Home > राज्य > मध्यप्रदेश > अन्य > कांग्रेस कमेटी के प्रदेश अध्यक्ष ने दिए विधानसभा चुनाव लड़ने के संकेत

कांग्रेस कमेटी के प्रदेश अध्यक्ष ने दिए विधानसभा चुनाव लड़ने के संकेत

कांग्रेस कमेटी के प्रदेश अध्यक्ष ने दिए विधानसभा चुनाव लड़ने के संकेत
X

छिंदवाड़ा/स्वदेश वेब डेस्क। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रदेश अध्यक्ष और छिंदवाड़ा संसदीय क्षेत्र से सांसद कमलनाथ ने आगामी विधानसभा चुनाव लड़ने के संकेत दिए हैं। वे छिंदवाड़ा जिले की तीन सीटों में से कही से भी चुनाव लड़ सकते है। ये संकेत उन्होंने अपने छिंदवाड़ा के शिकारपुर स्थित निवास पर दिए। यहाँ बीते महीने पत्रकारों से चर्चा के दौरान एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा था कि मैंने अभी विधानसभा चुनाव में उम्मीदवारी के बारे में सोचा नहीं है। वहीं उन्होंने यह कहकर सबको आश्चर्य में डाल दिया कि मेरे लिए छिंदवाड़ा, सौसर और चौरई तीन विधानसभा हैं। ये तीनों ही विधानसभा छिंदवाड़ा संसदीय क्षेत्र ने आती है जो अनारक्षित है। जिले की बाकी बची 4 विधानसभा सीटे अनुसूचित जाति और जनजाति वर्ग के लिए आरक्षित है।

गौरतलब है कि अनारक्षित तीनों सीटें भाजपा के कब्जे वाली सीटे हैं। जिन्हें भाजपा के लिए काफी मजबूत माना जाता है। वही यहाँ से जीतने वाले नेता भी अपनी स्थिति में काफी मजबूत है। ऐसे में यदि सांसाद कमलनाथ इन तीनो सीटों से चुनाव लड़ते भी है तो उन्हें इन कद्दावर नेताओ की चुनौती रहेगी। छिंदवाड़ा विधानसभा सीट से वर्तमान विधायक चौ. चंद्रभान सिंह है, जिन्हें भाजपा में छिंदवाड़ा जिले का नेता माना जाता है। आप मध्यप्रदेश में पहले रही भाजपा सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे है।मंत्री रहते कई बड़े विभाग आप संभाल चुके हैं। वहीं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के विरुद्ध 2 बार आप लोकसभा चुनाव भी लड़ चुके है।

हालांकि विधायक चौ चंद्रभानसिंह को हार का सामना करना पड़ा लेकिन उनसे विधानसभा ले पाना उतना ही कठिन काम है।इसी तरह सौसर विधानसभा की बात करे तो यहाँ से पूर्व मंत्री नाना मोहोड़ लगातार विधानसभा जीतते आ रहे है।इनका भी अपने क्षेत्र में काफी होल्ड है।अब चौरई विधानसभा से विधायक पंडित रमेश दुबे की बात करे तो इनका लोहा भी यहाँ हर कोई मानता है।भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष रहे श्री दुबे आज भी जिले का संगठन अप्रत्यक्ष रूप चला रहे है।अब देखना है कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ यदि विधानसभा चुनाव लड़ते है तो कहा से लड़ते है।और फिर सबकी निगाहें इस बात पर टिकी है कि उनकी क्या रणनीति रहेगी।इन सब कयासों के बीच राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ पर पूरे प्रदेश की जिम्मेदारी है तो वे चुनाव नही लड़ेंगे।उनके पुत्र नकुलनाथ को चुनाव लड़ाने के विषय मे उन्होंने कहा कि अभी उनसे चर्चा नही हुई है।

Updated : 2018-10-15T00:48:36+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top