Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > बसंत पंचमी पर आज होगी स्वर और बुद्धि की देवी मां सरस्वती की पूजा

बसंत पंचमी पर आज होगी स्वर और बुद्धि की देवी मां सरस्वती की पूजा

बसंत पंचमी पर आज होगी स्वर और बुद्धि की देवी मां सरस्वती की पूजा
X

ग्वालियर, न.सं.। वसंत पंचमी 26 जनवरी गुरुवार को विशेष योगों में मनाई जाएगी। इस दिन स्वर और बुद्धि की देवी मां सरस्वती की पूजा होगी। वहीं इस दिन सामूहिक विवाह समारोह भी आयोजित किए जाएंगे। मंदिरों में भी विभिन्न धार्मिक कार्यक्रम आयोजित होंगेे। खरीदारी की दृष्टि से भी वसंत पंचमी का दिन विशेष शुभ है। मेला के ऑटोमोबाइल सेक्टर में वाहनों की अच्छी खरीदारी होने की संभावना है।

ज्योतिषाचार्य डॉ. हुकुमचंद जैन ने बताया कि इस दिन छत्र, शिव योग के साथ-साथ सर्वार्थ सिद्धि योग भी गुरुवार के संयोग में आएगा। सुबह 07:07 से 12:35 मिनट तक श्रेष्ठ मुहुर्त रहेगा। इस दिन ज्ञान वृद्धि के लिए और प्रतियोगिता में सफलता प्राप्त करने के लिए छात्र-छात्राओं को सरस्वती मां का पूजन अवश्य ही करना चाहिए। इस दिन मांगलिक कार्य करना भी शुभ माना जाता है।

विवाहों की रहेगी धूम:-

जनवरी माह में 26, 27, 30 और 31 को विवाहों की धूम रहेगी। इन दिनों में जमकर विवाह होंगे। वहीं विवाहों के लिए बैंड-बाजा, घोड़ी और मैरिज गार्डन सब बुक हो चुके हैं।

पूजन विधि:-

ज्योतिषाचार्य ने बताया कि वसंत पंचमी के दिन जल्दी स्नान करके पीले वस्त्र धारण करें। इस दिन पूरे विधि विधान के साथ मां सरस्वती की आराधना करें। पीले पुष्प से मां सरस्वती जी का पूजन कर पीले चावल भोजन ही इस दिन ग्रहण करें। मां सरस्वती की प्रतिमा को पीले रंग के कपड़े पर स्थापित करें। उनकी पूजा में रोली, मौली, हल्दी, केसर, अक्षत, पीले या सफेद रंग का फूल, पीली मिठाई आदि चीजों का प्रयोग करें। इसके बाद मां सरस्वती की वंदना करें और पूजा के स्थान पर वाद्य यंत्र और किताबों को रखें। बच्चों को पूजा स्थल पर बैठाएं। इस दिन से बसंत का आगमन हो जाता है इसलिए देवी को गुलाब अर्पित करना चाहिए। हल्दी, गुलाल से एक-दूसरे को टीका लगाना चाहिए।

भगवान चक्रधर का होगा विशेष श्रंगार:-

वसंत पंचमी के अवसर पर श्री सनातन धर्म मंदिर में मां सरस्वती की पूजा अर्चना की जाएगी। इस मौके पर मीठे चावलों का वितरण किया जाएगा। इस अवसर पर भगवान चक्रधर का विशेष रूप से श्रंगार किया जाएगा। भगवान का श्रंगार मुख्य पुजारी रमाकान्त शास्त्री करेंगे। वहीं सुबह 10 बजे मंदिर प्रबंधन द्वारा ध्वजारोहण किया जाएगा।

Updated : 2023-01-26T06:00:48+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top