Top
Home > राज्य > अन्य > नई दिल्ली > दिल्ली से अकेले 5 साल का बच्चा फ्लाइट से बेंगलुरु पहुंचा, 3 माह से फंसा था लॉकडाउन में

दिल्ली से अकेले 5 साल का बच्चा फ्लाइट से बेंगलुरु पहुंचा, 3 माह से फंसा था लॉकडाउन में

दिल्ली से अकेले 5 साल का बच्चा फ्लाइट से बेंगलुरु पहुंचा, 3 माह से फंसा था लॉकडाउन में

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के चलते 2 माह से पूरी तरह से लॉकडाउन के बाद भारत में अब कुछ घरेलू उड़ानों के इजाजत दी गई है। कुछ उड़ाने दिल्ली से बेंगलुरु के लिए भी गई हैं। ऐसे में कर्नाटक में बेंगलुरु के केम्पेगौड़ा अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे से यात्री रवाना हुए हैं। अपने बेटे को लेने आई एक माँ ने बताया कि मेरा 5 साल का बेटा विहान शर्मा दिल्ली से अकेले यात्रा पर निकला है, वह 3 महीने बाद बेंगलुरु वापस आया है।

इधर, 25 मई से शुरू होने वाली मुंबई की फ्लाइट पर ग्रहण लग गया है। महाराष्ट्र सरकार की आपत्ति के बाद अग्रिम आदेश तक इसे निरस्त कर दिया गया है। सोमवार को दिल्ली की ही फ्लाइट आएगी। केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल और जिला प्रशासन के अफसरों ने एयरपोर्ट का दौरा करके सुरक्षा व्यवस्थाएं देखीं। एयरपोर्ट अथॉरिटी और सुरक्षा बल ने तय किया कि फ्लाइट से दिल्ली जाने वाले यात्रियों को पार्किंग से पोर्टिको के सामने बने शेड तक पैदल आना होगा। शेड में बड़ी कुर्सियों पर पहले बैठना होगा। इसके बाद एक-एक करके प्रस्थान कक्ष में इंट्री दी जाएगी। मेन गेट पर ही थर्मल स्क्रीनिंग होगी।

एयरपोर्ट अथॉरिटी के अफसरों ने बताया कि दिल्ली से आने वाले यात्रियों की जांच के लिए डाक्टरों का तीन सदस्यीय पैनल एयरपोर्ट पर रहेगा। आशंका पर यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग के अलावा सैंपलिंग भी कराई जाएगी। भारत में लंबे लॉकडाउन के बावजूद कोरोना संक्रमण की रफ्तार अब डराने लगी है। दुनिया के सबसे ज्यादा कोरोना मरीजों वाले देशों की सूची में भारत दसवें स्थान पर पहुंच गया है। ईरान को पीछे करते हुए अब भारत में कुल कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या 138,536 हो गई है। वहीं, ईरान में 135,701 कोरोना मरीज हैं। देश में बीते चार दिन से रोजाना 6000 से ज्यादा नए केस सामने आ रहे हैं, शनिवार को इसमें सबसे ज्यादा तेजी देखी गई और रिकॉर्ड 6767 नए मामले दर्ज किए गए। यही तेजी बरकरार रही तो शनिवार को कुल मामले एक लाख 38 हजार को भी पार कर जाएंगे।

Updated : 25 May 2020 8:13 AM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top