Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > सबसे सर्द रही शनिवार की भोर, अभी और गिरेगा पारा

सबसे सर्द रही शनिवार की भोर, अभी और गिरेगा पारा

सबसे सर्द रही शनिवार की भोर, अभी और गिरेगा पारा
X

ग्वालियर, न.सं.। उत्तर भारत के पहाड़ी इलाकों में हो रही बर्फबारी का असर अब ग्वालियर-चम्बल अंचल में भी दिखने लगा है। उत्तर से आ रही हवाओं से ठंड का असर बढ़ गया है। वर्तमान मौसम में 10.5 डिग्री सेल्सियस न्यूनतम तापमान के साथ शनिवार की भोर सबसे सर्द रही। इस मौसम में यह पहला मौका है, जब न्यूनतम तापमान इतना नीचे पहुंचा है। अधिकतम तापमान भी पिछले करीब एक सप्ताह से औसत से चार डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया जा रहा है।

मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि आगामी दिनों में न्यूनतम तापमान अभी एक से दो डिग्री और नीचे जा सकता है, जिससे ठंड में और वृद्धि होगी। पिछले कुछ दिनों से बादल छाए रहने और हवाओं की गति मंद होने की वजह से न्यूतनम तापमान सामान्य से ऊपर चल रहा था, लेकिन शनिवार को मौसम पूरी तरह साफ रहा। इसके साथ ही दिन भर चार किलो मीटर प्रति घंटे की गति से उत्तर पश्चिमी ठंडी हवाएं भी चलती रहीं, जिससे पिछले दिनों की तुलना में आज सुबह ठंड का असर कुछ ज्यादा ही नजर आया। दिन में भी ठंड का असर बना रहा।

शाम होते ही ठंड का असर और बढ़ गया। भोपाल के सेवानिवृत्त मौसम विज्ञानी डी.पी. दुबे ने बताया कि जम्मू-कश्मीर सहित उत्तर भारत के पहाड़ी इलाकों में हो रही बर्फबारी का असर अब ग्वालियर-चम्बल तक भी पहुंचने लगा है। चूंकि उत्तर से ठंडी हवाएं आना शुरू हो गई हैं, इसलिए तापमान में गिरावट का दौर शुरू हो गया है, जिससे ठंड का असर भी बढऩा शुरू हो गया है। आगामी दिनों में उत्तरी हवाओं का जोर और बढ़ेगा, जिससे न्यूनतम तापमान में और गिरावट आएगी, जिससे ठंड और बढ़ेगी।

पिछले साल 11 डिग्री पर था न्यूनतम पारा

स्थानीय मौसम विज्ञान केन्द्र के अनुसार पिछले साल 21 नवम्बर को न्यूनतम तापमान 11.0 डिग्री सेल्सियस पर था, जबकि आज न्यूनतम तापमान 10.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो औसत से 1.3 और पिछले दिन से 1.9 डिग्री सेल्सियस कम है। अधिकतम तापमान 0.2 डिग्री सेल्सियस आंशिक गिरावट के साथ 24.7 डिग्री सेल्सियस पर रहा, जो औसत से 4.3 डिग्री सेल्सियस कम है। आज हवाएं उत्तर पश्चिमी चलीं, जिनकी गति चार किलो मीटर प्रति घंटा रही। आज सुबह हवा में नमी 93 प्रतिशत दर्ज की गई, जो सामान्य से 28 प्रतिशत अधिक है, जबकि शाम को हवा में नमी घटकर 49 प्रतिशत दर्ज की गई, जो सामान्य से दो प्रतिशत कम है। यहां बता दें कि इससे पहले सबसे कम 10.7 डिग्री सेल्सियस न्यूनतम तापमान एक व तीन नवम्बर को दर्ज किया गया था।

Updated : 2021-10-12T16:40:24+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top