Home > राज्य > मध्यप्रदेश > मप्र उपचुनाव 2020 > सांवेर विधानसभा क्षेत्र में सुनाई पड़ी पायल की झंकार

सांवेर विधानसभा क्षेत्र में सुनाई पड़ी पायल की झंकार

सांवेर विधानसभा क्षेत्र में सुनाई पड़ी पायल की झंकार
X

इंदौर। चुनाव खर्च के लिहाज से इस उप चुनाव में प्रदेश की सबसे संवेदनशील सांवेर सीट पर अब पायल चर्चा में है। भाजपा ने आरोप लगाया है कि कांग्रेस यहां मतदाताओं को प्रलोभन देने के लिए चांदी की पायल बंटवाने वाली है। माल तैयार है बस गुजरात से उसकी डिलेवरी होना बाकी है। यकीनन सांवेर उपचुनाव में मतदान की तारीख जैसे जैसे नजदीक आती जा रही है कांग्रेस और भाजपा के बीच आरोप प्रत्यारोप का दौर भी तेज होता जा रहा है।

सांवेर में अभी हाल ही जब्त किए गए 71 लाख रुपये और भाजपा नेता के घर से 250 पेटी शराब बरामद होने के बाद कांग्रेस ने भाजपा पर आरोप लगाए थे। कहा था कि भाजपा वोट खरीदकर चुनाव जीतना चाहती है, लेकिन अब बीजेपी ने कांग्रेस को निशाने पर ले लिया है। भाजपा प्रवक्ता उमेश शर्मा का कहना है कि कांग्रेस ने सांवेर के मतदाताओं को बांटने के लिए डेढ़ क्विंटल चांदी की 46 हजार पायजेब राजकोट से बनवाईं हैं। इसकी पक्की जानकारी उनके पास है, लेकिन भाजपा इस माल को सांवेर की सीमा में घुसने नहीं देगी। वे कांग्रेस प्रत्याशी की ओर इशारा करते हुए कहते हैं कि बांटने की बात तो भूल जाएं ये 1998 का सांवेर नहीं है।

भाजपा का ट्वीट

डेढ़ क्विंटल चांदी की 46 हजार पायजेब राजकोट से बनवा तो लीं, पर सांवेर की सीमा में घुसने नहीं दूंगा। बांटने की बात तो भूल जाना,भय, दबाव प्रलोभन से चुनाव को बचाइए ना प्लीज, ये 1998 का सांवेर नहीं है।

उल्टा चोर कोतवाल को डांटे

सांवेर से 1998 में कांग्रेस के प्रेमचंद गुड्डू ने चुनाव लडा़ था और जीते थे। लेकिन इस बार का मुकाबला कांटे का है। भाजपा के पायल बांटने के आरोप का कांग्रेस ने जवाब दिया है। कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता अनुरोध जैन ने कहा भाजपा मिथ्या आरोप लगाकर हमारे प्रत्य़ाशी की छवि खराब करने की कोशिश कर रही है।

चुनाव खर्च के हिसाब से संवेदनशील है सांवेर - चुनाव आयोग

चुनाव आयोग ने भी इंदौर जिले के सांवेर विधानसभा क्षेत्र को चुनाव खर्च के लिहाज से संवेदनशील माना है। यहां कांग्रेस छोड़ भाजपा में गए सिंधिया समर्थक जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट भाजपा से और कांग्रेस की ओर से प्रेमचंद गुड्डू जैसे दिग्गज नेता प्रत्याशी हैं। ऐसे में चुनाव आयोग को भी आशंका है कि यहां पानी की तरह पैसा खर्च किया जा सकता है। इसलिए यहां निगरानी के लिए 70 दलों को तैनात किया गया है। इनमें फ्लाइंग स्क्वॉड,एफएसटी,एसएसटी शामिल हैं। बावजूद इसके शिकायतों को दौर नहीं थम रहा है।

Updated : 2021-10-12T16:52:37+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top