Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > मप्र: ग्वालियर में शिमला जैसी ठंड, लगातार छटवां दिन भी शीतल

मप्र: ग्वालियर में शिमला जैसी ठंड, लगातार छटवां दिन भी शीतल

मप्र: ग्वालियर में शिमला जैसी ठंड, लगातार छटवां दिन भी शीतल
X

- सुबह घना कोहरा तो दिन में छाए रहे बादल

ग्वालियर/वेब डेस्क। मकर संक्रांति के बाद से ही ग्वालियर में अत्यधिक शीतल दिन (सीवियर कोल्ड डे) की स्थिति बनी हुई है। पिछले छह दिनों से तीव्र ठंड के चलते यहां का वातावरण शिमला जैसा नजर आ रहा है। लगातार छटवें दिन गुरुवार को भी ठंड चरम पर रही। अधिकतम तापमान औसत से 5.2 डिग्री सेल्सियस कम रहने के कारण गुरुवार को भी अत्यधिक शीतल दिन घोषित किया गया। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि शुक्रवार को भी कोहरा और शीत लहर के चलते शीतल दिन रहने की संभावना है जबकि देर रात से बारिश का सिलसिला शुरू हो सकता है।

पिछले दिनों की तरह गुरुवार को भी सुबह घना कोहरा छाया रहा। इस दौरान दृश्यता लगभग 25 मीटर थी। दोपहर में कोहरा वायु मंडल में ऊपर उठकर बादलों में परिवर्तित हो गया। इसके चलते सूरज के दर्शन तो हुए लेकिन धूप आंशिक ही निकली। साथ ही चार किलोमीटर प्रति घंटे की गति से उत्तरी सर्द हवाएं भी चलती रहीं जिन्होंने ठिठुरन बढ़ा दी। इसके चलते अधिकतम तापमान 16.9 डिग्री सेल्सियस पर ही थम गया जो औसत से 5.2 डिग्री सेल्सियस कम और पिछले दिन से 2.1 डिग्री सेल्सियस अधिक है। न्यूनतम तापामन भी पिछले दिन की तुलना में 1.1 डिग्री सेल्सियस बढ़कर 5.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। स्थानीय मौसम वैज्ञानिक सीके उपाध्याय के अनुसार शुक्रवार को भी ग्वालियर, दतिया, भिण्ड, मुरैना में मध्यम से घना कोहरा पडऩे और शीत लहर के चलते शीतल दिन रहने की संभावना है जबकि देर रात से बारिश का सिलसिला शुरू हो सकता है।

उपाध्याय ने बताया कि वर्तमान में एक पश्चिमी विक्षोभ हिमाचल प्रदेश के पूर्वी हिस्सों और उससे सटे उत्तराखण्ड में सक्रिय है जबकि दूसरा पश्चिमी विक्षोभ अभी उत्तरी पाकिस्तान में है। तीव्र आवृति वाला यह पश्चिमी विक्षोभ शुक्रवार को उत्तर भारत में प्रवेश करेगा। इसके साथ ही शुक्रवार को दक्षिण-पश्चिमी राजस्थान में प्रेरित चक्रवात भी बनने की संभावना है। इन तीनों मौसम प्रणालियों का प्रभाव ग्वालियर-चम्बल अंचल सहित उत्तरी मध्यप्रदेश में 21 से 24 जनवरी तक बादल छाए रहेंगे। साथ ही 21 जनवरी शुक्रवार की रात से बारिश का सिलसिला भी शुरू हो सकता है। इस दौरान अंचल में कहीं-कहीं ओलावृष्टि की भी संभावना है। बादल और बारिश के चलते रात के तापमान में वृद्धि होगी जबकि दिन का तापमान सामान्य स्तर पर बना रहेगा।

Updated : 20 Jan 2022 2:15 PM GMT
Tags:    

Swadesh News

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top