Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > पार्षद बनने के बाद हो जाते है लापता, चुनाव आते ही पूछने लगते ही परेशानियांं

पार्षद बनने के बाद हो जाते है लापता, चुनाव आते ही पूछने लगते ही परेशानियांं

वार्ड 30 में पार्को की स्थिति खराब, गंदगी के ढेर से वार्डवासी परेशान

पार्षद बनने के बाद हो जाते है लापता, चुनाव आते ही पूछने लगते ही परेशानियांं
X

ग्वालियर,न.सं.। नगर सरकार के खास अंग कहे जाने वाले पार्षदों द्वारा अपने क्षेत्र की अनदेखी के कारण लोगों में काफी नाराजगी है। शहर में नगर निगम चुनावों की तिथि कभी भी घोषित हो सकती है। और पार्षद का चुनाव लडऩे के दावेदार अपने वार्डो में नजर आने लगे है। गुरुवार को स्वदेश संवाददाता ने वर्तमान वार्ड 30 के लोगों के बीच जाकर समस्याओं को जाना।

लोगों ने बताया कि चुनाव के समय ही पार्षद वोट मांगने के लिए आए थे और उसके बाद यहां के लोगों की समस्याओं के बारे में सुध लेना तक छोड़ दिया। यहां हर प्रकार की समस्याओं का सामना वार्ड वासियों का करना पड़ रहा है। अब भी कई लोग चुनावों को लेकर वार्ड में सक्रिय हैं, लेकिन उनमें से योग्य उम्मीदवार को वोट दिया जाएगा, जो वार्ड में विकास करवाएगा उसी को चुना जाएगा।

लोगों ने कहा की पार्षद जुझारु होना चाहिए। जो जनता सुख व दुख में हमेशा साथ रहे। इसके अलावा पार्षद मिलनसार होना चाहिए। वार्ड की हर क्षेत्रों में समान भाव से विकास करे। निगम की योजना का लाभ हर जरुरतमंदों तक पहुंचे इस दिशा में पहल होनी चाहिए।

वार्ड 30 के तहत आने वाले बलवंत नगर, अर्जुन नगर, अनुपम नगर पटेल नगरमेंंं रहने वाले लोग आज भी कई परेशानियो का सामना कर रहे है। इन इलाकों मे रहने वाले लोगों में अपने क्षेत्र के पूर्व पार्षद को लेकर काफी नाराजगी है।

जनता को पार्षद से अपेक्षा-

- वार्ड क्षेत्र में बिना किसी भेदभाव का समान विकास हो।

- हर जरुरतमंदों तक सरकारी योजना का लाभ अनिवार्य रुप से पहुंचे।

- पार्षद अपने कार्यालय में समय से उपलब्ध हो ताकि लोगों को पार्षद

कार्यालय का जरुरत से ज्यादा चक्कर न लगाना पड़े।

- वार्ड क्षेत्र में अधिक से अधिक पक्की सडक़ों का निर्माण हो ताकि लोगो

को जर्जर व कच्ची सडक़ों से मुक्ति मिले।

- वार्ड में साफ-सफाई निरंतर होना चाहिए। ठोस कचरा प्रबंधन होना चाहिए।

-वार्ड क्षेत्र में चुनकर आने-वाले पार्षद वादा से परे होकर विकास की दिशा तय करे।

पार्षद कैसा हो-

- पार्षद मिलनसार होना चाहिए।

- नि:स्वार्थ भाव से जनता की सेवा करे।

- वार्ड की हर मोहल्ले की दौरा कर समस्या का जायजा ले।

- लोगों को जब पार्षद से कोई काम हो तो वह सुलभता से उपलब्ध हो।

मुख्य उद्देश्य था पानी की समस्या, जो अब नहीं है

हमने अपने कार्यकाल में कई सारे काम किए है। सिटी सेंअर से गोविंदपुरी वाले मार्ग पर पानी की लाइन के साथ सडक़ का निर्माण कराया। तुलसी विहार में पानी की टंकी का निर्माण कराकर पानी की समस्या का निराकरण किया। वार्ड के अनुपम नगर, पटेल नगर की सडक़ों की दशा सुधारी। बीएसएनएल वाले मार्ग पर धूल उड़ती थी, हां पर भी सडक़ का निर्माण कराया।

इनका कहना है -

वार्ड 30 के अर्जुन नगर में सबसे ज्यादा पानी की समस्या है। मैंने खुद कई बार लोगों के लिए टैंकर भेजा है। हमें 24 घंटे नहीं अगर 2 घंटे पानी मिल जाए तो काफी है। लेकिन यहां पर एक दिन छोडक़र लोगों को पानी मिलता है। सीवर की समस्या, सडक़ का निर्माण नहीं होने से लोग परेशान है।

नरेन्द्र सिंह

पूर्व पार्षद

वार्ड में चारों और गंदगी फैली हुई है। वार्ड वासियों की समस्या के समाधान की जिम्मेदारी पार्षद की होती है, लेकिन अधिकतर लोगों के काम रुके हुए है। वार्ड के अनुपम नगर के पार्क को छोड़ दे तो सभी पार्को की हालत बेकार है। कचरा गाडिय़ा रोज आती नहीं है, इसीलिए लोग कचरा भूखंड में डालते है।

शिशुपाल यादव

आम आदमी पार्टी

जगह-जगह गंदगी के ढेर

वार्ड में सफाई व्यवस्था बदहाल हो चुकी है। ऐसे में बीमारियों के फैलने का भय बना हुआ है। जगह जगह गंदगी के ढेर लगे हुए है। इससे वार्ड वासियों को दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। चुनाव नजदीक हैं और वार्ड में कई उम्मीदवार अभी से सक्रिय हैं, लेकिन इस बार योग्य और सही उम्मीदवार को ही वोट दिया जाएगा।

सोनू पाठक

अर्जुन नगर

Updated : 27 May 2022 10:27 AM GMT
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top