Home > राज्य > मध्यप्रदेश > मप्र उपचुनाव 2020 > विकास व न्याय का विरोध करने वाले कमलनाथ- दिग्गी सबसे बड़े गद्दार: सिंधिया -

विकास व न्याय का विरोध करने वाले कमलनाथ- दिग्गी सबसे बड़े गद्दार: सिंधिया -

सिंधिया ने ग्वालियर पूर्व एवं डबरा विधानसभा में जनसभाओं को किया संबोधित

विकास व न्याय का विरोध करने वाले कमलनाथ- दिग्गी सबसे बड़े गद्दार: सिंधिया    -
X

ग्वालियर, न.सं.। राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सोमवार को ग्वालियर पूर्व एवं डबरा विधानसभा में जनसभाएं लीं। ग्वालियर के थाटीपुर में आयोजित जनसभा में उन्होंने कहा कि कांग्रेस हमेशा से दलितों की हितैषी बनने का नाटक करती आ रही है। पहले हमारे संविधान निर्माता डॉ. अंबेडकर का हर चुनाव में विरोध किया और अब जब फूल सिंह बरैया को राज्यसभा में भेजने की बारी आई तो दिग्विजय सिंह पहले नंबर के प्रत्याशी बन गए और श्री बरैया को चुनाव के मैदान में भांडेर भेज दिया। यही नहीं, इमरती देवी, जो सरपंच से लेकर तीन बार विधायक बनीं, उनका नाम ही कमलनाथ भूल गए और मंच से उन्हें आइटम कह दिया। यह केवल इमरती देवी का नहीं, बल्कि ग्वालियर-चंबल और पूरे प्रदेश की महिलाओं का अपमान है और इसका बदला तीन नवंबर को यहां जनता कांग्रेस का बोरिया-बिस्तर बांधकर देगी।

श्री सिंधिया ने कहा कि आजादी के बाद से ही कांग्रेस ने हमेशा दलित और अनुसूचित जाति समाज के साथ धोखा दिया है। कांग्रेस ने आजादी के बाद संविधान निर्माता व देश के स्वतंत्रता आंदोलन में योगदान देने वाले डॉ. अंबेडकर के खिलाफ चुनाव में प्रत्याशी खड़ा कर दिया। अभी हाल ही में जब फूलसिंह बरैया को राज्यसभा में भेजने का मौका आया तो कांग्रेस ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को पहली वरीयता का प्रत्याशी बना दिया और बरैया को दूसरे नंबर और दिग्विजय सिंह खुद राज्यसभा चले गए। अब बरैया को भांडेर से चुनाव लडऩे भेज दिया। यदि कांग्रेस दलित और अनुसूचित जाति समुदाय की इतनी हितैषी थी तो श्री बरैया को सीधे राज्यसभा भेजती और दिग्विजय सिंह को चुनाव लडऩे के लिए मैदान में उतारती। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में पिछले 40 वर्षों से ऐसा ही होता आ रहा है। चुनाव के पहले मुखौटा अलग और चुनाव जीतने के बाद कंट्रोल किसी और का और कांग्रेस दलित और अनुसूचित जाति के प्रति कैसी सोच रखती है, यह सबके सामने है। अनुसूचित मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष लाल सिंह आर्य ने कहा कि भाजपा समरसता की बात करती है और कांग्रेस समाज को आपस में लड़ाती है। आज देश का दलित वर्ग अंगड़ाई ले चुका है, वह कांग्रेस को अच्छी तरह से समझ चुका है। कांग्रेस दलित वर्ग को वोट बैंक के रूप में इस्तेमाल करती है। हम दलित वर्ग को वोट बैंक के रूप में नहीं मानते। हम चाहते हैं कि दलित का सम्मान हो। कांग्रेस दलित विरोधी है, इसलिए इन उपचुनावों में कांग्रेस को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। इस दौरान सांसद विवेक शेजवलकर, रीति पाठक, भाजपा प्रत्याशी मुन्नालाल गोयल, जिलाध्यक्ष कमल माखीजानी, धीर सिंह तोमर, जयप्रकाश राजौरिया, महेश उमरैया, शरद गौतम, पप्पू बड़ौरी, मनीष राजौरिया आदि उपस्थित रहे।

महिलाओं के प्रति कांग्रेस की गंदी है सोच

पिछोर के कालिंदी में आयोजित आम सभा को संबोधित करते हुए राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि कांग्रेस की सोच महिलाओं के प्रति कितनी गंदी है यह उनके नेताओं ने अपने भाषण के दौरान महिलाओं को अपमानित करके बता दिया है। हमारे शास्त्रों में कहा गया है, जहां नारियों का सम्मान होता है वहां देवता वास करते हैं। लेकिन कांग्रेस में तो नारियों का अपमान होता आ रहा है। ऐसे में उन्हें देवता भी माफ नहीं करेंगे। ग्वालियर-चंबल संभाग की जनता भी तीन तारीख को कांग्रेस को जवाब देगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सोच को क्या हो गया है उनके नेता महिलाओं को अपमानित करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। नारियों का सम्मान भूल गए।

Updated : 2021-10-12T16:51:06+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top