Home > राज्य > मध्यप्रदेश > मप्र उपचुनाव 2020 > प्रदेश में छिड़ा पत्र वार, कमलनाथ के बाद मुख्यमंत्री ने पत्र लिख दिया जवाब

प्रदेश में छिड़ा पत्र वार, कमलनाथ के बाद मुख्यमंत्री ने पत्र लिख दिया जवाब

प्रदेश में छिड़ा पत्र वार, कमलनाथ के बाद मुख्यमंत्री ने पत्र लिख दिया जवाब
X

भोपाल। पूर्व सीएम कमलनाथ द्वारा मंत्री इमरती देवी पर की गई टिप्पणी पर राजनीतिक सरगर्मी बढ़ती जा रही है। कमलनाथ की इस टिप्पणी के विरोध में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कल कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिख कमलनाथ पर कार्यवाही करते हुए उन्हें तत्काल सभी पदों से मुक्त करने की मांग की थी। इसके बाद कमलनाथ ने सीएम शिवराज को एक पत्र लिखकर उन पर सोनिया गांधी से झूठी शिकायत करने का आरोप लगाया था। अब कमलनाथ के पत्र के बाद अब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने पत्र लिख जवाब दिया है।

मुख्यमंत्री ने कमलनाथ को पत्र में लिखा की -आपका डबरा विधानसभा के संबंध में लिखा गया पत्र सोशल मीडिया के माध्यम से जानकारी में आया है। आप लगातार प्रदेश की सम्मानीय मंत्री इमरती देवी के संबंध में आपके द्वारा की गई अशोभनीय टिप्पणी को लेकर अलग-अलग ढंग से सफाई दे रहे हैं। कभी आप कहते है कि आपकी टिप्पणी में कोई अपमानजनक कुछ भी नहीं है और आइटम शब्द का अर्थ प्रदेश की जनता को समझाने लगते है। कहीं आप अपनी टिप्पणी पर खेद भी व्यक्त कर रहे है। मेरे विचार से अपको ईमानदारी से एक गरीब और अनुसूचित जाति की बेटी पर की गई अपमानजनक टिप्पणई के लिए मांफी मांगी चाहिए। आप जैसे वरिष्ठ और जिम्मेदार पद पर रहे कांग्रेसी नेता का अपनी गलती से बचने और उसकी सफाई में अनावश्यक तर्क देने का रवैया उचित नहीं है।

अपनी सोच बदलनी चाहिए-

सीएम ने आगे लिखा - "आपके 15 माह के शासन में महिलाओं और बेटियों पर जो अत्याचार हुए है, उसके आंकड़े सभी के सामने हैं, आप की सरकार में महिलाओं के विरूद्ध होने वाले अपराध और अत्याचारों को रोकने के बजाय , अपनी और कांग्रेस की संस्कृति से उनको बढ़ावा देने का ही कार्य किया है। सिर्फ इतना ही नहीं आप केंद्र में यूपीए सरकार के समय महिलाओं के विरुद्ध अपराधों को देख सकते है, जिनमें निर्भया जैसे घटनाओं की लंबी फेहरिस्त है। वहीं नारियल फोडऩे की बात पर पलटवार करते हुए सीएम शिवराज ने लिखा कि आप बार-बार नारियल की बात उठा रहे है। मुझे इस बात की खुशी है कि प्रदेश के विकास के लिए अपने ईमानदार प्रयासों के कारण मुझे लगातार बड़ी-बड़ी विकस योजनाओं और परियोजनाओं को शुरु करने का अवसर मिल रहा है। यही वजह है कि विकास कार्यों के शुभारंभ के शुभ अवसर पर पवित्र नारियल भारतीय संस्कृति की परंपरा के अनुसार फोडऩे का मौका मुझे बार-बार मिलता रहा है। प्रदेश के विकास को ध्यान में रखकर आपके लिए यह गर्व का विषय होना चाहिए ईष्र्या का नहीं। मुझे खेद है कि आप स्वयं प्रदेश के विकास के बारे में सोच नहीं पाए। आपकी सरकार और आप के मंत्री पूरे समय तबादले और भ्रष्टाचार में लगे रहे। विकास कार्यों की तरफ न ता आपकी नजर थी ना ही कोई प्रयास। जो व्यक्ति आज विकास कार्यों को गति दे रहा है उससे आपको ईष्र्या हो रही है। आपको एवं आपकी पार्टी के लोगों को अपनी सोच बदलनी चाहिए।

मध्य प्रदेश के लोगों को प्यार करना सीखिए-

मुख्यमंत्री ने आगे कहा की कि कमलनाथ जी मैं आपसे यही कहना चाहता हूं कि आप मध्य प्रदेश और मध्य प्रदेश के लोगों को प्यार करना सीखिए, भले ही आप मध्य प्रदेश के नहीं है, उसके बावजूद भी वे आपको स्वीकार करने की कोशिश कर रहे हैं। आप का भी फर्ज बनता है कि आप मध्य प्रदेश के विकास और यहां की जनता के हित के बारे में सोचे। ऐसा कतई नहीं होना चाहिए कि आप मध्य प्रदेश को सिर्फ लूट खसूट का एक जरिया बनाएं और अपना और अपने पार्टी के लोगों का स्वार्थ सिद्ध करें। आशा है आप अवश्य विचार करेंगे।




Updated : 2021-10-12T16:51:45+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top