Latest News
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > इंदौर > इंदौर में बड़ा हादसा, दो ट्रकों की भिड़ंत से लगी आग, दोनों के क्लीनर जिंदा जले

इंदौर में बड़ा हादसा, दो ट्रकों की भिड़ंत से लगी आग, दोनों के क्लीनर जिंदा जले

इंदौर में बड़ा हादसा, दो ट्रकों की भिड़ंत से लगी आग, दोनों के क्लीनर जिंदा जले
X

इंदौर। सिमरोल थाना क्षेत्र में खंडवा रोड का भेरूघाट इलाका अब एक्सीडेंट झोन बनता जा रहा है। आठ दिन में यहां पर तीसरा बड़ा हादसा हुआ है, जिसमें दो लोगों की मौत हो गई। गुरुवार की देर रात दो ट्रकों में आमने-सामने की भिड़ंत के बाद दोनों में आग लग गई। देखते ही दोनों ट्रक जलने लगे और उसमें सोए दोनों के क्लीनर भी जिंदा जलकर मौत का शिकार बन गए। टक्कर होते ही दोनों के चालक कूद गए थे, इसलिए उनकी जान जाने से बच गई। एक ट्रक के ब्रेक फेल हो गए थे इसके चलते हादसा हुआ। भेरूघाट पर आठ दिन में तीसरा हादसा है। एक हादसे में तो बगैर फिटनेस चल रही बस में सवार छह लोगों की मौत हो गई थी।

प्राप्त जानकारी के अनुसार हादसा रात करीब दो बजे बाबा ढाबा के सामने हुआ। एसपी (ग्रामीण) भगवतसिंह बिरदे ने बताया कि ट्रक आरजे 11जीबी 1401 इंदौर से खंडवा की तरफ जा रहा था। भेरूघाट पर ट्रक के ब्रेक फेल हो गए और वह केले लेकर बुरहानपुर से इंदौर की तरफ आ रहे ट्रक आरजे 09जीबी 9776 से टकरा गया। टक्कर होते ही दोनों ट्रकों के चालक संजू और धर्मेंद्र तो स्टीयरिंग छोड़कर कूद गए लेकिन दोनों ट्रकों में क्लीनर सोते रह गए।

चिंगारी से आग लगी

जैसे ही ट्रक आपस में टकराए और पलटे वैसे ही जोरदार घर्षण से चिंगारी निकली और देखते ही देखते दोनों ट्रक आग की चपेट में आ गए। आग की लपटें जैसे ही टायरों तक पहुंची तो हवा भरे टायरों में जोरदार ब्लास्ट हुआ। जिसकी गूंज भी काफी दूर तक सुनाई दी।

कैबिन में मिले कंकाल

घटना के बाद भेरूघाट पर जाम की स्थिति बन गई। ग्रामीण और सिमरोल पुलिस मौके पर पहुंच गई। दोनों ट्रक टकराने के बाद पलट गए थे। पलटते ही दोनों के कैबिन में आग लग गई। पुलिस के मुताबिक उस वक्त क्लीनर सो रहे थे, इसलिए भागने का मौका नहीं मिला। महू से फायर ब्रिगेड की टीम पहुंची लेकिन तब तक क्लीनर जल कर मर चुके थे। फायरकर्मी आग बुझाकर केबिन में घुसे लेकिन क्लीनर के कंकाल ही बाहर निकले। पुलिस के मुताबिक इंदौर से जा रहे ट्रक में सचिन पिता दिनेश माकोड़े निवासी अकोला (महाराष्ट्र) और केले भरकर इंदौर आ रहे ट्रक में लोकेंद्र पिता राजेंद्र तोमर निवासी धोलपुर क्लीनर था।

दस हजार लीटर पानी से बुझाई आग

फायर कंट्रोल रूम के अनुसार घटना की जानकारी मिलते ही महू से दो गाड़ी फायर फाइटर वाहनों के साथ मौके पर पहुंची। दमकलकर्मियों की टीम ने कड़ी मशक्कत करते हुए करीब दस हजार लीटर पानी डाल कर आग पर पूरी तरह काबू पाया।

8 दिन में 8 जान गई -

भेरूघाट पर 8 दिन में यह तीसरा हादसा है। इन तीन हादसों में 8 लोगों की मौत हो चुकी है। इसके पहले हुए दो हादसों में 23 जून को गुरुकृपा ट्रैवल्स की बस भी पलट गई थी। उसमें छह लोगों की मौत हो गई थी, वहीं 47 यात्री घायल हो गए थे। इस हादसे के दूसरे दिन मालवीय ट्रैवल्स की बस पलटी जिसमें छह लोग घायल हुए थे और अब दो ट्रकों की भिड़ंत में दो लोग मौत का शिकार हो गए।

Updated : 1 July 2022 1:43 PM GMT
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top