Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > तीन दिन के लॉकडाउन में 150 करोड़ से अधिक का कारोबार प्रभावित

तीन दिन के लॉकडाउन में 150 करोड़ से अधिक का कारोबार प्रभावित

महंगी होने लगीं खाद्यान्न सामग्री

तीन दिन के लॉकडाउन में 150 करोड़ से अधिक का कारोबार प्रभावित
X

ग्वालियर, न.सं.। ग्वालियर जिले में पिछले कुछ दिनों से कोरोना संक्रमितों की संख्या बढऩे के कारण प्रशासन ने चार दिन का संपूर्ण लॉकडाउन घोषित किया है। चार से छह तारीख तक के तीन दिन के लॉकडाउन से शहर में लगभग 150 करोड़ रुपए से अधिक का कारोबार प्रभावित हो चुका है। मंगलवार को भी लॉकडाउन होने के कारण यह कारोबार 200 करोड़ से अधिक का आंकड़ा पार कर जाएगा। तीन दिन से बाजार बंद होने के कारण खाने की वस्तुओं के दाम भी बढऩा शुरू हो गए हैंं।

15 हजार से अधिक दुकानें बंद

शहर में लगभग 15 हजार से अधिक छोटी-बड़ी दुकानें हैं। लॉकडाउन के कारण यह सभी दुकानें बंद हंै। तीन दिन से बाजार बंद होने के कारण दैनिक काम करने वालों के सामने भी एक बार फिर से घर चलाने की समस्या खड़ी हो गई है। महाराज बाड़े पर आने वाले मजदूरों को भी काम मिलना बंद हो गया है।

फिर दिखने लगी महंगाई

लॉकडाउन के कारण शहर में फिर से महंगाई दिखने लगी है। गली-मोहल्लों में चलने वाली दुकानों ने दाल, तेल व शक्कर आदि के दाम बढ़ा दिए हैं। वहीं सोमवार को 30 रुपए किलो बिकने वाला आलू 40 रुपए किलो के भाव से बिका। टमाटर 80 तो धनियां 200 रुपए किलो बिका। इसी प्रकार से अन्य सभी सब्जियों के दामों में 10 से 20 रुपए किलो की तेजी देखने को मिली। वहीं सोमवार को सुबह 7 बजे शहर में थैली का दूध मिलना ही खत्म हो गया। अत: लोगों को डेयरी से दूध लेकर काम चलाना पड़ा।

पेट्रोल व डीजल की घटी बिक्री

लॉकडाउन के कारण सड़कों पर चलने वाले वाहनों की संख्या पहले से काफी कम हो गई है, इस वजह से पेट्रोल व डीजल की बिक्री घट गई है।

इनका कहना है

'शहर में छोटी-बड़ी मिलाकर 15 हजार से अधिक दुकानें हैं। संपूर्ण लॉकडाउन के कारण सभी बंद हैं।Ó बाजार बंद होने से कारोबार पूरी तरह ठप हो गया है।

डॉ. प्रवीण अग्रवाल,मानसेवी सचिव, चेम्बर ऑफ कॉमर्स

'शहर में प्रतिदिन 50 करोड़ से अधिक का कारोबार होता है। लॉकडाउन के कारण कारोबार बंद है।Ó आवश्यक वस्तुओं को छोड़कर बाकि सब बंद है इसलिए खाद्यान्न सामग्री महंगी हो रही है।

-भूपेन्द्र जैन,प्रदेश अध्यक्ष, कैट

Updated : 2020-07-20T07:08:30+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top