Top
Home > राज्य > अन्य > नई दिल्ली > महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट और हम सही समय पर लेंगे फैसला : कांग्रेस

महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट और हम सही समय पर लेंगे फैसला : कांग्रेस

महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट और हम सही समय पर लेंगे फैसला : कांग्रेस

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में वैसे तो विधानसभा चुनाव के बाद बीजेपी और शिवसेना गठबंधन को बहुमत मिला है लेकिन मुख्यमंत्री पद को लेकर दोनों पार्टियों में खींचतान जारी है। शिवसेना जहां ढाई-ढाई साल मुख्यमंत्री पद की मांग कर रही है वहीं बीजेपी का कहना है कि चुनाव से पहले ऐसा कोई समझौता नहीं हुआ है। वहीं इस बीच कांग्रेस का बयान सामने आया है जिसमें कहा गया है कि महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट है।

महाराष्ट्र कांग्रेस के नेताओं ने शुक्रवार को पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की। इस मुलाकात के बाद कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण ने कहा कि बीजेपी सहयोगी दलों के साथ अपने वादे निभाने में विफल रही है और यही वजह है कि महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट पैदा हो गया है। हम इंतजार कर रहे हैं और स्थिति देख रहे हैं और हम सही समय पर फैसला लेंगे।

महाराष्ट्र के वित्त मंत्री और भाजपा नेता सुधीर मुनगंटीवार ने शुक्रवार को कहा कि अगर राज्य में सात नवंबर तक नयी सरकार नहीं बनती है तो यहां राष्ट्रपति शासन लागू हो सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार गठन में मुख्य बाधा शिवसेना की ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री पद की मांग है। उनकी यह टिप्पणी तब आयी है जब 21 अक्टूबर को हुए विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने के आठ दिन बाद भी राज्य में सरकार गठन को लेकर कोई स्पष्ट स्थिति नहीं है। मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल आठ नवंबर को समाप्त होगा।

मुनगंटीवार ने एक टीवी चैनल से कहा कि दीपावली उत्सव के कारण भाजपा और शिवसेना के बीच बातचीत में देर हुई। एक या दो दिन में बातचीत शुरू होगी। उन्होंने कहा, ''महाराष्ट्र के लोगों ने केवल एक पार्टी को नहीं बल्कि महायुति (भाजपा, शिवसेना और अन्य दलों के गठबंधन) को जनादेश दिया है। हमारा गठबंधन फेविकोल या अंबुजा सीमेंट से भी मजबूत है। मुनगंटीवार ने भरोसा जताया कि नयी सरकार का गठन जल्द ही होगा। उन्होंने कहा, ''निर्धारित समय के भीतर एक नयी सरकार बनानी होगी या राष्ट्रपति को हस्तक्षेप करना पड़ेगा। अगर समयसीमा के भीतर सरकार नहीं बनती है तो राष्ट्रपति शासन लागू होगा।

उन्होंने कहा कि सरकार गठन में मुख्य बाधा शिवसेना की ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री पद की मांग है। यह पूछे जाने पर कि क्या भाजपा इस मांग को मानेगी, इस पर मुनगंटीवार ने कहा, ''हमने पहले ही देवेंद्र फड़णवीस को नामित कर दिया है। गतिरोध की बात स्वीकार करते हुए उन्होंने कहा, ''हम राज्य स्तर पर गतिरोध को तोड़ने के रास्ते तलाशने के लिए साथ बैठेंगे। अगर आवश्यक हुआ तो भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व हस्तक्षेप करेगा। उन्होंने कहा कि नयी सरकार के गठन पर गतिरोध दूर करने के लिए भाजपा बढ़त हासिल करेगी।

सरकार गठन पर शिवसेना नेता संजय राउत की टिप्पणियों पर प्रतिक्रिया देते हुए मुनगंटीवार ने कहा, ''भाजपा की तरह शिवसेना भी जल्द से जल्द सरकार गठन करना चाहती है। हमने गठबंधन के तौर पर चुनाव लड़ा था। यहां शिवसेना या भाजपा का मुद्दा नहीं है बल्कि महाराष्ट्र के लोगों का मुद्दा है।

Updated : 1 Nov 2019 10:55 AM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top