Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > मप्र उपचुनाव 2020 > पलायन भूख से हो तो अभिशाप है, उन्नति के लिए हो तो शुभ संकेत है: नरेन्द्र सिंह -

पलायन भूख से हो तो अभिशाप है, उन्नति के लिए हो तो शुभ संकेत है: नरेन्द्र सिंह -

चेम्बर में युवाओं के स्वर्णिम भविष्य पर सेमीनार

पलायन भूख से हो तो अभिशाप है, उन्नति के लिए हो तो शुभ संकेत है: नरेन्द्र सिंह    -
X

ग्वालियर, न.सं.। हमें अपनी विरासत पर गर्व होना चाहिए। यदि हम उस पर गर्व करें तो समस्याओं का निदान हो जाता है। कोरोना महामारी को अवसर में बदलने की सोच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने हमें दी है। लॉकडाउन में जब सभी कंपनियां बंद हो गई थी, तब लोकल ब्राण्ड ने ही जिंदा रखा था। हमें अपने लोकल को हीनभावना से नहीं देखना चाहिए बल्कि उसे प्रोत्साहित करना चाहिए। पलायन भूख से हो तो अभिशाप है पर यदि यह उन्नति के लिए हो तो शुभ संकेत है और यह होना भी चाहिए। यह बात मुख्य अतिथि की आसंदी से केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कही। अवसर था मध्य प्रदेश चेम्बर ऑफ कॉमर्स में व्यापारिक एवं औद्योगिक संभावनाओं पर युवा उद्यमियों के लिए युवाओं के स्वर्णिम भविष्य विषय पर सेमीनार का। इस अवसर पर मुख्य वक्ता के रूप में एमएसएमई मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा उपस्थित थे। स्वागत भाषण चेम्बर अध्यक्ष विजय गोयल ने दिया।

केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि आज उद्योग लगाने के लिए जैसा अनुकूल वातावरण है, वैसे कभी नहीं रहा। सरकार ने नीतियां बनाकर प्लेटफॉर्म उपलब्ध करा दिए और अब जरुरत है उद्यमियों के सामने आने की। वे आएं प्रोजेक्ट बनाएं और काम शुरु करें। प्रदेश के मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा आपकी मदद करेंगे। यदि उद्योग लगाने में कोई परेशानी आती है तो सीधे मुझसे संपर्क करें, तुरंत समाधान होगा। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि लोग कहते हैं कि अंचल में उद्योग नहीं आते। आज हमारे पास मालनपुर से लेकर बानमौर और सीतापुर जैसे औद्योगिक क्षेत्र हैं। इसके साथ गारमेंट पार्क, कालीन पार्क और प्लास्टिक पार्क तैयार हैं। युवा उद्यमी अपना प्रोजेक्ट बनाएं और उद्योग लगाएं। इसमें राज्य व केन्द्र सरकार पूरी मदद करेगी। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि मोदी सरकार ने ऐसे 1600 कानूनों को रद्द किया है जिनका उपयोग उद्योगपतियों को परेशान करने के लिए किया जाता था। इसी प्रकार से कृषि क्षेत्र में बदलाव किए गए हैं। आवश्यक वस्तु अधिनियम में स्टॉक की सीमा हटाई गई। उन्होंने कहा कि जब हम आत्मनिर्भर होंगे तभी हमार देश आत्मनिर्भर होगा। इस अवसर पर संयुक्त अध्यक्ष प्रशांत गंगवाल, मानसेवी सचिव डॉ. प्रवीण अग्रवाल, कोषाध्यक्ष वसंत अग्रवाल एवं पूर्व चेम्बर अध्यक्ष डॉ. वीरेन्द्र कुमार गंगवाल उपस्थित थे। संचालन चेम्बर उपाध्यक्ष पारस जैन ने किया।

ग्वालियर में फर्नीचर का क्लस्टर बनेगा:-

एमएसएमई मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा ने कहा कि युवा 100 प्रतिशत सकारात्मकता और पूर्ण विश्वास के साथ यदि आगे कदम बढ़ाएंगे तो निश्चित ही अपने सपनों को पूरा कर पाएंगे। नकारात्मक समाचार हमारे विकास को रोकते हैं। यदि कोई व्यक्ति उद्यम लगाना चाहता है तो वह ऑनलाइन इस पर चर्चा कर अपनी जानकारी पूर्ण कर सकता है। श्री सखलेचा ने कहा कि फर्नीचर, खिलौने, रेडीमेड गारमेंटस और फूड प्रोसेसिंग के सेक्टर में हम चीन से आगे निकल सकते हैं। सरकार ने इसके लिए क्लस्टर प्रक्रिया अपनाने का निर्णय लिया है। क्लस्टर बनेगा तो छोटे उद्योगों की स्थापना का मार्ग प्रशस्त होगा। आने वाले समय में ग्वालियर में फर्नीचर का क्लस्टर बनेगा। एनआईडी अहमदाबाद को इसका कार्य सौंपा गया है। उन्होंने सभी युवाओं को भरोसा दिलाया कि केन्द्र व राज्य सरकार की नीतियों से आगामी पांच वर्ष में इतनी इण्डस्ट्री स्थापित होंगी, जितनी की 100 वर्ष में स्थापित हुई हैं।

Updated : 1 Nov 2020 1:00 AM GMT
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top