की घोषणा कर दी है और 5 नवंबर तक निर्माण कार्यों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। इसके साथ ही पटाखा फोड़ने पर प्रतिबंध लग गया है। एक्यूआई 500 से 700 के बीच पहुंच गया है, जिस कारण सांस लेना दूभर हो गया है। इस बीच दिल्ली सरकार ने सभी स्कूलों को 5 नवंबर तक बंद रखने का आदेश जारी दिया है।

दिल्ली-एनसीआर में हवा की गुणवत्ता गुरुवार रात और खराब हो गई और अब गंभीर स्तर पर है। पर्यावरण प्रदूषण (रोकथाम और नियंत्रण) प्राधिकरण (ईपीसीए) के चेयरपर्सन भूरे लाल ने उत्तर प्रदेश, हरियाणा और दिल्ली के मुख्य सचिवों को खत भी लिख दिया है।

मिली जानकारी के अनुसार, भारी प्रदूषण की वजह से दिल्ली-एनसीआर में हेल्थ इमरजेंसी घोषित कर दी गई है। सुप्रीम कोर्ट के एक पैनल ने शुक्रवार को दिल्ली-एनसीआर में पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी की घोषणा की और 5 नवंबर तक निर्माण कार्यों पर प्रतिबंध लगा दिया। इसके साथ ही पटाखा फोड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में पराली के बढ़ते धुएं के चलते प्रदूषण का स्तर बहुत ज्यादा बढ़ गया है, इसलिए सरकार ने निर्णय लिया है कि दिल्ली के सभी स्कूल 5 नवम्बर तक बंद रहेंगे।

आपको बता दें कि दिल्ली में आज हवा बहुत खराब स्तर पर पहुंच गई है। हवा में पीएम 2.5 का स्तर 425 दर्ज किया गया है। पीएम 2.5 425 होने का मतलब है आपकी सेहत के लिए हवा बेहद खतरनाक बताया गया है। हवा में पीएम 2.5 का स्तर 200 तक ही ठीक माना जाता है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज स्कूली बच्चों को मॉस्क बांटे और इस मौके पर हरियाणा व पंजाब के मुख्यमंत्रियों से हाथ जोड़कर गुजारिश करते हुए कहा कि वह पराली जलाने पर रोक लगाए, जिससे दिल्ली में प्रदूषण कम हो सके। इस मौके पर सीएम केजरीवाल ने बच्चों कहा कि दो साल तक पहले कितने पटाखे चलाते थे और अब हमें समझ में आ गया कि कितना प्रदूषण होता है। उन्होंने कहा कि इस बार दिल्ली में लेजर शो किया गया ताकि बच्चे पटाखे नहीं चलाएं।

Updated : 1 Nov 2019 9:30 AM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top