Top
Home > राज्य > अन्य > नई दिल्ली > अब निजामुद्दीन के बाद अग्रसेन अस्पताल बना कोरोना का हॉटस्पॉट

अब निजामुद्दीन के बाद अग्रसेन अस्पताल बना कोरोना का हॉटस्पॉट

अब निजामुद्दीन के बाद अग्रसेन अस्पताल बना कोरोना का हॉटस्पॉट

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में निजामुद्दीन, दिलशाद गार्डन और कैंसर अस्पताल के अलावा पंजाबी बाग स्थित महाराज अग्रसेन अस्पताल भी कोरोना संक्रमण का हॉटस्पॉट बन चुका है। अस्पताल में पिछले तीन दिनों में एक डॉक्टर समेत कुल पांच स्वास्थ्यकर्मी कोरोना वायरस के संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इतना ही नहीं अस्पताल में कोरोना वायरस मरीज की मौत भी हो गई है। इसके अलावा एक अन्य कोरोना वायरस मरीज को अन्य अस्पताल में रेफर कर दिया गया है। इस तरह महाराजा अग्रसेन अस्पताल में अभी तक कोरोना संक्रमण के 7 मामले सामने आ चुके हैं। अस्पताल के चिकित्सा निदेशक डॉक्टर दीपक सिंगला ने बताया कि उनके अस्पताल में एक डॉक्टर एक हाउसकीपिंग स्टाफ एवं तीन नर्स कर्मचारी कोरोना वायरस की चपेट में आ चुके हैं।

दरअसल हरियाणा से आए एक मरीज कोरोना की पुष्टि के बाद अस्पताल प्रशासन में हड़कंप मच गया। इसके संपर्क में आने वाले लोगों को आइसोलेशन में भेज दिया गया। इसके बाद जब उनका सैम्पल लिया गया तो एक डॉक्टर और तीन नर्स, एक अन्य कर्मचारी को कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि हुईं। सभी संक्रमित और संदिग्धों को आइसोलेशन में रखा गया है। दरअसल, महाराज अग्रसेन अस्पताल से पहले दिल्ली राज्य कैंसर संस्थान में भी डॉक्टर समेत कुल छह स्वास्थ्यकर्मियों में भी कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। अब अग्रसेन में मामले सामने आने पर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट हो गया है।

हालांकि इधर, दिल्ली में कोरोना के खौफ के बीच अच्छी खबर है। मोहल्ला क्लीनिक के पहले संक्रमित डॉक्टर को अस्पताल से छुट्टी मिल गई है। रविवार को सफदरजंग अस्पताल में भर्ती डॉक्टर की दो बार जांच निगेटिव आने के बाद उसे घर भेज दिया है। हालांकि, डॉक्टर की संक्रमित पत्नी और बेटी अभी भी जीटीबी अस्पताल में भर्ती हैं। साथ ही डॉक्टर को अभी 14 दिन तक घर में ही आइसोलेशन में रहना पड़ेगा। दिल्ली में मौजपुर स्थित मोहल्ला क्लीनिक का डॉक्टर दिलशाद गार्डन निवासी एक महिला के संपर्क में आया था। वह सऊदी अरब से आई थी। डॉक्टर के संक्रमित होने के बाद डॉक्टर की पत्नी और बेटी भी संक्रमित हुए थे। पति और पत्नी दोनों अलग-अलग मोहल्ला क्लीनिक में डॉक्टर हैं। दिलशाद गार्डन वाली महिला मार्च में सऊदी से लौटकर आई थी और उसके संपर्क में आने पर उसके परिवार समेत 10 लोग संक्रमित हो गए थे।रविवार को दिल्ली के अलग अलग अस्पताल से जुड़े चार कर्मचारियों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई। इनमें दो सफाईकर्मियों के अलावा दिल्ली राज्य कैंसर संस्थान के दो नर्स कर्मचारी भी शामिल है। कैंसर संस्थान के 19 कर्मचारियों को आइसोलेशन में रखा गया है।

दिल्ली राज्य कैंसर संस्थान के दो और नर्सिंग स्टाफ में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है। इससे पहले एक डॉक्टर सहित चार कर्मचारी अस्पताल में कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। स्वास्थ्य विभाग की टीम दोनों अधिकारियों के परिजनों एवं इनके संपर्क में आए अन्य लोगों की जांच कर रही है। दिल्ली राज्य कैंसर संस्थान में कार्यरत डॉक्टर के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद अस्पताल को बंद करना पड़ा था। इस दौरान पूरे अस्पताल को सेनेटाइज भी किया गया था।

दिल्ली राज्य कैंसर अस्पताल में फिलहाल ओपीडी को बंद रखा गया है। साथ ही अस्पताल में भर्ती 48 मरीजों को कोरोना संक्रमण के डर से निजी अस्पताल में भेजा जाएगा। दरअसल, दिल्ली में दिलशाद गार्डन, निजामुद्दीन के बाद यह अस्पताल दिल्ली का तीसरा कोरोना हॉटस्पॉट बन चुका है। सबसे पहले यहां एक महिला रेजीडेंट डॉक्टर संक्रमित हुई थी, जो विदेश से लौटे अपने भाई से संक्रमित हुई थी। महिला डॉक्टर से अस्पताल में 19 लोग संपर्क में आए थे। यहां छह स्वास्थ्यकर्मी अब तक कोरोना संक्रमित मिल चुके हैं और अन्य को आइसोलेशन में रखा गया है।

Updated : 6 April 2020 4:28 AM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top