Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > मुरैना > नरेंद्र सिंह और सिंधिया ने मितावली-पढावली स्मृति चिन्ह जेपी नड्डा को भेंट किया

नरेंद्र सिंह और सिंधिया ने मितावली-पढावली स्मृति चिन्ह जेपी नड्डा को भेंट किया

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष ने आज मध्यप्रदेश जनसंवाद रैली को संबोधित किया

नरेंद्र सिंह और सिंधिया ने मितावली-पढावली स्मृति चिन्ह जेपी नड्डा को भेंट किया
X

मुरैना / नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी द्वारा आज मध्य प्रदेश जनसंवाद रैली का आयोजन किया गया। इस वर्चुअल रैली को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने संबोधित किया। जिसमें प्रदेश भर से बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्तैओं ने भाग लिया। इस रैली में खास बात यह रही की अंत में मुरैना के प्रसिद्ध स्थल मितावली-पड़ावली को स्मृति चिन्ह के रूप में भेंट किया गया।

प्रदेश के नेता केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जेपी नड्डा को भेंट किया। बता दें की मुरैना जिले में आने वाली मितावली-पड़ावली के चौंसठ योगिनी मंदिर विश्व प्रसिद्ध है। यहाँ विश्व भर से अनेकों पर्यटक हर साल घूमने के लिए आते है। ऐतिहासिक महत्व के साथ इस क्षेत्र का पर्यटन और अध्यात्म के लिहाज से भी विशेष महत्व है।जहां विदेशी पर्यटकों के अलावा यहाँ बने इकन्तेश्वर महादेव मंदिर और चौसठ योगिनी के दर्शन करने के लिए श्रद्धालु भी आते है। बताया जाता है भारतीय संसद का वास्तु इसी मंदिर से प्रेरित है। प्रदेश सरकार भी इस क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा देने का निरंतर प्रयास करती रही है।

Updated : 25 Jun 2020 2:09 PM GMT
Tags:    

Live Updates

  • भाजपा अध्यक्ष ने कांग्रेस पर लगाए आरोप
    25 Jun 2020 2:25 PM GMT

    भाजपा अध्यक्ष ने कांग्रेस पर लगाए आरोप

    नईदिल्ली। भाजपा की वर्चुअल जनसंवाद रैली में जेपी नड्डा ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहाचीन की कुछ संस्थाओं ने राजीव गांधी फाउंडेशन को 300 हजार अमेरिकी डॉलर मुहैया कराए हैं। उन्होंने कहा की कांग्रेस और चीन के बीच गुपचुप संबंध है। जिसके चलते चीन ने राजीव गांधी फाउंडेशन को इतनी बड़ी राशि दी है।राजीव गांधी फाउंडेशन की चेयरपर्सन सोनिया गांधी हैं और कई कांग्रेस नेता इससे जुड़े हुए हैं। देश जानना चाहता है कि फाउंडेशन को इतना पैसा किस उद्देश्य से मिला है। 

    नड्डा ने कहा की जब भारत-चीन सीमा विवाद पर राहुल गांधी पर निशाना साधा। उन्होंने कहा की साल 2017 में डोकलाम गतिरोध के समय राहुल गाँधी गुप्त रूप से चीनी राजदूत से मिले थे। आज भी गलवान घाटी में हुए संघर्ष पर कांग्रेस देश को गुमराह कर रही है।  


Swadesh News

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top