Home > राज्य > मध्यप्रदेश > अन्य > सोलर एनर्जी डाइरेक्टली फीडिंग 25 केवी एसी ट्रैक्शन सिस्टम

सोलर एनर्जी डाइरेक्टली फीडिंग 25 केवी एसी ट्रैक्शन सिस्टम

बीना सोलर प्लांट को बर्लिन में मिला अंतर्राष्ट्रीय सस्टेनेबल रेलवे अवॉर्ड

सोलर एनर्जी डाइरेक्टली फीडिंग 25 केवी एसी ट्रैक्शन सिस्टम
X

जबलपुर। भारतीय रेलवे की सौर ऊर्जा पहल को अब अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर भी सराहना मिल रही है और पुरस्कार भी मिल रहे हैं। 01 जून 2022 को जर्मनी के शहर बर्लिन में आयोजित अंतरराष्ट्रीय सस्टेनेबल रेलवे अवॉड्र्स के अंतर्गत भारतीय रेलवे के बीना सोलर प्लांट को प्लेनेट कैटेगरी की बेस्ट यूज़ ऑफ जीरो कार्बन टेक्नोलॉजी के अंतर्गत पुरस्कार हासिल हुआ है। बीना में सौर ऊर्जा (सोलर एनर्जी) से 25 एसी ट्रैक्शन सिस्टम को सीधे फ़ीड करने के लिए यह पुरस्कार मिला है। ये पुरस्कार मिलना पश्चिम मध्य रेलवे के साथ-साथ सम्पूर्ण भारतीय रेल के लिए गौरव की बात है। पश्चिम मध्य रेल के महाप्रबंधक श्री सुधीर कुमार गुप्ता ने पमरे के सभी रेल अधिकारियों एवं रेलकर्मचारियों को इस सफलता के लिए बधाई दी है ।

मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी ने बताया कि यूआइसी इंटरनेशनल नाम की संस्था रेलवे सेक्टर में अंर्तराष्ट्रीय स्तर के कई पुरस्कार प्रदान करती है। इसके अंतर्गत इन्नोवेशन इन मोबिलिटी दैट डिलीवर्स सोशल (पीपुल), एनवायरमेंटल (प्लेनेट) एवं इकॉनामी (प्रोस्पेरिटी) आदि के लिए अवार्ड प्रदान किए जाते हैं। प्लेनेट कैटेगरी के अन्तर्गत जीरो काॅर्बन टेक्नाॅलाॅजी का बेहतरीन उपयोग की स्पर्धा में साओ पाॅलो मेट्रो रेलवे, ईस्ट जापान रेलवे कम्पनी तथा भारतीय रेलवे दौड़ में शामिल थे । जिसमें भारतीय रेलवे ने अन्य को दो प्रतिस्पर्धियों को पीछे छोड़ते हुए बाजी मारी और पश्चिम मध्य रेल के बीना में स्थित सोलर प्लांट से 25 केवी एसी ट्रैक्शन सिस्टम को सीधे फ़ीड करने के लिए अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कार हासिल किया है।

अंतरराष्ट्रीय स्तर के पुरस्कारों का चयन यूआइसी की जानी मानी हस्तियां तथा रेलवे से जुड़े विभिन्न विषयों के विशेषज्ञ पुरस्कारों के चयन की जूरी में शामिल रहते हैं। गौरतलब है कि अंतरराष्ट्रीय सस्टेनेबल रेलवे अवॉर्ड के अंतर्गत भारतीय रेलवे को अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार के लिए माह फरवरी 2022 मे पश्चिम मध्य रेल के बीना सोलर प्लांट को और उससे संबंधित मिशन विद्युतिकरण को प्रमुख वैश्विक पुरस्कारों की दौड़ में शामिल कर लिया गया था।

बीना सोलर प्लांट के बारे मे:-

भारतीय रेलवे में पर्यावरण संरक्षण के लिए सराहनीय कदम उठाए जा रहे हैं। पर्यावरण संरक्षण के लिए ग्रीन सोलर एनर्जी की पहल पर पश्चिम मध्य रेल में अनेक कार्य किये जा रहे हैं। पश्चिम मध्य रेल के बीना सोलर प्लांट की विशेषताएं निम्न है।

1) 1.7 मेगावॉट सोलर पॉवर प्लांट की क्षमता में 5800 सोलर मॉड्यूल है।

2) 1015 पाइल फाउंडेशन का उपयोग करके मॉड्यूल माउंटिंग स्ट्रक्चर के 145 सेटों पर माउन्ट लगाए गए है।

3) 400 वोल्ट एल्टरनेटिव करेंट (एसी) को स्टेपप कर 25 किवी एसी में दो ट्रैक्शन ट्रांसफार्मर के द्वारा फीड किया जाता है।

4) अंडर ग्राउंड ट्रांसमिशन केबल के द्वारा 25 केवी एसी ट्रैक्शन सब सेक्शन और ओएचई में सप्लाई करती है।

Updated : 2 Jun 2022 4:21 PM GMT
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top