Home > राज्य > मध्यप्रदेश > अन्य > मध्य प्रदेश के लोगों को लग सकता है 'करंट', जानें क्या है कारण

मध्य प्रदेश के लोगों को लग सकता है 'करंट', जानें क्या है कारण

-12 फीसदी तक महंगी हो सकती है बिजली -बिजली कंपनी ने विद्युत नियामक आयोग को भेजा प्रस्ताव

मध्य प्रदेश के लोगों को लग सकता है करंट, जानें क्या है कारण
X

जबलपुर। मध्यप्रदेश में 12 फीसदी तक बिजली महंगी हो सकती है। मप्र पॉवर मैनेजमेंट कंपनी ने राज्य में बिजली के दाम बढ़ाने की तैयारी कर ली है। इसके लिए कंपनी ने एक प्रस्ताव तैयार कर लिया है और उसे विद्युत नियामक आयोग को भेजा गया है। आयोग की मंजूरी मिलने के बाद बिजली कंपनियां दाम बढ़ा देंगी।

प्रदेश में कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव के दौरान बिजली के बिल हॉफ करने का वादा करते हुए चुनाव लड़ा था। विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस ने अपने वचन पत्र में किसानों की कर्ज माफी के साथ-साथ बिजली के दाम आधे करने को बड़ा मुद्दा बनाया था। चुनाव परिणाम कांग्रेस के पक्ष में आए और कमलनाथ के नेतृत्व में सरकार बन गई। इस सरकार को पांच माह का समय बीत चुका है, लेकिन बिजली के दाम आधे करने को लेकर अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया गया है। इधर, एमपी पॉवर मैनेजमेंट कंपनी ने बिजली के दाम बढ़ाकर लोगों की जेब हल्की करने की तैयारी कर ली है।

लोकसभा चुनाव से पहले बिजली कंपनियां 1.5 फीसदी बिजली दर में इजाफा का दावा कर रही थीं और इसके लिए प्रस्ताव भी बन चुका था, लेकिन लोकसभा चुनाव के परिणाम आने के बाद बिजली कंपनियों ने पुराने प्रस्ताव में संशोधन कर नया प्रस्ताव तैयार किया, जिसमें बिजली के दाम अब सीधे 12 फीसदी बढ़ाने की तैयारी की गई है। नया प्रस्ताव मप्र विद्युत नियामक आयोग को भेज दिया गया है। पॉवर मैनेजमेंट कंपनी ने आयोग से बिजली के दाम 12 फीसदी बढ़ाने की मंजूरी मांगी है। अब इस पर आयोग को निर्णय लेना है।

एमपी पॉवर मैनेजमेंट कंपनी के चीफ जनरल मैनेजर (टैरिफ) फिरोज मेश्राम का कहना है कि कंपनी को वर्तमान टैरिफ के हिसाब से काफी नुकसान हो रहा है। घरेलू उपभोक्ताओं को 100 यूनिट की खपत पर बिजली बिल 517 रुपये आता है, जबकि बिजली कंपनी का प्रति यूनिट खर्च 5.95 यूनिट आता है। इससे बिजली कंपनी को काफी नुकसान हो रहा है। पहले कंपनी ने बिजली दर में 1.5 फीसदी की बढ़ोत्तरी का प्रस्ताव तैयार किया था, लेकिन पिछले एक साल में कंपनी का घाटा 4098 करोड़ रुपये पहुंच गया। इसी घाटे को देखते हुए दोबारा प्रस्ताव तैयार किया गया है, जिसमें 12 फीसदी बिजली दर बढ़ाने की सिफारिश की गई है।

Updated : 30 May 2019 10:47 AM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top