Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > जन समस्याओं के निराकरण में रोड़ा अटकाना पटवारी को पड़ा भारी, कलेक्टर ने किया निलंबित

जन समस्याओं के निराकरण में रोड़ा अटकाना पटवारी को पड़ा भारी, कलेक्टर ने किया निलंबित

कलेक्टर ने गूगल मीट के जरिए सुनी जन समस्याएं,

जन समस्याओं के निराकरण में रोड़ा अटकाना पटवारी को पड़ा भारी, कलेक्टर ने किया निलंबित
X

ग्वालियर। राजस्व संबंधी समस्याओं के निराकरण में लापरवाहीपूर्ण रवैया अपनाने वाले बड़ागांव के पटवारी और डबरा तहसील के एक लिपिक को भारी पड़ा है। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने पटवारी को निलंबित करने और लिपिक की वेतन वृद्धियां रोकने के निर्देश दिए हैं।

मंगलवार को हुई जन-सुनवाई में कलेक्टर के संज्ञान में इन दोनों कर्मचारियों की शिकायतें सामने आईं थीं। जन-सुनवाई में कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने गूगल मीट के जरिए डबरा तथा जिले के अन्य समाधान केन्द्रों में बैठे मैदानी कर्मचारियों से चर्चा की और जन समस्याओं का निराकरण कराया।

आम जन की राजस्व और पुलिस से संबंधित समस्याओं के त्वरित समाधान के लिये ग्वालियर जिले में जन-सुनवाई का विस्तार किया गया है। जिसके तहत पुलिस बीट की तर्ज पर दो से तीन पटवारी हलकों के बीच समाधान केन्द्र स्थापित किए गए हैं। इन समाधान केन्द्रों पर पटवारी, संबंधित बीट के पुलिसकर्मी व कोटवार हर मंगलवार को बैठकर जन समस्याओं का निराकरण करते हैं। जिला स्तर से कलेक्टर सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा इनकी निगरानी की जाती है।

कलेक्ट्रेट की जन-सुनवाई में मंगलवार को लगभग एक सैंकड़ा फरियादी अपनी-अपनी समस्याओं को लेकर पहुँचे। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी आशीष तिवारी, अपर कलेक्टर इच्छित गढ़पाले व एचबी शर्मा सहित जिला प्रशासन के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने एक-एक कर सभी फरियादियों की समस्यायें सुनीं। साथ ही उनके निराकरण की रूपरेखा तय की।जन-सुनवाई में मदद की आस में आए लोगों के नि:शुल्क इलाज का इंतजाम भी कलेक्टर ने कराया। साथ ही आर्थिक रूप से कमजोर असहाय लोगों को विभिन्न प्रयोजन के लिये आर्थिक मदद भी दिलवाई।

Updated : 23 Nov 2021 2:09 PM GMT
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top