Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > अन्य > बीनागंज में बालक का अपहरण करने वाले दो आरोपियों को पकडऩे के बाद जानकारी देने से बच रही है पुलिस

बीनागंज में बालक का अपहरण करने वाले दो आरोपियों को पकडऩे के बाद जानकारी देने से बच रही है पुलिस

जिले के चांचौड़ा थानातंर्गत बीनागंज में बालक का अपहरण कर 7 लाख की फिरौती वसूलने वाले दो आरोपी पुलिस के हत्थे चढ़ गए है।

बीनागंज में बालक का अपहरण करने वाले दो आरोपियों को पकडऩे के बाद जानकारी देने से बच रही है पुलिस

बालक का अपहरण करने वाले दो आरोपी धराए विधायक के नेतृत्व में एसडीओपी कार्यालय पर हंगामा

विधायक ममता मीना बोलीं : कार्रवाई से संतुष्ट नहीं, भाजपा जिलाध्यक्ष, जिपं अध्यक्ष ने की पुलिस की प्रशंसा

मामले पर चढ़ा राजनीतिक रंग

गुना । जिले के चांचौड़ा थानातंर्गत बीनागंज में बालक का अपहरण कर 7 लाख की फिरौती वसूलने वाले दो आरोपी पुलिस के हत्थे चढ़ गए है। पुलिस ने आरोपी सुबह पकड़े और देर रात तक वह कार्रवाई की जानकारी देने से बचती रही। दूसरी ओर आरोपियों के पकड़े जाने की जानकारी बाहर आते ही लोगों का हुजूम एसडीओपी कार्यालय बीनागंज के बाहर जमा हो गया और उन्होने यहां अच्छा-खासा हंगामा खड़ा कर दिया। लोग आरोपियों को दिखाने और उनका जुलूस निकालने की मांग पर अड़े हुए थे। हंगामे का नेतृत्व चांचौड़ा विधायक श्रीमती ममता मीना ने किया। हालांकि विधायक ने इससे इनकार किया है। दूसरी ओर मामले पर राजनीतिक रंग भी चढ़ गया है, जहां विधायक श्रीमती ममता मीना ने कार्रवाई से संतुष्टि नहीं दिखाते हुए पुलिस कार्रवाई पर सवाल खड़े किए है, वहीं भाजपा जिलाध्यक्ष राधेश्याम पारीक, जिपं अध्यक्ष श्रीमती अर्चना चौहान ने पुलिस की प्रशंसा की है। साथ ही पुलिसकर्मियों को पुरस्कृत करने गृह मंत्री भूपेन्द्र सिंह को पत्र भी लिखा है।

बालक को छोडऩे बदमाशों ने वसूली थी 7 लाख की फिरौती

उल्लेखनीय है कि व्यापारी मनीष अग्रवाल के 10 साल के पुत्र सौम्या पालीवाल का शनिवार को उस समय दो अज्ञात बाइक सवार बदमाशों ने अपहरण कर लिया जब वह घर के सामने वाले मैदान में खेल रहा था। आरोपियों ने बच्चे से कहा कि हाथी आया है और चलो तुम्हें दिखा कर लाते हैं सुनकर बच्चा उनके साथ चल दिया। इसके बाद बदमाश बच्चे को अपने साथ ले गए। बच्चे के अपहरण के बाद अपहरणकर्ताओं ने उसके परिजनों को फोन लगाकर 12 लाख की फिरौती मांगी। परिजन द्वारा इतनी व्यवस्था न होने की बात पर सौदा 7 लाख में तय हो गया। इसके बाद एक जगह पर परिजनों ने 7 लाख रुपए रख दिए और थोड़ी देर बाद बच्चा उन्हे मिल गया। इस बीच पुलिस में भी शिकायत दर्ज कराई गई थी, किन्तु पुलिस आरोपियों को नहीं पकड़ पाई।

दो आरोपी पकड़े, पुलिस नहीं दे रही जानकारी

घटना से जुड़े दो आरोपियों को पुलिस ने पकड़ लिया है, किन्तु इसको लेकर पुलिस जानकारी देने से बचती है। चांचौड़ा एसडीओपी अलीम खाँन के मुताबिक दो आरोपियों को पकड़ा है, किन्तु अभी पूछताछ के साथ राशि बरामद की जाना है। इसलिए मामले को सार्वजनिक नहीं किया जा रहा है। सूत्र बताते है कि दोनों आरोपी जयसिंहपुरा के है। जिनके नाम सुरजीत और शिवम बताए जाते है। इसमें एक पार्षद पुत्र है तो दूसरा बस स्टैण्ड पर स्टैण्ड कंडेक्टरी का कार्य करता है। चर्चाओं के मुताबिक दोनों आरोपियों से 6 लाख की रकम भी वसूली जा चुकी है।

धरना देकर मचाया हंगामा

दूसरी ओर अपहरणकर्ताओं के पकड़े जाने की जानकारी बाहर आते ही आज सुबह एसडीओपी कार्यालय बीनांगज के बाहर बड़ी संख्या में लोगों का हुजूम जमा हो गया। थोड़ी देर बाद चांचौड़ा विधायक श्रीमती ममता मीना भी मौके पर पहुँच गईं। लोगों की मांग थी कि आरोपियों को उनके हवाले किया जाए वह उनका जुलूस निकालेंगे। इस मांग को लेकर एसडीओपी कार्यालय के बाहर धरना भी दिया गया। दौरान एएसपी तेज सिंह बघेल, एसडीओपी चाचौड़ा अलीम खान व चाचौड़ा थाना प्रभारी प्रवीण चौहान ने लोगों को समझाने का काफी प्रयास किया, किन्तु लोग अपनी मांग पर अड़े रहे। करीब 3 से 4 घंटे तक चले हंगामे के दौरान जोरदार नारेबाजी भी की गई। बाद में विधायक वापस लौट गईं और इसके बाद भीड़ भी छंट गई।

मैने नही दिया कोई धरना : मीना

विधायक श्रीमती ममता मीना धरना, प्रदर्शन आदि की बात से इनकार किया है। उनका कहना है कि आरोपियों के पकड़े जाने की सूचना मिलने के बाद वह एसडीओपी कार्यालय पहुँचीं थीं। इस दौरान लोग पहले से ही वहां जमा थे। लोग आरोपियों को देखने की मांग कर रहे थे।

कार्रवाई से संतुष्ट नहीं : मीना, पुलिस ने किया बेहतर काम : अर्चना

मामले पर राजनीतिक रंग भी चढ़ चुका है। इसको लेकर चांचौड़ा भाजपा विधायक श्रीमती ममता मीना एवं भाजपा जिलाध्यक्ष राधेश्याम पारीक, जिपं अध्यक्ष श्रीमती अर्चना चौहान के अलग-अलग बयान है। विधायक ने जहां पुलिस कार्रवाई से संतुष्टि नहीं जताते हुए उस पर सवाल खड़े किए है, वहीं भाजपा जिलाध्यक्ष, जिपं अध्यक्ष ने पुलिस की प्रशंसा की है। विधायक का कहना है कि आरोपी दो नहीं हो सकते, अपहरण जैसी वारदात को अंजाम देने 4 से 5 लोग होना जरुरी है। वहीं श्रीमती चौहान ने कहा कि असल आरोपी पुलिस की गिरफ्त में आए है, उन्होने आरोपियों की हरकत को कायराना बताते हुए उन्हे सख्त सजा दिलाने की मांग की है। उनके साथ ही भाजपा जिलाध्यक्ष राधेश्याम पारीक ने भी पुलिसकर्मियों को सम्मानित करने गृहमंत्री भूपेन्द्र सिंह को पत्र लिखा है। साथ ही पुलिस कार्रवाई की सराहना की है।








Updated : 2018-06-19T20:42:30+05:30

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top