Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > शहर में 71 दिन बाद चले सवारी वाहन, यात्रियों को मिली राहत

शहर में 71 दिन बाद चले सवारी वाहन, यात्रियों को मिली राहत

वाहन चालकों ने खुद ही बढ़ा दिया किराया

शहर में 71 दिन बाद चले सवारी वाहन, यात्रियों को मिली राहत
X

ग्वालियर, न.सं.। केन्द्र सरकार की गाइड-लाइन के आधार पर लॉकडाउन-5 में ढील मिलने के कारण और प्रशासन के आदेशानुसार मंगलवार से शहर में 71 दिन के बाद यात्री बसों, ई-रिक्शा, ऑटो रिक्शा, टैक्सी, टैम्पो आदि का परिचालन 50 प्रतिशत की क्षमता के आधार पर हो गया है। यात्री वाहनों के चलने से जहां सड़कों पर यातायात बढ़ा है, वहीं यात्रियों को आवागमन में राहत भी मिली है। वहीं वाहन चालकों ने अपनी मर्जी से यात्री किराए में वृद्धि भी कर दी है।

शहर में टैम्पो 71 दिन के बाद पहली बार चले हैं, जबकि अनुमति के न होने के बावजूद विपरीत ई-रिक्शा एवं ऑटो का संचालन लॉकडाउन चार से ही शुरू हो गया था। शहर में टैम्पो कम चलने के कारण यात्रियों को कुछ देर प्रतीक्षा भी करना पड़ी। यात्री संख्या निर्धारित होने के कारण टैम्पो चालकों ने यात्री किराए में वृद्धि कर दी है। यात्रियों ने बताया कि मुरार से इंदरगंज का जो किराया पहले 15 रुपए लगता था, उसे आज 20 रुपए लिया गया है। प्रशासन के आदेशानुसार टैम्पों में ती और ऑटो में दो यात्री ही बैठेंगे।

मास्क लगाकर चलाएं वाहन-

राहत मिलने के पहले दिन वाहन चालकों ने अपने-अपने चेहरों पर मास्क लगाए हुए थे। वाहनों में सामान्य दूरी के अनुसार यात्रियों को बैठाया गया था। प्रशासन द्वारा वाहन चालकों के लिए दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं, जिसका सख्ती से पालन करना होगा।

50 प्रतिशत के आधार पर 6500 वाहन चले-

वाहन संख्या संचालन

ई-रिक्शा 1776 888

ऑटो रिक्शा 9800 4900

टैक्सी 225 112

टैम्पो 1189 594

बस 12 06

-------------------------------

योग 1300 6500

---------------------------

'शहर में वाहन 50 प्रतिशत के आधार पर चले हैं। वाहन चालकों ने जो किराए में वृद्धि कर दी है, वह नियम के विरुद्ध है। विभाग द्वारा शीघ्र ही जांच की जाएगी।

एम.पी. सिंह

क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी

'आज ढाई माह बाद अपने वाहन को चलाया है। इससे कुछ आय होगी और परिवार का भरण-पोषण हो सकेगा। पिछला समय बहुत कठिन गुजरा है।

रवी सोनी

टैम्पो चालक

'बैठने वाले यात्रियों की संख्या कम हो गई है, इसलिए किराया बढ़ाना पड़ा है। कम किराए में खर्च नहीं निकल सकता है।

अमित आर्य

टैम्पो चालक

'किराया पहले से पांच रुपए ज्यादा लिया है जो कि गलत है। ऑटो चालक तो और ज्यादा किराया ले रहे हैं, इसलिए टैम्पो में जाना पड़ रहा है।

-हरिओम बाथम

सवारी

Updated : 2020-06-05T14:56:04+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top