Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > बिरलानगर व रायरू स्टेशन के बीच रेलवे क्रॉसिंग होंगी बंद

बिरलानगर व रायरू स्टेशन के बीच रेलवे क्रॉसिंग होंगी बंद

मंडल में एक वर्ष के अंदर 20 क्रॉसिंग को बंद करने की योजना

बिरलानगर व रायरू स्टेशन के बीच रेलवे क्रॉसिंग होंगी बंद
X

ग्वालियर, न.सं.। रेल मंडल से एक-एक कर क्रॉसिंग गेट (समपार फाटकों) बंद करने का काम तेजी से चल रहा है। मंडल में अभी तक सड़क आवाजाही के कारण व्यस्त रहने वाले 653 में 283 क्रॉसिंग गेट को बंद किया जा चुका है। 370 क्रासिंग बंद होना बाकी रह गईं हैं। इनमें भी 89 जगह अंडर या ओवरब्रिज स्वीकृत हैं, जिनमें अभी 33 जगह निर्माण कार्य चल रहा है।

इतना ही नहीं आने वाले दिनों में बिरलानगर व रायरू स्टेशन के बीच दोनों रेलवे क्रॉसिंग को बंद करने की योजना है। साथ ही पूरे मंडल में एक वर्ष में 20 क्रॉसिंग बंद की जाएगी। झांसी रेल मंडल में 653 रेलवे क्रॉसिंग गेट हुआ करते थे। ये सभी व्यस्त गेट हैं, जहां सड़क मार्ग से निकलने वाले लोगों के लिए बार-बार खोलना पड़ता है। क्रॉसिंग गेटों पर होने वाली दुर्घटनाओं और गेटमैनों के साथ होने वाली घटनाओं के मद्देनजर रेलवे बोर्ड ने इनको धीरे-धीरे खत्म करने का फैसला लिया था, जिस पर तेजी से काम चल रहा है। हर साल 15 से 20 क्रॉसिंग गेट बंद किए जा रहे हैं। उनके विकल्प के रूप में पास ही लोगों के निकलने के लिए अंडरब्रिज, पाथवे या ओवरब्रिज बनाए जा रहे हैं। मंडल में अभी तक 283 गेट बंद किए जा चुके हैं। ग्वालियर श्योरपुरकलां छोटी रेल लाइन पर भी 141 गेट हैं, जहां सड़क यातायात न होने के कारण वहां गेटमैन की तैनाती की आवश्यकता नहीं पड़ती है। बीते रोज ग्वालियर आए मंडल रेलवे प्रबंधक ने कहा था कि एक वर्ष में मंडल से 20 क्रॉसिंग गेट बंद किए जाएंगे।

आईआरसीटीसी की जगह रेलवे करेगी वाटर वेंडिंग का संचालन

रेलवे स्टेशन पर वाटर वेंडिंग को लेकर रेलवे ने नया निर्णय लिया है। इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन (आईआरसीटीसी) अब वाटर वेंडिंग मशीन का संचालन नहीं करेगी। अभी तक वाट वेंडिंग मशीन का संचालन आईआरसीटीसी द्वारा किया जा रहा था। लेकिन जोनों ने यह प्रस्ताव दिया था कि वह खुद वाटर वेंडिंग का संचालन कर सकता है। समीक्षा के बाद रेलवे बोर्ड ने इसकी अनुमति दे दी है। रेलवे बोर्ड ने यह भी स्पष्ट कर दिया है कि पहले से संचालित वाटर वेंडिंग मशीन का संचालन आईआरसीटीसी उनके ठेके का कार्यकाल पूरा होने तक जारी रख सकेगी। नए सिरे से उन्हें इसकी अनुमति नहीं दी जाएगी। वाटर वेंडिंग मशीन से शुद्ध जल पीने के लिए यात्रियों को उतना ही पैसे चुकाने पड़ेंगे, जितने अभी चुकाने पड़ रहे हैं। शुल्क में कोई बदलाव नहीं होगा। बताया जा रहा है कि यह आदेश बोर्ड के डायरेक्टर टूरिज्म एंड कैटरिंग ने जारी किया है।

Updated : 2020-07-19T07:09:13+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top