Home > राज्य > मध्यप्रदेश > अन्य > मुख्यमंत्री ने पिछड़ा वर्ग के छात्रों को दी छात्रवृत्ति, कहा - मन लगाकर पढ़ाई करो

मुख्यमंत्री ने पिछड़ा वर्ग के छात्रों को दी छात्रवृत्ति, कहा - मन लगाकर पढ़ाई करो

मुख्यमंत्री ने पिछड़ा वर्ग के छात्रों को दी छात्रवृत्ति, कहा - मन लगाकर पढ़ाई करो
X

सीहोर। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने शुक्रवार को पिछड़ा वर्ग के छात्रों को छात्रवृत्ति राशि का वितरण किया। उन्होंने प्रदेशभर के 2 लाख 40 हजार बच्चों के खाते में 331 करोड़ रुपये सिंगल क्लिक के माध्यम खाते में ट्रंसफर किये। इसमें सीहोर जिले में वर्ष-2020-21 में 8139 छात्र-छात्राओं को 6 करोड़ 26 लाख 23 हजार 16 रुपये की छात्रवृति तथा वर्ष-2021-22 में 1294 छात्र-छात्राओं को एक करोड़ 8 लाख 37 हजार 657 रुपये की छात्रवृति वितरण की गई।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि बेटा-बेटी को पढ़ाना, दूसरी जगह भेजकर पढ़ाई का खर्चा उठाना सभी माता पिता के लिए संभव नहीं होता। किसान की अर्थिक स्थिति इतनी अच्छी नही होती की वह बच्चों की शिक्षा असानी से करा सके।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मेरे बच्चों, मैं यह जानता हूं कि अधिकांश बच्चे किसान परिवार से हैं। किसानों की आय इतनी अधिक नहीं होती है कि पढ़ाई-लिखाई पर ज्यादा खर्च कर सकें। इसलिए मैं यह सतत यह प्रयास कर रहा हूं कि धन के कारण आपकी शिक्षा बाधित न हो। मैंने इसीलिए संबल योजना बनाई, ताकि हमारे गरीब परिवारों के प्रतिभाशाली बच्चे भी उच्च शिक्षा प्राप्त कर अपना सपना साकार कर सकें।

उन्होंने कहा कि मेरे बच्चों, तुम मन लगाकर पढ़ाई करो, तुम्हारी मेडिकल, इंजीनियरिंग, आईआईएम आदि की फीस तुम्हारा मामा भरवायेगा। इस वर्ष 703 करोड़ रुपये स्कॉलरशिप के रूप में दिये जाएगे। आप मन लगाकर पढ़ाई करो, खूब आगे बढ़ो, यशस्वी बनो। यह बात आप सदैव याद रखो कि व्यक्ति जैसा सोचता है, वैसा ही बन जाता है। बहुत-बहुत शुभकामनाएं ओर आशीर्वाद।

मुख्यमंत्री चौहान ने कलकत्ता से एमबीए कर रहे बुधनी के छात्र शुभम विशकर्मा के पिता सुजान विश्वकर्मा से वीसी के माध्यम से पढ़ाई के संबंध में जानकारी प्राप्त की। उन्होंने सुजान सिंह से कहा कि बेटे की पढ़ाई को लेकर निश्चित रहे। सरकार ने शुभम की फीस छात्रवृति के माध्यम से जमा करा दी है। मुख्यमंत्री ने शुभम के पिता से व्यवयाय के बारे में जानकारी ली। सुजान विश्वकर्मा ने बताया कि लकडी के खीलौने बनाने का छोटा सा व्यपार है और उसी में अपने परिवार का भरण पोषण करता हॅू। बेटे शुभम की फीस 11 लाख रुपये से भी अधिक है। उन्होंने फीस की राशि जमा करने के लिए मुख्यमंत्री चौहान को धन्यवाद दिया।

Updated : 2022-03-29T13:27:57+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top